Unlock-5 का 120वां दिन: सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला पांचवां देश बन गया है भारत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   20:01
Unlock-5 का 120वां दिन: सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला पांचवां देश बन गया है भारत

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि भारत ने छह दिनों में ही दस लाख लोगों का टीकाकरण कर लिया जबकि अमेरिका ने 10 दिनों, स्पेन ने 12 दिनों, इजराइल ने 14 दिनों, ब्रिटेन ने 18 दिनों, इटली ने 19 दिनों, जर्मनी ने 20 दिनों और यूएई ने 27 दिनों में इतने लोगों का टीकाकरण किया।

नयी दिल्ली। भारत 26 जनवरी तक 20.3 लाख लोगों को कोविड-19 टीके की खुराक देकर सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला पांचवां देश बन गया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि बृहस्पतिवार दोपहर तक 25 लाख से स्वास्थ्यकर्मियों को टीके दिए गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि भारत ने छह दिनों में ही दस लाख लोगों का टीकाकरण कर लिया जबकि अमेरिका ने 10 दिनों, स्पेन ने 12 दिनों, इजराइल ने 14 दिनों, ब्रिटेन ने 18 दिनों, इटली ने 19 दिनों, जर्मनी ने 20 दिनों और यूएई ने 27 दिनों में इतने लोगों का टीकाकरण किया।

भूषण ने कहा, ‘‘26 जनवरी तक के विश्व के आंकड़ों के मुताबिक, 16 जनवरी को राष्ट्रव्यापी टीकाकरण की शुरुआत के बाद 20.3 लाख लोगों को टीका देकर कर भारत सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला पांचवां देश बन गया है। सबसे महत्वपूर्ण पहलू है कि कई देशों में 50 दिनों में इतना टीकाकरण हुआ जबकि भारत में 26 जनवरी तक महज 11 दिनों के बाद इसमें रफ्तार आ गयी।’’ उन्होंने बताया कि 26 जनवरी तक अमेरिका ने टीके की 2.35 करोड़ खुराकें, ब्रिटेन ने 76.4 लाख खुराकें, यूएई ने 27.6 लाख खुराकें, जर्मनी ने 19.9 लाख खुराकें, इटली ने 15.8 लाख खुराकें, स्पेन ने 13.6 लाख खुराकें और फ्रांस ने 11.4 लाख खुराकें लोगों को दी है। भूषण ने कहा कि टीकाकरण की शुरुआत के बाद से 28 जनवरी दोपहर दो बजे तक 25,07,556 लोगों को टीके दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: लाॅकडाउन उल्लंघन के केस वापस लेने वाला पहला राज्य बना UP, व्यापारियों के साथ आम लोगों को भी मिलेगी राहत

कोविड-19 से छह और लोगों की मौत, 251 नए मरीज

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 संक्रमित छह और लोगों की मौत हो गई तथा 251 नए मरीजों में इस संक्रमण की पुष्टि हुई। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बृहस्पतिवार को बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोविड-19 संक्रमित छह और लोगों की मौत के साथ राज्य में अब तक इस वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 8642 हो गई है। उन्होंने बताया कि इस अवधि में राज्य में 251 नए मरीजों में इस संक्रमण की पुष्टि हुई है जबकि इसी दौरान 380 मरीज ठीक भी हुए हैं। प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में इस वक्त 6230 कोविड-19 संक्रमित मरीजों का इलाज किया जा रहा है। प्रदेश में अब तक 5,99,624 लोग संक्रमण की चपेट में आए, जिनमें से 5,84,752 पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में 1,12,000 से ज्यादा नमूनों की जांच की गई। प्रदेश में अब तक दो करोड़ 75 लाख से ज्यादा नमूने जांचे जा चुके हैं। प्रसाद ने प्रदेश में आज कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम का जिक्र करते हुए बताया कि अपराह्न तीन बजे तक 1,12,264 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। अभी तक कहीं से भी टीके के प्रतिकूल प्रभाव की कोई शिकायत नहीं मिली है।

कोविड-19 टीकों की बर्बादी नहीं होने देने को सुनिश्चित करने के लिए दिशानिर्देश जारी किये गये: स्वास्थ्य सचिव

