WhatsApp ने प्राइवेसी पॉलिसी पर दी सफाई, कहा- हम आपकी निजी चैट या कॉल नहीं देख सकते

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 12, 2021   19:40
  • Like
WhatsApp ने प्राइवेसी पॉलिसी पर दी सफाई, कहा- हम आपकी निजी चैट या कॉल नहीं देख सकते

मैसेंजिंग ऐप सिगनल व्हाट्सऐप का बेहतर विकल्प हो सकता है। व्हाट्सऐप की नई पॉलिसी के आने के बाद से ही यह काफी चर्चा में है। व्हाट्सऐप के को-फाउंडर Brian Acton ने व्हाट्सऐप को छोड़ने के बाद Signal App में 2017 में करीब 50 मिलियन डॉलर का इन्वेस्ट किया था।

इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp नई प्राइवेसी पॉलिसी लेकर आया है। व्हाट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी (WhatsApp New Privacy Policy) के मुताबिक एक यूजर का डाटा व्हाट्सऐप फेसबुक और उससे जुड़ी कंपनियों को शेयर करेगा। इस नई पॉलिसी के आने के बाद से ही एक बड़ा समूह अपनी डेटा प्राइवेसी को लेकर परेशान दिख रहा है। कई लोग अब व्हाट्सऐप (WhatsApp) का इस्तेमाल करना सुरक्षित नहीं समझ रहे। आलोचनाओं के बाद अब व्हाट्सऐप ने सफाई दी है। व्हाट्सऐप ने कहा कि नई सेवा शर्तों से निजी चैट प्रभावित नहीं होंगे। व्हाट्सऐप के हेड विल कैथार्ट ने कहा कि कंपनी ने अपनी नीति पारदर्शी होने और पीपुल-टू-बिनजेस के वैकल्पिक फीचर की जानकारी देने के लिए अपडेट की है। उन्होंने कहा कि एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के साथ, हम आपकी निजी चैट या कॉल नहीं देख सकते हैं और न ही। हम इस तकनीक और विश्व स्तर पर इसका बचाव करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

इसे भी पढ़ें: एप्स की सूची में पहले स्थान पर पहुंचा Signal एप ! डाउनलोड करने वालों की आई बाढ़

व्हाट्सऐप ने नई प्राइवेसी पॉलिसी में फ़ेसबुक और इससे जुड़ी कंपनियों के साथ अपने यूज़र्स का डेटा शेयर करने की बात का साफ़ तौर पर ज़िक्र किया है। नई प्राइवेसी पॉलिसी के मुताबिक व्हाट्सऐप अपने यूज़र्स का इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस (आईपी एड्रेस) फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम या किसी अन्य थर्ड पार्टी को दे सकता है। व्हाट्सऐप के पास अब बैट्री लेवल, सिग्नल, ब्राउजर, भाषा, टाइम ज़ोन फ़ोन नंबर, आदि जानकारियां भी इकट्ठा करेगा। आप वॉट्सऐप का ‘लोकेशन’ फ़ीचर यूज करें या न करें, आपके आईपी एड्रेस, फ़ोन नंबर, देश और शहर आदि की जानकारी व्हाट्सऐप के पास मौजूद होगी। व्हाट्सऐप ने भारत में पेमेंट सेवा शुरू कर दी है और इस फीचर का इस्तेमाल करने पर आपके पेमेंट अकाउंट और ट्रांज़ैक्शन से जुड़ी जानकारियां इकठ्ठा की जाएगी।

अगर आप अपने मोबाइल से ऐप डिलीट करते हैं और ‘माई अकाउंट’ सेक्शन में जाकर ‘इन-ऐप डिलीट’ का ऑप्शन नहीं चुनते हैं तो आपका पूरा डेटा कंपनी के पास रह जाएगा। 

आइए जानते हैं 2 ऐसे पॉप्युलर विकल्प के बारे में जो WhatsApp का अच्छा रिप्लेसमेंट हैं। 

