गोडसे की भूमिका निभाने से लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं तो मैं माफी मांगता हूं: अमोल कोल्हे

Amol Kolhe
एक फिल्म में नाथुराम गोडसे की भूमिका निभाने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के सासंद एवं अभिनेता डॉ अमोल कोल्हे ने कहा है कि वह कभी भी महात्मा गांधी के हत्यारे की विचारधारा का समर्थन नहीं करेंगे।

पुणे। एक फिल्म में नाथुराम गोडसे की भूमिका निभाने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के सासंद एवं अभिनेता डॉ अमोल कोल्हे ने कहा है कि वह कभी भी महात्मा गांधी के हत्यारे की विचारधारा का समर्थन नहीं करेंगे और अगर उनके द्वारा निभाई गई भूमिका सिर्फ एक पक्ष को प्रस्तुत करती है और गांधीजी के अनुयायियों की भावनाओं को ठेस पहुंचाती है तो वह माफी मांगते हैं। कोल्हे ने हिंदी फिल्म व्हाइ आई किल्ड गांधी में गोडसे की भूमिका निभाई है।

इसे भी पढ़ें: कुत्ते के बच्चे के ट्रक की चपेट में आने पर चालक की पिटाई, व्यथित होकर की आत्महत्या

वह राष्ट्रपिता की पुण्यतिथि की पूर्व संध्या पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए शनिवार को पुणे के पास अलंदी में महात्मा गांधी के स्मारक गए थे। महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के बाद पत्रकारों से बातचीत में, कोल्हे ने कहा, फिल्म की शूटिंग 2017 में हुई थी। अगर (उनके द्वारा निभाई गई) भूमिका ने सिर्फ गोडसे का पक्ष रखा है और गांधीजी के अनुयायियों की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है, तो मैं सच में उन लोगों से माफी चाहता हूं जो आहत हुए हैं।” उन्होंने कहा, “मैंने कभी गोडसे की विचारधारा का समर्थन नहीं किया और भविष्य में भी इसका समर्थन नहीं करूंगा।

इसे भी पढ़ें: हमें यदि उन्नत स्पाईवेयर मिले तो हम उन्हें चार अरब डॉलर दे सकते हैं: चिदंबरम का सरकार पर निशाना

’ कोल्हे ने कहा कि अगर फिल्म ने केवल एक पक्ष प्रस्तुत किया है, तो वह जनता को गलत संदेश जाने से रोकने के लिए वह जल्द ही दूसरे पक्ष को भी दूसरे रूप में पेश करेंगे सांसद ने कहा, “ मैं फिर से कहना चाहता हूं कि मैं नाथूराम गोडसे के किरदार का समर्थन नहीं करता। मैंने फिल्म में नाथूराम की भूमिका निभाई है, लेकिन मैं उसकी विचारधारा का कभी समर्थन नहीं करूंगा। इतनी छोटी सी बात से महात्मा गांधी के विचार कभी नहीं मिटेंगे।” कोल्हे ने कहा, “ खराब माहौल बनाने की कोशिश हो रही है। इसलिए मैं उस जगह आया हूं जहां गांधीजी की अस्थियां नदी में विसर्जित की गई थीं और उनके यह शब्द कहना चाहता हूं कि सबको सन्मति दे भगवान।” बाद में, ट्विटर पर कोल्हे ने कहा कि वह आज के युवाओं में महात्मा गांधी के प्रति विश्वास और भक्ति को देखकर बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा, “इससे यह सिद्ध होता है कि महात्मा गांधी के विचार अमर हैं।। उनका दुनिया के लिए सत्य, अहिंसा और क्षमा का संदेश मानव जाति के लिए अमूल्य है। मैं भी उन विचारों का प्रशंसक हूं।”

इस बीच, महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने रविवार को मुंबई में कहा कि यह कोल्हे को तय करना है कि वह एक अभिनेता के रूप में कौनसी भूमिका निभाना चाहते हैं, लेकिन जब गोडसे से संबंधित फिल्म की पटकथा उसके पास आई थी तो उन्हें यह समझना चाहिए था क्या भूमिका है।

राष्ट्रपिता की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद पटोले ने कहा, “हम कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे कि महात्मा को खलानयक दिखाया जाए औरनाथूराम गोडसे को नायक दिखाने की कोशिश की जाए। हमने (महाराष्ट्र के) मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) और प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) को पत्र लिखा है कि यह फिल्म नहीं दिखाई जानी चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़