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोविड-19 के टीकों की किसी भी तरह की बर्बादी नहीं होने देने को सुनिश्चित करने के लिए विस्तृत दिशानिर्देश जारी किये हैं। साथ ही, मंत्रालय ने कहा है कि इस उद्देश्य (टीकों की बर्बादी नहीं होने देने) के लिए टीकाकरण केंद्रों को प्रत्येक दिन के लिए निर्धारित 100 लाभार्थियों के अलावा अतिरिक्त लाभार्थियों को जोड़ने की अनुमति दी गई है, बशर्ते कि निर्धारित लाभार्थी टीका लगवाने नहीं पहुंचें। स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने यहां बृहस्पतिवार को संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में कहा कि जब टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया गया था, तब 10 फीसदी बर्बादी होने की हिसाब लगाया गया था। दरअसल, उनसे पूछा गया था कि देश में टीकों की बर्बादी से निपटने के लिए मंत्रालय क्या कर रहा है। भूषण ने कहा, ‘‘टीकों की बर्बादी कैसे रोकी जाए, इस पर हमने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को विस्तृत दिशानिर्देश जारी किये हैं। हमने अपने डिजिटल मंच को स्थिति के अनुरूप ढालने लायक बनाया है और यह अनुमति दी है कि 100 निर्धारित लाभार्थियों के अलावा, किसी टीकाकरण स्थल पर टीकाकरण सत्र का संचालन करा व्यक्ति डेटाबेस के आधार पर अतिरिक्त लोगों को शामिल कर सकता है। टीकों की बर्बादी को कम करने को सुनिश्चित करने के लिए यह किया जा रहा है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘इससे आगे बढ़ते हुए, हम टीके की बर्बादी का विश्लेषण किये जाने के बाद इसके आंकड़े भी साझा करेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: दावोस संवाद में बोले PM मोदी, भारत ने दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू किया है

भारत में कोविड-19 से उबरने की दर 97 फीसद, 31 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में 5,000 से कम मरीज

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत में कोविड-19 से मुक्त होने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि होने के बाद संक्रमण से उबरने की दर 97 प्रतिशत के करीब पहुंच गई है। मंत्रालय ने कहा कि बीते 24 घंटे के दौरान कुल 14,301 लोगों के संक्रमण से उबरने के बाद ठीक हो चुके लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,03,73,606 हो गई है। भारत में उपचाराधीन रोगियों की संख्या1,73,740 है जो कुल संक्रमितों की संख्या का 1.62 प्रतिशत है। उपचाराधीन रोगियों की संख्या में राष्ट्रीय स्तर पर लगातार गिरावट के बाद 31 राज्य और केन्द्र शासित प्रदेशों में रोगियों की संख्या 5 हजार से कम रह गई है। देशव्यापी कोविड-19 टीकाकरण अभियान के दौरान 28 जनवरी को सुबह साढ़े सात बजे तक 23.5 लाख से अधिक लाभार्थियों को टीके लगाए जा चुके हैं। मंत्रालय ने कहा कि बीते 24 घंटे के दौरान केरल में सबसे अधिक 5,006 लोग संक्रमण से उबरे हैं। इस अलावा महाराष्ट्र में 2,556 और केरल में 944 लोग ठीक हुए हैं। वहीं, बीते 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 11,666 नए मामले सामने आए हैं। मंत्रालय ने कहा कि संक्रमण के 81.96 प्रतिशत नए मामले छह राज्यों से सामने आए हैं। केरल में सबसे अधिक 5,659 नए मामले सामने आए हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र में 2,171 जबकि तमिलनाडु में 512 नए मामले सामने आए हैं। मंत्रालय ने कहा कि बीते 24 घंटे के दौरान कुल 123 रोगियों की मौत हुई है। इनमें से 75.61 रोगियों की मौत सात राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेश में हुई है। महाराष्ट्र में सबसे अधिक 32 रोगियों की मौत हुई है। केरल में 20 और पंजाबमें 10 रोगियों की मौत हुई है।

भारत में बीते सात दिनों से 146 जिलों में कोविड-19 का एक भी नया मामला सामने नहीं आयाः हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत ने कोविड-19 महामारी के प्रसार को बहुत हद तक रोक दिया है और देश के 146 जिलों में पिछले सात दिनों में इसका एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इसके अलावा, 18 जिलों में 14 दिनों से, छह जिलों में 21 दिनों से और 21 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक, कोविड-19 पर मंत्रियों के समूह (जीओएम) की 23वीं बैठक की वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अध्यक्षता करते हुए हर्षवर्धन ने कहा कि अत्यधिक तत्परता से जांच करने से यह उपलब्धि हासिल हुई है। उन्होंने कहा कि देश में 19.5 करोड़ से ज्यादा नमूनों की अबतक जांच की जा चुकी है। नमूनों की जांच की वर्तमान क्षमता प्रति दिन 12 लाख जांच है। हर्षवर्धन ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी द्वारा परिकल्पित पूरी सरकार और पूरा समाज के दृष्टिकोण के साथ, भारत ने इस महामारी की सफलतापूर्वक रोकथाम की है। बीते 24 घंटे में 12,000 से कम मामले सामने आये हैं, जबकि इलाजरत मरीजों की संख्या भी घट कर महज 1.73 लाख रह गई है। मंत्री ने बताया कि कोविड-19 के इलाजरत मरीजों में से मात्र 0.46 प्रतिशत वेंटिलेटर पर हैं, जबकि 2.20 फीसदी मरीज आईसीयू में भर्ती हैं और 3.02 प्रतिशत संक्रमितों को ऑक्सीजन दी जा रही है। हर्षवर्धन ने कहा कि वायरस के ब्रिटेन में मिले नए स्वरूप के भारत में अबतक 165 मामले सामने आएं हैं। इन संक्रमित मरीजों को पृथक रखा गया है और उनकी निगरानी की जा रही है। उन्होंने कहा कि भारत ने कोविड-19 संक्रमण के प्रसार की बहुत हद तक रोकथाम करने में एक उपलब्धि हासिल की है।