सिग्नल

मैसेंजिंग ऐप सिगनल व्हाट्सऐप का बेहतर विकल्प हो सकता है। व्हाट्सऐप की नई पॉलिसी के आने के बाद से ही यह काफी चर्चा में है। व्हाट्सऐप के को-फाउंडर Brian Acton ने व्हाट्सऐप को छोड़ने के बाद Signal App में 2017 में करीब 50 मिलियन डॉलर का इन्वेस्ट किया था। 2021 के शुरू होते ही Signal का इस्तेमाल करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। कंपनी का दावा है कि Signal आपको कोई डाटा शेयर या स्टोर नहीं करता।

इसे भी पढ़ें: Whatsapp ला रहा यह नए 3 फीचर्स, बदल जाएगा आपका चैटिंग एक्सपीरियंस

टेलीग्राम 

टेलीग्राम मैसेंजिंग ऐप के रूप में काफी पॉपुलर हो चुका है। यह भी एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन ऑफर करता है। इसमें मैसेजिंग एप्लिकेशन में इन-ऐप बॉट, ऑडियो और वीडियो भेजने की भी सुविधा है। इसके जरिये मल्टीमीडिया फाइल शेयरिंग का ऑप्शन भी मौजूद है। इसे आप मोबाइल के साथ ही डेस्कॉप और टैब पर भी एक्सेस कर सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




जानें क्या है सिग्नल एप्प, वॉट्सएप्प से क्यों है बेहतर ?

  •  शैव्या शुक्ला
  •  फरवरी 19, 2021   11:50
  • Like
जानें क्या है सिग्नल एप्प, वॉट्सएप्प से क्यों है बेहतर ?

सिगन्ल एक पॉपुलर मैसेजिंग एप्प है, जो एंड्रॉयड, विंडोज़, आईफोन, मैक और लिनक्स जैसे ऑप्रेटिंग सिस्टम्स पर काम करता है। अन्य मैसेजिंग एप्स की तरह इसके ज़रिये भी आप मैसेज, वीडियो, फोटो या लिंक्स भेज सकते हैं, और वीडियो या ऑडियो कॉल्स कर सकते हैं।

जब से वॉट्सएप्प की नई डेटा पॉलिसी की खबर आई है, तबसे यूज़र्स में काफी नाराज़गी है। यही वजह है कि यूज़र्स वॉट्सएप्प के ज़रिये अपना डेटा शेयर करने से बच रहें हैं। और दूसरा मैसेजिंग एप्प की तरफ बढ़ रहें हैं, जिससे सिग्नल और टेलीग्राम एप्प तेज़ी से डाउनलोड होने लगे हैं। रिपोर्टस के अनुसार देशभर में पिछले कुछ दिनों में 25 लाख से अधिक यूज़र्स ने वॉट्सएप्प को छोड़ सिग्नल को डाउनलोड किया है़। वहीं, दूसरे नंबर पर टेलीग्राम मैसेजिंग एप्प को करीब 16 लाख यूज़र्स डाउनलोड कर चुके हैं। हालांकि वॉट्सएप्प की यह नई पॉलिसी 15 मई से लागू होनी है। आज सिग्नल एप्प, एप्पल के एप्प स्टोर पर वॉट्सएप्प को पछाड़ कर देश के टॉप फ्री एप्प में अपनी जगह बना चुका है। यह फ्री एप्स की कैटिगरी में एप्पल प्ले स्टोर पर पहले स्थान पर, वहीं गूगल प्ले स्टोर पर चौथे स्थान पर है।

इसे भी पढ़ें: Whatsapp की छुट्टी करेगा मेड इन इंडिया मैसेजिंग ऐप 'संदेश'

क्या है सिग्नल एप्प?

सिगन्ल एक पॉपुलर मैसेजिंग एप्प है, जो एंड्रॉयड, विंडोज़, आईफोन, मैक और लिनक्स जैसे ऑप्रेटिंग सिस्टम्स पर काम करता है। अन्य मैसेजिंग एप्स की तरह इसके ज़रिये भी आप मैसेज, वीडियो, फोटो या लिंक्स भेज सकते हैं, और वीडियो या ऑडियो कॉल्स कर सकते हैं। साथ ही, हाल ही में ग्रुप वीडियो कॉलिंग का फीचर भी आ गया है, जिसके ज़रिये आप एक साथ 150 लोगों के साथ वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं। यह चैटिंग प्लैटफॉर्म विज्ञापन मुक्त है, जो कि प्राइवेसी के मामले में अच्छा है। 

क्या है इस एप्प में खास?

