करवा चौथ की पूजा में जरूर होनी चाहिए ये चीज़ें, इन सामानों के बिना अधूरा है सोलह श्रृंगार

करवा चौथ की पूजा में जरूर होनी चाहिए ये चीज़ें, इन सामानों के बिना अधूरा है सोलह श्रृंगार

करवा चौथ के दिन महिलाएँ सूर्योदय से ही निर्जला व्रत रखती हैं और रात में चाँद देखने के बाद ही अपने अपना व्रत खोलती हैं। इस दिन महिलाऐं सजती-संवरती हैं और सोलह श्रृंगार करती हैं। करवा चौथ से काफी दिनों पहले से ही महिलाऐं इस दिन की तैयारियां शुरू कर देती हैं।

हर सुहागिन महिला के लिए करवा चौथ का दिन बेहद खास होता है। यह दिन पति-पत्नी के अटूट प्रेम को समर्पित है। इस दिन सुहागिन महिलाऐं अपने पति के लिए व्रत रखती हैं और उनकी लंबी उम्र और सुखी जीवन की कामना करती हैं। इस साल करवा चौथ 24 अक्टूबर (रविवार) को है। करवा चौथ के दिन महिलाएँ सूर्योदय से ही निर्जला व्रत रखती हैं और रात में चाँद देखने के बाद ही अपने अपना व्रत खोलती हैं। इस दिन महिलाऐं सजती-संवरती हैं और सोलह श्रृंगार करती हैं। करवा चौथ से काफी दिनों पहले से ही महिलाऐं इस दिन की तैयारियां शुरू कर देती हैं। देश के अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग मान्यताओं और परंपराओं के अनुसार करवा चौथ की पूजा होती है। करवा चौथ के दिन भगवान शिव-पार्वती, कार्तिकेय और गणेश के साथ चंद्रमा की विशेष रूप से पूजा की जाती है। करवा चौथ के दिन पूजा में कुछ विशेष पूजन सामग्रीयों का होना बेहद जरूर है। आइए जानते हैं कि करवा चौथ में क्या पूजन सामग्री जरूरी होती है और सोलह श्रृंगार कौन से हैं - 

सोलह श्रृंगार में सिर से लेकर पैर तक कुछ ना कुछ सुहाग की निशानी शामिल होती है -

सिंदूर

बिंदी मंगलसूत्र

मांग टीका

काजल

नथनी

कर्णफूल/ईयररिंग

मेंहदी

कंगन या चूड़ी

लाल रंग के वस्त्र

बिछिया

पायल

कमरबंद

अंगूठी

बाजूबंद

गजरा


करवा चौथ पूजा थाली में होनी चाहिए ये सामग्रियां

करवा चौथ माता की पूजा के लिए उनकी तस्वीर 

पूजा के लिए अबीर, गुलाल, कुमकुम, हल्दी, मेहंदी, कलावा, जनेउ जोड़ा, फूल, अक्षत (चावल), चंदन, इत्र, अगरबत्ती और नारियल 

करवा चौथ की पूजा के लिए सींक और करवा

करवा चौथ पर चंद्रमा के दर्शन के लिए छलनी 

फल-फूल

सुहाग का सामान

दीपक 

मिठाई

- प्रिया मिश्रा