इसे भी पढ़ें: बॉर्डर हो या वायरस की चुनौती, भारत हर समस्या से निपटने के लिए तैयार: नरेंद्र मोदी

भारत ने श्रीलंका, बहरीन को कोविड-19 के टीके की खेप भेजी

भारत ने मैत्री टीका अभियान के तहत बृहस्पतिवार को श्रीलंका और बहरीन को कोविड-19 टीके की खेप भेजी। इससे पहले भूटान, मालदीव, नेपाल, बांग्लादेश, सेशल्स, म्यामां जैसे देशों को टीके भेजे जा चुके हैं। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने ट्वीट के साथ टीके की खेप पहुंचने का चित्र साझा किया। जयशंकर ने कहा, ‘‘ एक भरोसेमंद सहयोगी, विश्वसनीय मित्र। मेड इन इंडिया टीके अब श्रीलंका पहुंचे। ’’ विदेश मंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘ बहरीन को मेड इन इंडिया टीके प्राप्त हुए। यह हमारे दीर्घकालिक भाइचारे वाले संबंधों का सबूत है। ’’ टीके की खेप मिलने पर श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने ट्वीट किया, ‘‘ भारत के लोगों की ओर से प्रदान किये गए कोविड-19 टीके की 5,00,000 खुराक प्राप्त हुईं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत के लोगों को जरूरत के समय में श्रीलंका के लोगों के प्रति दिखायी गई सहृदयता के लिये धन्यवाद। ’’ उल्लेखनीय है कि भारत पहले ही कोविशिल्ड टीके की 20 लाख खुराक बांग्लादेश और 10 लाख खुराक नेपाल को भेज चुका है। वहीं,1,50,000 खुराक भूटान को जबकि 1,00,000 खुराक मालदीव को भेजी गई है। भारत दुनिया के बड़े टीका निर्माताओं में से एक है और कोरोना वायरस का टीका खरीदने के लिए काफी देशों ने सम्पर्क किया है। हालांकि पाकिस्तान को इसका फायदा नहीं मिलेगा क्योंकि अभी तक इस पड़ोसी देश ने भारत से सम्पर्क नहीं किया है. गौरतलब है कि भारत ने देशभर में अग्रिम मोर्चे पर तैनात स्वास्थ कर्मियों को दो टीकों कोविशील्ड और कोवैक्सीन लगाने के लिए व्यापक टीकाकरण अभियान शुरू किया है। आक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविशील्ड टीके का सीरम इंस्टीट्यूट उत्पादन कर रहा है जबकि कोवैक्सीन का उत्पादन भारत बायोटेक कर रहा है।

अरुणाचल प्रदेश में संक्रमण के तीन नए मामले, 7,000 से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण

अरुणाचल प्रदेश में कोविड-19 के तीन नए मामले सामने आने से राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 16,824 हो गयी है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को इस बारे में बताया। कोविड-19 के लिए राज्य के निगरानी अधिकारी (एसएसओ) डॉ एल जाम्पा ने बताया कि कैपिटल कॉम्पलेक्स क्षेत्र से दो मामले आए जबकि वेस्ट कामेंग जिला से एक मामला आया। उन्होंने बताया कि बुधवार को दो लोग संक्रमण से ठीक हो गए। अब तक कुल 16,753 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। जाम्पा ने कहा कि राज्य में वर्तमान में 15 मरीज उपचाराधीन हैं और संक्रमण से 56 मरीजों की मौत हुई है। अधिकारी ने बताया कि प्रशासन ने कोविड-19 के लिए अब तक 3,90,635 नमूनों की जांच की है। राज्य के टीकाकरण अधिकारी (एसआईओ) डॉ दिमोंग पाडुंग ने बताया कि अब तक कुल 7087 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण हुआ है। स्वास्थ्य विभाग सप्ताह में चार दिन सोमवार, बृहस्पतिवार, शुक्रवार और शनिवार को टीकाकरण अभियान चला रहा है। अरुणाचल प्रदेश को केंद्र से अब तक टीके की 32,000 खुराक मिली हैं।