सिग्नल एप्प की खासियत है कि इसमें डाटा लिंक्ड-टू-यू फीचर दिया गया है़, जिसे इनेबल करने के बाद कोई भी चैटिंग के दौरान उस चैट का स्क्रीनशॉट नहीं ले पाएगा यानी आपकी चैट पूरी तरह सुरक्षित रहेगी। साथ ही, इसमें भी मैसेजिंग ग्रुप तैयार करने का विकल्प है, जिसके लिए आपको यूज़र्स को पहले रिकवेस्ट भेजना जरूरी होगा़। बिना अनुमति के किसी भी यूज़र्स को ग्रुप से जोड़ा नहीं जा सकता है। इसकी एक खासियत यह है कि यह आपके पुराने मैसेज को ऑटोमेटिकली गायब कर देता है। इसके लिए यूज़र्स एक टाइम सेट करेंगे, जो 10 सेकेंड से लेकर एक हफ्ते तक का होगा। सेट टाइम के दौरान आपके मैसेज अपने आप डिलीट हो जाएंगे। आपको बता दें कि वॉट्सएप्प ने भी हाल ही में यह फीचर डिसअपियरिंग नाम से पेश किया था।

इसे भी पढ़ें: हेलमेट कंट्रोल करेगा आपकी मोटरसाइकिल, बाइक राइडिंग हुई सेफ

क्या है इस एप्प की प्राइवेसी पॉलिसी?

एक्सपर्टेस के अनुसार सिग्नल एप्प मोबाइल नंबर के अलावा कोई और जानकारी नहीं मांगता है़। इस मोबाइल नंबर के ज़रिये वह आपकी पहचान भी नहीं उजागर करता है। इसकी प्राइवेसी पॉलिसी में यह भी शामिल है कि अगर आप सिग्नल एप्प पर किसी अन्य वेबसाइट की सेवाओं का उपयोग करते हैं, तो सिग्नल की बजाय उस वेबसाइट की शर्तें लागू होंगी। सिग्नल का इस्तेमाल करने की न्यूनतम आयु 13 साल है। साथ ही, यह एप्प आपके फोन की कॉन्टेक्ट लिस्ट को बताता है कि आपके कौन से कॉन्टेक्ट सिग्नल का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसमें रिलेय कॉल्स का फीचर भी है, जिसके ज़रिये आपका कॉल सिग्नल सर्वर से जाता है, और सामने वाले कॉन्टैक्ट को आपके आईपी अड्रेस का पता नहीं चलता है।

वॉट्सएप्प से क्यों है अलग?

कंपनी का दावा है कि उसकी तरफ से यूज़र के डाटा का, नहीं के बराबर इस्तेमाल किया जाता है़। यह यूज़र्स के असुरक्षित बैकअप को क्लाउड पर भी नहीं भेजता़ साथ ही एनक्रिप्टेड डाटाबेस को आपके फोन में सुरक्षित रखता है़। साथ ही एप्प की सुरक्षा को अपने हिसाब से तय करने का विकल्प दिया गया है़।

- शैव्या शुक्ला







Whatsapp ला रहा यह नए 3 फीचर्स, बदल जाएगा आपका चैटिंग एक्सपीरियंस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 7, 2021   17:05
  • Like
Whatsapp ला रहा यह नए 3 फीचर्स, बदल जाएगा आपका चैटिंग एक्सपीरियंस

Whatsapp पर जो तीन प्रमुख फीचर्स आने वाले हैं उनमें से सबसे पहला मल्टीपल पेस्ट है। WABetaInfo के अपडेट आने के बाद आप एक साथ कई फोटो-वीडियो को कॉपी करके दूसरे चैट में पेस्ट कर सकेंगे। फिलहाल फोटो-वीडियो को कॉपी करने के लिए कोई फीचर मौजूद नहीं है।

