आयरलैंड की खूबसूरती के साथ-साथ वहां के संगीत का भी है अलग एहसास

By सुषमा तिवारी | Publish Date: Mar 23 2019 5:21PM
आयरलैंड की खूबसूरती के साथ-साथ वहां के संगीत का भी है अलग एहसास
Image Source: Google

आयरलैंड में संग्रहालय और कला दीर्घाएँ बड़ी संख्या में है। सबसे ज्यादा गर्मियों के महीने में यहाँ बड़ी संख्या में संगीत और कला से सम्बन्धित कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। सेल्टिक म्यूजिक यहाँ का पारम्परिक संगीत है, जो आयरिश संगीत का एक भाग है।

जब बात भारत से बाहर घूमने की होती है तो बस लोग गिने चुने ही ऑप्शन बताते है, थाइलैंड, मलेशिया, लंदन, बाली आदि… लेकिन हम आपको उन ऑप्शन से अलग एक ऐसी जगह के बारे में बताएंगे जहां का एहसास आपको हमेशा याद रहेगा। सालों पहले ब्रिटेन से अलग हुआ आयरलैंड एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां जाकर मानो ऐसा लगता है कि यहीं स्वर्ग है। 


कपल के लिए है खास
 
ये जगह सोलो और कपल के साथ जाने वालो के लिए भी एक दम परफेक्ट है। यहां पर सुकून है, मस्ती भी है, रहने और खाने के लिए जायकेदार आइटम्स भी है। यहां के खाने का स्वाद आपको लंबे समय तक याद रहेगा। 
 
कपल के लिए आयरलैंड काफी रोमेंटिक प्लेस है क्योकि यहां एक ही जगह पर दुनिया के अलग-अलग रंग देखने को मिल जाते हैं। खास बात यह भी है कि यहां बहुत अधिक भीड़ नहीं होती और देशों के मुकाबले।


 
आयरलैंड की खास जगह जहां की सैर करना है जरूरी, वरना सफर रह जाएगा अधूरा…
 
बॉयने वैली (Boyne Valley)


रिंग ऑफ केरी (Ring of Kerry)
द क्लिफ ऑफ मोहर (The Cliffs of Moher)
अरण द्वीप (Aran Islands)
द बूरेन (The Burren )
आयरलैंड में संग्रहालय और कला दीर्घाएँ बड़ी संख्या में है। सबसे ज्यादा गर्मियों के महीने में यहाँ बड़ी संख्या में संगीत और कला से सम्बन्धित कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। सेल्टिक म्यूजिक यहाँ का पारम्परिक संगीत है, जो आयरिश संगीत का एक भाग है। विश्व मंच पर आयरिश संगीत को पहचान दिलाने में जेम्स गालवे का सहयोग अतुलनीय है। कला में सेल्टिक आर्ट एक पुरानी कला है जिसमें रेखाओं की सिमेट्री बनाई जाती है जिसमें सेल्टिक क्रास, नॉटवर्क डिजायन, सेल्टिक ट्री ऑफ लाइफ, स्पाइरल डिजायन, पार्टकुलिस डिजायन आदि है जो किसी न किसी मान्यता से जुड़ी हुई है।
 
- सुषमा तिवारी

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Story

Related Video