इसे भी पढ़ें: जीत के साथ हुई मेस्सी की वापसी, विरोधी खिलाड़ी को मारने के कारण लगा था बैन

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 199 नये मामले सामने आये

दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोविड-19 संक्रमण के 199 नये मामले दर्ज किये गये जबकि संक्रमण की दर 0.50 प्रतिशत से काफी नीचे रही। जनवरी में ऐसा सातवीं बार है जब इस महामारी के प्रतिदिन मामलों की संख्या 200 से कम रही है। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एक बुलेटिन के अनुसार संक्रमण की दर 0.34 प्रतिशत रही। इसके अनुसार संक्रमितों की कुल संख्या 6,34,524 हो गई है और इस महामारी से छह और मरीजों की मौत होने से मृतक संख्या 10,835 पर पहुंच गई है। बुलेटिन के अनुसार बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय राजधानी में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 1,575 थी।

कोविड-19 : मिजोरम में तीन नए मामले सामने आने के बाद आंकड़ा 4,362 पहुंचा

मिजोरम में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो जवानों समेत तीन लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,362 हो गई। एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मिजोरम में 42 मरीजों का उपचार चल रहा है जबकि 4,311 मरीज अब तक स्वस्थ हो चुके हैं और नौ लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ लालजॉमी के अनुसार ,अब तक 5,269 स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना वायरस रोधी टीके लग चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने संसद के बजट सत्र की तैयारियों का लिया जायजा

ओडिशा में लगातार दूसरे दिन कोरोना वायरस संक्रमण से किसी की मौत नहीं

ओडिशा में कोरोना वायरस संक्रमण से लगातार दूसरे दिन किसी व्यक्ति की मौत नहीं हुई। राज्य में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 113 नये मामले सामने आये। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि अब तक राज्य में महामारी से 1906 लोगों की मौत हुई है जबकि संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 3,34,780 हो गयी है। उन्होंने बताया कि राज्य में 1286 मरीज उपचाराधीन हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक 3,31,535 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। इस बीच राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी 30 जिलों में पहले चरण के दूसरे दौर के टीकाकरण की शुरूआत की। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के निदेशक विजय पाणिग्रही ने बताया कि अब तक 1,78,227 स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जा चुका है जबकि शेष 1,60,473 लोगों को दस फरवरी तक टीका लगाया जायेगा।

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के 82 नए मामले सामने आए, तीन और मरीजों की मौत

उत्तराखंड में बृहस्पतिवार को 82 नए मरीजों में कोविड-19 महामारी की पुष्टि हुई जबकि तीन अन्य ने महामारी से दम तोड़ दिया। इस बीच, 16 जनवरी से जारी टीकाकरण अभियान के तहत 4827 और लाभार्थियों को टीके की पहली खुराक दी गयी जिसके साथ अब तक कुल 19,517 लोगों को कोरोना वायरस का टीका लगाया जा चुका है। यहां प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार, 82 नए मरीजों के मिलने से प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढकर 95,908 हो गयी है। ताजा मामलों में सर्वाधिक 44 देहरादून जिले में सामने आए जबकि हरिद्वार में 17, नैनीताल में 11 और उधमसिंह नगर में पांच मरीज मिले। प्रदेश के 13 में से छह जिलों में बृहस्पतिवार को कोविड-19 का कोई मरीज नहीं मिला। संक्रमण से तीन और मरीजों की मृत्यु हो गई जिससे इस महामारी से मरने वालों की संख्या 1642 हो गई। प्रदेश में 178 और मरीज उपचार के बाद स्वस्थ हो गए। अब तक कुल 91,597 मरीज उपचार के बाद स्वस्थ हो चुके हैं और उपचाराधीन मामलों की संख्या 1338 है। कोविड-19 के 1331 मरीज प्रदेश से बाहर चले गए हैं।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के 185 नये मामले, 06 लोगों की मौत

जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण के 63 नये मामले, एक और मरीज की मौत

जम्मू कश्मीर में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 63 नये मामले सामने आये, जिससे यहां संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 1,24,297 हो गयी है। केंद्रशासित प्रदेश में संक्रमण से एक और व्यक्ति की मौत हो गयी जिससे मरने वालों की संख्या बढ़ कर 1,932 हो गयी है। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर में संक्रमण के कारण एक मरीज की मौत हुयी है। उन्होंने बताया कि ताजा मामलों में से कश्मीर संभाग में 45 जबकि जम्मू संभाग में 18 मामले सामने आए हैं। अधिकारियों ने बताया कि संघ शासित प्रदेश में फिलहाल 963 मरीजों का उपचार चल रहा है जबकि अब तक 1,21,402 मरीज संक्रमण मुक्त हुये हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।