सबसे पॉप्युलर और सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप Whatsapp समय-समय पर नए-नए फीचर्स जोड़ता रहता है। साल 2021 शुरू हो गया है और इस नए साल में व्हाट्सऐप 3 नए फीचर्स लेकर आने वाला है। पहला फीचर मल्टीपल पेस्ट है, ऑडियो-वीडियो कॉलिंग से जुड़ा और तीसरा फीचर WhatsApp Mute Video है। ये 3 नए फीचर्स आपको जल्द ही व्हाट्सऐप पर देखने को मिल सकते हैं। इन फीचर्स के आने के बाद व्हाट्सऐप में आपका चैटिंग एक्सपीरियंस काफी बदल जाएगा और इससे आपको काफी फायदा होने वाला है। सबसे पहले एंड्रॉयड यूजर्स इन फीचर्स का फायदा उठा पाएंगे और उसके बाद IOS और अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम में भी ये फीचर्स जोड़ दिए जाएंगे। आइये जानते हैं क्या है ये 3 फीचर्स..

इसे भी पढ़ें: व्हाट्सएप से ऐसे करें पेमेंट, मगर रहें सावधान

1. मल्टीपल पेस्ट 

Whatsapp पर जो तीन प्रमुख फीचर्स आने वाले हैं उनमें से सबसे पहला मल्टीपल पेस्ट है। WABetaInfo के अपडेट आने के बाद आप एक साथ कई फोटो-वीडियो को कॉपी करके दूसरे चैट में पेस्ट कर सकेंगे। फिलहाल फोटो-वीडियो को कॉपी करने के लिए कोई फीचर मौजूद नहीं है।

2. ऑडियो-वीडियो कॉलिंग 

आप सोच रहे होंगे कि ये ऑडियो-वीडियो कॉलिंग क्या है। दरअसल इस फीचर के आने के बाद आप फोन की तरह लैपटॉप और डेस्कटॉप से भी व्हाट्सऐप पर वीडियो और ऑडियो कॉल कर सकेंगे।। फिलहाल इसकी टेस्टिंग चल रही है। लेकिन बहुत जल्द ये फीचर आपको देखने को मिल सकता है। आपको बता दें कि अभी Whatsapp Web से सिर्फ मैसेज और फाइल्स सेंड की जा सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: व्हाट्सएप की 5 उपयोगी ट्रिक्स जो इसे आसान बनाती हैं

3. व्हाट्सऐप म्यूट वीडियो

व्हाट्सऐप पर सबसे अलग फीचर म्यूट वीडियो होगा, इस फीचर पर कंपनी काम कर रही है। इस फीचर के आने के बाद आप किसी को वीडियो भेजने से पहले उसे म्यूट कर पाएंगे। इसके लिए बस आपको वीडियो पर दिए गए म्यूट ऑप्शन पर टैप करना होगा और फिर आप म्यूट वीडियो भेज सकेंगे। WABetaInfo के मुताबिक म्यूट वीडियो फीचर को बीटा अपडेट में देखा गया है। इस फीचर में वीडियो लेंथ के नीचे एक वॉल्यूम आइकन है, जिस पर टैप करके वीडियो वॉल्यूम को कम-ज्यादा या म्यूट किया जा सकता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




व्हाट्सएप से ऐसे करें पेमेंट, मगर रहें सावधान

  •  मिथिलेश कुमार सिंह
  •  नवंबर 7, 2020   15:59
  • Like
व्हाट्सएप से ऐसे करें पेमेंट, मगर रहें सावधान

व्हाट्सएप की पैरंट कंपनी फेसबुक ने यूपीआई पेमेंट शुरू करने के लिए भारत सरकार से इजाजत मांगी थी। एक तरफ जहां पेटीएम, फोनपे, गूगलपे जैसी कंपनियां डिजिटल पेमेंट (यूपीआई) में उतर कर अपना एक अच्छा खासा कस्टमर बेस तैयार कर चुकी हैं।

विश्व भर में सर्वाधिक इस्तेमाल किया जाने वाला मैसेंजर 'व्हाट्सएप', भारत में भी उतना ही लोकप्रिय है। इसकी लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि भारत में इसके आसपास कोई दूसरा मैसेजिंग ऐप नहीं ठहरता। भारत में तकरीबन 40 करोड़ के आसपास यूजर व्हाट्सअप का इस्तेमाल करते हैं। कहा जा सकता है कि प्रत्येक स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति सामान्यतः व्हाट्सएप भी इस्तेमाल करता ही है।

इसे भी पढ़ें: खेल-खेल में बच्चे इस तरह सीख सकते हैं कोडिंग

बहरहाल, अपनी इसी लोकप्रियता का फायदा उठाने के लिए व्हाट्सएप की पैरंट कंपनी फेसबुक ने यूपीआई पेमेंट शुरू करने के लिए भारत सरकार से इजाजत मांगी थी। एक तरफ जहां पेटीएम, फोनपे, गूगलपे जैसी कंपनियां डिजिटल पेमेंट (यूपीआई) में उतर कर अपना एक अच्छा खासा कस्टमर बेस तैयार कर चुकी हैं, वहीं व्हाट्सएप को इसकी इजाजत मिलने में देरी पर सवाल भी उठ रहे थे। हालाँकि इसमें देरी वाजिब ही थी, क्योंकि व्हाट्सएप वर्तमान में एक बहुत बड़ा मैसेजिंग एप बन चुका है और इससे पेमेंट सुविधा होने पर, बड़ी मात्रा में इससे फ्रॉड होने की भी गुंजाइश थी।

जो लोग बहुत ज्यादा शिक्षित नहीं हैं, तकनीकी रूप से अवेयर नहीं हैं, वह भी करोड़ों की संख्या में व्हाट्सएप इस्तेमाल करते हैं। संभवतः इसलिए एनपीसीआई, अर्थात नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया इसे लेकर हर पहलू की जांच-पड़ताल कर रही थी। हालाँकि, व्हाट्सएप यूपीआई बेस्ट पेमेंट की टेस्टिंग कंपनी पहले ही कर चुकी थी और यह सक्सेज रहा था। बावजूद इसके कंपनी को इसका लाइसेंस मिलने में तकरीबन 3 साल का इंतजार करना पड़ा। बहरहाल अब जबकि इसे पेमेंट की इजाजत मिल चुकी है, तो आइए जानते हैं कि इससे पेमेंट किस प्रकार भेजी जा सकती है-

इसके लिए सर्वप्रथम, एप्पल के ऐप स्टोर या गूगल के एंड्राइड प्ले स्टोर से व्हाट्सएप ऐप अपडेट कर लें। तत्पश्चात, आप व्हाट्सएप की सेटिंग्स में जाएँ और वहां आपको पेमेंट का ऑप्शन दिख जायेगा। इसके बाद पेमेंट के सेक्शन में आप न्यू पेमेंट (New Payment) एवं ऐड न्यू पेमेंट (Add New Payment) का विकल्प दिखेगा. यहाँ पर आप ऐड न्यू पेमेंट मेथड सेलेक्ट करें। तत्पश्चात आपको अपना बैंक सेलेक्ट करना है। यहाँ बैंक सेलेक्ट करते ही आपका अकाउंट वेरिफाई होगा। एसएमएस (SMS) के ऑप्शन को आपको सेलेक्ट करना है। ध्यान रखने वाली बात यह है कि आपका व्हाट्सअप नंबर वही होना चाहिए, जिससे आपका बैंक अकाउंट लिंक है। अलग नंबर होने पर वेरिफिकेशन फेल हो जायेगा। अंत में आप यूपीआई (UPI) पिन सेटअप करते हैं, जो मैनडेट्री है।

यहाँ अकाउंट सेटअप का आपका कार्य पूरा होता है। फिर आपको व्हाट्सएप पर किसी भी कांटेक्ट को 3 सेकंड तक प्रेस करके या उसे टैप करके सेलेक्ट करना होगा और फिर अटैचमेंट आइकॉन पर जाते ही पेमेंट का ऑप्शन नज़र आएगा, जहाँ अमाउंट डालें और भेज दें किसी भी यूपीआई इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति को।

