झीलों के आसपास घूमने का शौक रखते हैं तो देश की प्रसिद्ध झीलों के बारे में जान लें

झीलों के आसपास घूमने का शौक रखते हैं तो देश की प्रसिद्ध झीलों के बारे में जान लें

नैनीताल झीलों का शहर है। यहां शहर के बीचोंबीच बहती पहाड़ियों से घिरी नैनी झील यहां का मुख्य आकर्षण है जो नैनीताल के सौंदर्य को और बढ़ाता है। झील के एक किनारे पर तल्लीताल व दूसरे पर मल्लीताल है।

दूर तक फैली हुई नयनाभिराम झीलों का सौंदर्य सभी को भाता है। झील के किनारे पहुंचकर शहरी कोलाहल से दूर एकांत व प्राकृतिक दृश्यों को देखकर मन में उत्साह की तरंगें उठने लगती हैं और काफी हद तक मन का तनाव भी दूर होता है। बच्चे हों या व्यस्क, पति−पत्नी, प्रेमी युगल या फिर पूरा परिवार, सभी कहीं सैर के दौरान झील के किनारे बैठना या नौका विहार करना चाहते हैं। आइए आपको देश के विभिन्न स्थानों की कुछ मुख्य झीलों के बारे में बताते हैं।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल की इस खूबसूरत जगह की डरावनी कहानी पढ़कर काँप जाएगी आपकी रूह

- नैनीताल झीलों का शहर है। यहां शहर के बीचोंबीच बहती पहाड़ियों से घिरी नैनी झील यहां का मुख्य आकर्षण है जो नैनीताल के सौंदर्य को और बढ़ाता है। झील के एक किनारे पर तल्लीताल व दूसरे पर मल्लीताल है। झील के साथ−साथ चलने वाली सड़क पर लोग मस्ती से घूमने−फिरने, खाने−पीने, बातें करने व घुड़सवारी का आनंद उठाते हैं। झील के किनारे पर नैना देवी का मंदिर भी है।

- झीलों की एक नगरी उदयपुर भी है। शहर के कोलाहल से कहीं दूर फतेहसागर झील को 1678 ईं. में महाराणा जयसिंह ने बनवाया तथा महाराणा फतेह सिंह ने 1,800 फीट लम्बा बांध बनवाया। इसके किनारों पर खूबसूरत पत्थर लगे हुए हैं। इस झील में मोटर बोट या अन्य नावों द्वारा अरावली पर्वत के मनोहारी दृश्यों का आनंद लिया जा सकता है। शाम के समय जगमगाती रोशनी या चांदनी रात में झील के शांत जल की खूबसूरती और भी बढ़ जाती है।

- झीलों के सैर की बात चले और ओडिशा राज्य के पुरी को भुला दिया जाए, ऐसा संभव नहीं है। पुरी के दक्षिण−पश्चिम में स्थित खूबसूरत चिल्का लेक घूमना नहीं भूलना चाहिए क्योंकि यह भारत की सबसे बड़ी झील है और 1,100 वर्ग किलोमीटर में फैली है। यह बंगाल की खाड़ी का एक हिस्सा है और अनगिनत द्वीप और पहाड़ियों से युक्त मनोहारी झील है।

- अजमेर में मौजूद पुष्कर झील भी आप जा सकते हैं। पुष्कर एक स्मरणीय स्थल है। यहां सूर्यास्त का दृश्य, लोक संस्कृति, रेगिस्तानी मिट्टी, मनोरम पुष्कर झील व पुष्कर मेला, भगवान ब्रह्मा का प्राचीनतम मंदिर आदि देखने को मिलेंगे। पुष्कर झील यहां का मुख्य आकर्षण है। अर्धचंद्राकार आकृति में बनी झील के चारों ओर सीढ़ियों वाले 52 घाट और मंदिर बने हुए हैं। इन घाटों से झील के किनारे−किनारे पूरी झील का चक्कर लगाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: साहसिक खेल है जिपलाइनिंग, खूब लुत्फ उठाते हैं पर्यटक

- महाराष्ट्र में सहयाद्रि पर्वतमाला की गोद में बसे महाबलेश्वर में स्थित वेण्णा झील अपने अप्रतिम सौंदर्य के लिए प्रसिद्ध है। इस झील में नौका विहार का भी अलग ही मजा है। यहां पैडल बोट और मोटरबोट किराए पर मिलते हैं। झील के किनारे मुंबई के चौपाटी का लुत्फ भी उठाया जा सकता है। यहां शाम का नजारा बेहद खूबसूरत होता है और घुड़सवारी का आनंद भी यहां लिया जा सकता है।

- दक्षिण भारत के खूबसूरत पहाड़ी स्थल कोडैकनाल में स्थित झीलें भी खूबसूरत हैं। पूरा कोडैकनाल सिर्फ दो−तीन किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। यहां के झरनों और झीलों का मनोहारी दृश्य किसी भी पर्यटक को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है। खासकर कोडैकनाल की झील अपनी सितारनुमा बनावट और सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। इस झील में नौकाविहार व झील के किनारे घुड़सवारी का मजा लिया जा सकता है। कोडैकनाल में एक विलक्षण किस्म का पौधा कुरिंजी है जिसमें 12 वर्ष में फूल खिलते हैं।

- प्रीटी