23 मई के लिए कांग्रेस का एक्शन प्लान, भाजपा एक कदम भी चूकी तो विपक्ष बनाएगी सरकार

By रेनू तिवारी | Publish Date: May 9 2019 11:12AM
23 मई के लिए कांग्रेस का एक्शन प्लान, भाजपा एक कदम भी चूकी तो विपक्ष बनाएगी सरकार
Image Source: Google

विपक्ष बस भाजपा की एक चूक के इंतजार में बैठा है। अगर बीजेपी बहुमत से दूर रहती है तो गठबंधन सरकार बनाने की संभावनाओं को लेकर विपक्षी दलों में करीबी सामंजस्य की रणनीति भी शामिल है।

लोकसभा चुनाव के 7 चरणों में से 5 चरणों की वोटिंग हो चुकी हैं, अब बस दो फेस की वोटिंग बाकी है। 12 मई को छठें चरण के लिए मतदान होने हैं इसके अंतर्गत दिल्ली की सातों सीट पर मतदान होगें। मतदान से पहले दिल्ली की राजनीति में भी गर्माहट देखने को मिली। गर्माहट की शुरूआत रोड़ शो के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवल को थप्पड़ पड़ने से हुई। जिसके बाद दिल्ली में सियासत छिड़ गई। दिल्ली के चुनाव से आगे बढ़े तो जानकारी मिली कि सियासत तो लुटियन जोन में भी गर्म है। विपक्ष बस भाजपा की एक चूक के इंतजार में बैठा है। अगर बीजेपी बहुमत से दूर रहती है तो गठबंधन सरकार बनाने की संभावनाओं को लेकर विपक्षी दलों में करीबी सामंजस्य की रणनीति भी शामिल है।

इसे भी पढ़ें: देश में जातिवादी व्यवस्था टूट रही है और देश विकास की नई इबारत लिखने में जुटा: हेमा 

विपक्षी नेताओं के बीच लगातार बैठक चल रही हैं, और इस बैठक में ये तलाशने की कोशिश की जा रही है कि कैसे एनडीए की चूक का फायदा उठाया जाए। खबरे है कि बैठकों में रणनीति ये भी तय की जा रही है कि सरकार बनाने में अगर बीजेपी एक भी कदम पीछे रहती है तो कैसे विपक्ष को एकजुट होना हैं। भले ही अभी महागठबंधन के हालात अच्छे नहीं है लेकिन नरेंद्र मोदी को सत्ता से हटाने के लिए सभी तरह की कोशिशें तेज हैं। 

इसे भी पढ़ें: राजीव गांधी के नाम पर चुनाव लड़ेंगे कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय



इस चर्चा के दौरान आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री टीडीपी नेता चन्द्रबाबू नायडू इस समय सभी विपक्षी दल और कांग्रेस के बीच ताल- मेल बैठाने का काम कर रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से बुधवार को टीडीपी नेता चन्द्रबाबू नायडू की मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। इस मुलाकात में ये योजना बनाई गई है कि 19 मई को आखिरी चरण के चुनाव के बाद और 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले यानी 20 से 22 मई के बीच सभी विपक्षी दल की बड़े पैमाने पर मीटिंग करने पर चर्चा हुई है। इस मीटिंग के लिए टीडीपी नेता चन्द्रबाबू नायडू एक पुल की तरह कार्य करेंगे कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों के बीच तालमेल बैठाने का। 

चन्द्रबाबू नायडू ने अपना कांग्रेस के साथ अन्य दलों के तालमेल का काम शुरू कर दिया है। राहुल के साथ मुलाकात के बाद टीडीपी नेता चन्द्रबाबू नायडू कोलकाता के लिए रवाना हो गये। जहां वो ममता बनर्जी के साथ रैली का मंच साझा करेंगे। चन्द्रबाबू नायडू के समानांतर तेलंगाना के मुख्यमंत्री और टीआरएस चीफ के. चन्द्रशेखर राव ने सोमवार को केरल के मुख्यमंत्री और सीपीएम के दिग्गज नेता पी. विजयन से मुलाकात भी की थी। राव ने कर्नाटक के सीएम और जेडीएस नेता एच. डी. कुमारस्वामी से भी बातचीत की। टीआरएस और सीपीएम की मुलाकात विपक्ष के लिए भारी पड़ सकती हैं। क्योंकि कांग्रेस को ये अंदाजा लग गया हैं कि टीआरएस भाजपा के साथ भी जा सकती हैं। अब नायडू पहले ही बातचीत करके उन्हें अपने पक्ष में करने का प्रयास करेंगे। राजनीति दलों के बीच घट रही इन सभी घटनाओं से ये अंदाजा लग रहा है कि अगर भाजपा चूकी तो विपक्ष बीना देरी के सरकार बनाने का दावा पेश कर देगा। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video