तो यह था व्हाट्सएप से पेमेंट भेजने का मेथड, किन्तु इसमें आपको कुछ बातों ध्यान रखने की आवश्यकता है, जो आपको पेमेंट फ्रॉड से बचा सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: गूगल की पांच महत्वपूर्ण टिप्स जो आपको अवश्य जानना चाहिए

सबसे पहले अपने मोबाइल में व्हाट्सअप पेमेंट मॉड एक्टिवेट करने से पहले मोबाइल का स्क्रीन लॉक बदल लें। कई बार ऐसा होता है कि लोग साधारण लॉक रखते हैं, जो उनके मित्रों-सम्बन्धियों को पता होता है। लोग एक-दूसरे का व्हाट्सएप भी चेक कर लेते हैं, पर अब जबकि मामला पेमेंट का है तो मोबाइल का कोड और व्हाट्सएप एप्लीकेशन खोलने का कोड बेहद सीक्रेट रखा जाना चाहिए।

यूपीआई पिन कठिन नम्बर्स रखें।

सामान्य तौर पर कई लोग अपना डेट ऑफ़ बर्थ या 1234 जैसे साधारण पिन रख देते हैं, जिसके हैक होने का खतरा बना रहता है, अतः कुछ ऐसे नम्बर डालें, जिसे साधारण रूप से गेस न किया जा सके।

स्पैमिंग / फिशिंग से रहें सावधान 

इस वजह से अच्छे खासे लोग ऑनलाइन फ्रॉड के शिकार बनते हैं। यकीन मानिए, अगर आप किसी भी अनजान शख्स की अच्छी बातों पर भी यकीन करते हैं, तो आपके धोखा खाने के चांस सर्वाधिक हैं, खासकर पेमेंट लेने और देने, दोनों मामलों में।

जी हाँ! फिशिंग का मतलब ही यही होता है कि चारा डालकर मछली को फंसाया जाए।

तो बेशक आपको कोई कहे कि अमुक कोड को स्कैन करें और पाएं इतना कैश बैक या अमुक चीज पर छूट पाएं।

कुछ लोग तो यहाँ तक बोलते हैं कि कोड को स्कैन करें और पाएं हजारों के इनाम। अब पाना तो दूर, ऐसी स्कैनिंग से लोग पैसे गँवा बैठते हैं और इसके कई उदाहरण मौजूद हैं. 

वास्तव में फिशिंग में रोज नयी नयी टेक्निक्स हैकर्स द्वारा ढूंढ ली जा रही है और सावधान न रहने पर लोग इसके शिकार भी खूब बन रहे हैं। 

उदाहरण के लिए मान लीजिये कि आपने ओएलएक्स जैसे किसी प्लेटफ़ॉर्म पर पुराना सामान बेचने को डाल रखा है और कोई खरीददार आता है और कहता है कि मैं आपका सामान खरीद लूँगा और अभी बुक करने के लिए आपको आधी पेमेंट दे देता हूँ।

आप खुश हो जायेंगे कि आपका पुराना सामान निकल जायेगा, किन्तु उधर से आपके व्हाट्सअप पर एक कोड आएगा और कहा जायेगा कि उसे स्कैन करते ही आपके अकाउंट में पैसे जमा हो जायेंगे। अब आपने जरा भी लापरवाही की और आप देखेंगे कि व्हाट्सअप पेमेंट के माध्यम से आपके अकाउंट से पैसे का फ्रॉड हो चुका है।

इसे भी पढ़ें: क्या होता है ईआरपी (ERP), क्यों होता है इस्तेमाल?

ऐसे में आपको ऑनलाइन पूरी सजगता बरतने की ज़रुरत है और पेमेंट के मामले में किसी भी व्यक्ति पर भरोसा करने से बचने की ज़रुरत है।

न केवल व्हाट्सएप, बल्कि तमाम डिजिटल पेमेंट मेथड्स से आपको अतिरिक्त सावधान रहने की ज़रुरत है, तभी आप डिजिटल क्रांति का फायदा उठा पाएंगे और सावधानी के साथ ही नए पेमेंट मेथड्स का प्रयोग करने की आवश्यकता भी है।

- मिथिलेश कुमार सिंह







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept