आलोचना होने पर कोई भी सत्ता प्रतिष्ठान खुश नहीं होता: जावेद अख्तर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 12, 2019   18:46
  • Like
आलोचना होने पर कोई भी सत्ता प्रतिष्ठान खुश नहीं होता: जावेद अख्तर

सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर अपने विचारों को लेकर मुखर रहने वाले अख्तर का मानना है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को एक लोकतांत्रिक समाज में रोका नहीं जा सकता है।

मुंबई। दिग्गज गीतकार-लेखक जावेद अख्तर ने शनिवार को कहा कि लोगों को व्यवस्था के खिलाफ होने पर भी अपनी राय देना बंद नहीं करना चाहिए। सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर अपने विचारों को लेकर मुखर रहने वाले अख्तर का मानना है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को एक लोकतांत्रिक समाज में रोका नहीं जा सकता है। अख्तर ने कहा, ‘‘यदि आप किसी प्रतिष्ठान या किसी व्यक्ति से कुछ कहते हैं, तो क्या वह उनको पसंद आएगा? मैं ऐसा नहीं सोच सकता कि कोई प्रतिष्ठान अपनी आलोचना होने पर खुशी महसूस करेगा।

इसे भी पढ़ें: इस बड़ी फिल्म में अक्षय कुमार के साथ दिखाई देंगे रणवीर सिंह और अजय देवगन

‘इंडिया फिल्म प्रोजेक्ट’ में एक सत्र के दौरान अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर एक दर्शक के सवाल के जवाब में अख्तर ने कहा, ‘‘इसलिए इस अधिकार को नहीं छीना जाना चाहिए कि लोग आगे आकर अपनी राय रख रहे हैं और खुद को अभिव्यक्त कर रहे हैं, क्योंकि आप एक लोकतांत्रिक देश और अन्यायपूर्ण समाज की एक साथ कल्पना नहीं कर सकते, जहां अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर रोक लगाई गई हो। इसे किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: डिजिटल माध्यम और सिनेमा दोनों साथ-साथ चल सकते हैं: अजय देवगन

लेखक ने कहा कि उनका मानना है कि भारत में लोगों को सौभाग्यशाली महसूस करना चाहिए कि वे एक लोकतांत्रिक देश में रहते हैं और उन्हें अपने अधिकारों की रक्षा करते रहना चाहिए। अख्तर ने कहा, ‘‘आपको अपने मन की बात कहनी चाहिए और अपने आप को भाग्यशाली समझना चाहिए कि आप भारत जैसे देश में पैदा हुए हैं जहाँ हमारे पास एक लोकतांत्रिक व्यवस्था है। हम इससे किसी भी कीमत पर समझौता नहीं कर सकते।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आप एशिया के बाकी देशों को देखिए, जहां लोगों के पास वे अधिकार नहीं हैं जो हमारे पास हैं और हमें अपने अधिकारों की रक्षा करनी चाहिए।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




तांडव विवाद: सैफ अली खान की वेब सीरीज पर क्यों हो रहा 'तांडव', जानें पूरा मामला

  •  रेनू तिवारी
  •  जनवरी 18, 2021   12:32
  • Like
तांडव विवाद: सैफ अली खान की वेब सीरीज पर क्यों हो रहा 'तांडव', जानें पूरा मामला

लॉकडाउन के दौरान ओटीटी प्लेटफॉर्म मनोरंजन के क्षेत्र में तीसरे पर्दे के तौर पर उभरा है। इस प्लेटफॉर्म पर रिलीज होने वाली फिल्मों या वेब सीरीजों का सेंसर नहीं किया जाता, यानी कि ओटीटी के लिए किसी तरह का कोई सेंसर बोर्ड नहीं है जिसके कारण ओटीटी के काफी कंटेंट विवादों में घिरे रहते हैं।

लॉकडाउन के दौरान ओटीटी प्लेटफॉर्म मनोरंजन के क्षेत्र में तीसरे पर्दे के तौर पर उभरा है। इस प्लेटफॉर्म पर रिलीज होने वाली फिल्मों या वेब सीरीजों का सेंसर नहीं किया जाता, यानी कि ओटीटी के लिए किसी तरह का कोई सेंसर बोर्ड नहीं है जिसके कारण ओटीटी के काफी कंटेंट विवादों में घिरे रहते हैं। पिछले साल अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन हाउस में बनीं वेब सीरीज पाताल लोक अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज हुई थी। जिसमें पालतू कुतिया का नाम सावित्री रखा गया था जिसे लेकर काफी विवाद हो गया था। अब सैफ अली खान की हाल ही में रिलीज हुई वेब सीरीज 'तांडव' को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। कुछ हिंदू संगठनों ने सैफ अली खान की फिल्म 'ताडंव' पर पूजनीय देवी-देवताओं का अपमान करने का आरोप लगाया है। 

इसे भी पढ़ें: Bigg Boss की टैलेंट मैनेजर पिस्ता धाकड़ की सड़क दुर्घटना में मौत, सलमान खान सहित कई सितारों ने जताया शोक 

क्या है विवाद की जड़

वेब सीरीज के अंदर एक यूनिवर्सिटी में स्टेज पर होने वाले नाटक का सीन दिखाया गया है जिसमें भगवान श्री राम के बढ़ते सोशल मीडिया फैंस की बात कही गयी है। इसके अलावा यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट इलेक्शन में एक छात्र द्वारा ताडंव नाम से पॉलिटिकल पार्टी बनाये जाने जैसी चीजें दिखाई गयी है। इसी तरह की चीजों को लेकर हिंदू संगठन काफी ज्यादा नाराज है। उन्होंने वेब सीरीज के मेकर्स पर हिंदू भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया है। 

इसे भी पढ़ें: फिल्म जगत ने कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान की तारीक की, वैज्ञानिकों और डॉक्टरों को किया सलाम 

तांडव के खिलाफ दर्ज की गयी शिकायत

वेब सीरीज ‘तांडव’ में धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में इसके निर्माता-निर्देशक, लेखक और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इंडिया ओरिजिनल कंटेंट (अमेजन) की प्रमुख अपर्णा पुरोहित, निर्देशक अली अब्बास जफर, प्रोड्यूसर हिमांशु कृष्ण मेहरा, लेखक गौरव सोलंकी और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। हजरतगंज के वरिष्ठ उपनिरीक्षक अमरनाथ यादव ने इस संबंध में मामला दर्ज कराया है। प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो पर 16 जनवरी को रिलीज हुई वेब सीरीज ‘तांडव’ को लेकर कई लोगों ने आपत्ति जतायी है। 

शिकायत में क्या लगाए गये आरोप

थाने में रविवार रात दर्ज प्राथमिकी में कहा गया कि वेब सीरीज के पहले एपिसोड में हिंदू देवी-देवताओं का गलत चित्रण किया गया है जिससे धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं। इसमें 'अमर्यादित' शब्द का इस्तेमाल भी किया गया है, जिससे लोगों में काफी आक्रोश है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने वेब सीरीज के निर्माता-निर्देशक, लेखक समेत अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने भी वेब सीरीज तांडव में हिंदू देवी-देवताओं का उपहास उड़ाने संबंधी शिकायतों का संज्ञान लिया है और अमेजन प्राइम वीडियो से इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण मांगा है।

तांडव पर शुरू हुई राजनीति

शिकायत के बात वेब सीरीज को लेकर राजनीति भी शुरू हो गयी है। मुंबई उत्तर-पूर्व से भाजपा सांसद कोटक ने भी तांडव की अलोचना की है। उन्होंने सीरीज के निर्माताओं को आंडे हाथ लेते हुए आरोप लगाया की पिछले काफी समय से देखा जा रहा है कि हमेशा इस तरह की फिल्मों और सीरीजों में हिंदूओं को लेकर काफी टारगेट किया जाता है। हमारे भगवान को गलत तरीके से दिखाने का प्रयास किया जाता है। हम ऐसी चीजें और बर्दाश्त नहीं करेंगे। कोटक ने कहा है कि अभिनेताओं, निर्माता और निर्देशक को भावनाओं को आहत करने के लिए माफी मांगनी चाहिए।

इसके अवाला बीजेपी विधायक राम कदम ने भी तांडव की काफी कड़ी आलोचना की। वह काफी ज्यादा नाराज दिखाई पड़े। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ काल से लगातार फिल्म जगत के कुछ लोग हिंदू -देवी देवताओं को टारगेट कर रहे हैं। अगर उन्होंने ऐसा करना बंद नहीं किया तो उन्हें चौराहें पर जूते से मारने की आवश्यकता है। साथ ही वेब सीरीज को बैन करने की मांग की। उन्नाव के बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने भी वेब सीरीज़ 'ताडंव' पर प्रतिक्रिया दी। साक्षी महाराज ने वेब श्रृंखला पर प्रतिबंध लगाने की मांग की।

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने अमेजन प्राइम वीडियो को कानूनी नोटिस भेजकर मांग की है कि वेब सीरीज तांडव को उनके मंच से तुरंत हटा दिया जाए अन्यथा उनके खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू की जाएगी। 

कौन कौन है तांडव में

सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, तिग्मांशु धूलिया, डिनो मोरिया, कुमुद मिश्रा, मोहम्मद जीशान अय्यूब, गौहर खान और कृतिका कामरा अभिनीत ‘तांडव’ का शुक्रवार को स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर प्रीमियर हुआ। फिल्मकार अली अब्बास ज़फर ने हिमांशु किशन मेहरा के साथ मिलकर राजनीति पर आधारित इस सीरीज का निर्माण एवं निर्देशन किया है। इसकी कहानी गौरव सोलंकी ने लिखी है।







Bigg Boss की टैलेंट मैनेजर पिस्ता धाकड़ की सड़क दुर्घटना में मौत, सलमान खान सहित कई सितारों ने जताया शोक

  •  रेनू तिवारी
  •  जनवरी 18, 2021   10:57
  • Like
Bigg Boss की टैलेंट मैनेजर पिस्ता धाकड़ की सड़क दुर्घटना में मौत, सलमान खान सहित कई सितारों ने जताया शोक

अभिनेता सलमान खान ने ‘बिग बॉस’ की टैलेंट मैनेजर पिस्ता धाकड़ के निधन पर शोक व्यक्त किया है। धाकड़ की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी।

मुंबई। बिग बॉस से जुड़े अन्य लोगों की तरह सलमान खान भी बिग बॉस के प्रतिभा प्रबंधक, पिस्ता धाकड़ के चौंकाने वाले निधन से हिल गए हैं। रियलिटी शो के चौदहवें संस्करण के मेजबान के रूप में देखे जाने वाले बॉलीवुड अभिनेता ने आज (17 जनवरी) ट्विटर पर पिस्टा के साथ अपनी तस्वीर साझा की और लिखा, "रेस्ट इन पीस पिस्ता।"

इसे भी पढ़ें: फिल्म जगत ने कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान की तारीक की, वैज्ञानिकों और डॉक्टरों को किया सलाम 

अभिनेता सलमान खान ने ‘बिग बॉस’ की टैलेंट मैनेजर पिस्ता धाकड़ के निधन पर शोक व्यक्त किया है। धाकड़ की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। धाकड़ का स्कूटर शुक्रवार को फिल्म सिटी रोड़ पर फिसल गया था और उसके बाद एक वैन की चपेट में आने से उसकी मौत हो गई। 24 वर्षीय पिस्ता के असमय निधन से कई सेलेब्स हैरान रह गए और उन्होंने अपनी निराशा व्यक्त करने के लिए अपने सोशल मीडिया हैंडल का सहारा लिया।

इसे भी पढ़ें: अक्षय कुमार ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया, फैंस से भी की अपील

हिमांशी खुराना ने साझा किया, "RIP पिस्ता .. अभी-अभी उनके निधन की खबर मिली .. हम अभी भी सदमे में हैं। जीवन अनिश्चित है। बिग बॉस के पीएस टैलेंट मैनेजर।" जबकि शहनाज़ गिल ने ट्वीट किया, "ऐसी हर्षित, जीवंत और खुश आत्मा। आपको हमेशा याद किया जाएगा।  #RIP पिस्ता।

बिग बॉस के प्रस्तोता खान ने ट्वीट करके धाकड़ के निधन पर शोक व्यक्त किया। खान ने ट्विटर पर लिखा,‘‘ तुम्हारी आत्मा को शांति मिले....’’ खान ने इसके साथ ही अपनी और धाकड़ की एक फोटो भी लगाई।







अक्षय कुमार ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया, फैंस से भी की अपील

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 18, 2021   10:42
  • Like
अक्षय कुमार ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया, फैंस से भी की अपील

अभिनेता अक्षय कुमार ने शुक्रवार को अपने प्रशंसकों से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में योगदान देने का आग्रह किया। राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रित करने के राष्ट्रव्यापी अभियान की शुरुआत शुक्रवार को हुई थी।

मुंबई। अभिनेता अक्षय कुमार ने शुक्रवार को अपने प्रशंसकों से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में योगदान देने का आग्रह किया। राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रित करने के राष्ट्रव्यापी अभियान की शुरुआत शुक्रवार को हुई थी। कुमार ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया और लिखा कि उन्होंने निर्माण के लिए अपना हिस्सा दान कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: फिल्म जगत ने कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान की तारीक की, वैज्ञानिकों और डॉक्टरों को किया सलाम

अभिनेता ने लिखा, ‘‘यह बहुत खुशी की बात है कि श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अयोध्या में शुरू हो गया है ...अब हमारी योगदान देने की बारी है। मैंने शुरुआत कर दी है, आशा है कि आप भी इसमें शामिल होंगे। जय सियाराम।’’ 53 वर्षीय अभिनेता ने वीडियो में कहा कि लोग ‘‘ऐतिहासिक भव्य मंदिर’’ के निर्माण में अपनी क्षमता के अनुसार योगदान दें।

इसे भी पढ़ें: साल 2020 में ओटीटी से चमकने वाले ये हैं होनहार सितारे, आने वाले प्रोजेक्ट्स पर डाले एक नज़र

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने शुरुआत कर दी है, मुझे यकीन है कि आप भी मेरे साथ जुड़ेंगे ताकि आने वाली पीढ़ियों को भगवान राम के जीवन, पथ और संदेश के अनुपालन के लिए प्रेरणा मिलती रहे।’’ वर्ष 2020 की दीपावली पर कुमार ने अपनी फिल्म ‘‘राम सेतु’’ की घोषणा की थी। फिल्म के निर्देशक अभिषेक शर्मा हैं। पिछले साल दिसंबर में कुमार ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से तब मुलाकात भी की थी जब वह मुंबई के दौरे पर पहुंचे थे तथा ‘‘राम सेतु’’ पर चर्चा की थी। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept