बेटी रिद्धिमा का कन्यादान करते हुए ऋषि कपूर की तस्वीर वायरल, देखकर भर आएगा मन

बेटी रिद्धिमा का कन्यादान करते हुए ऋषि कपूर की तस्वीर वायरल, देखकर भर आएगा मन

ऋषि कपूर की फैमली लगातार उनकी पुरानी कोई न कोई तस्वीर शेयर करती रहती हैं। कुछ समय पहले नीतू ने एक बेहद इमोशन मैसेज ऋषि कपूर की तस्वीर के साथ सोशल मीडिया पर साझा किया था। अब ऋषि की बेटी रिद्धिमा कपूर ने उनकी कुछ पुरानी तस्वीरों के साथ उन्हें याद किया हैं।

साल 2020 बॉलीवुड के लिए काफी दुखद रहा। इस साल सिनेमा ने ऋषि कपूर और इरफान खान के रूप में दो दिग्गज कलाकारों को खो दिया। ऋषि कपूर और इरफान खान पिछले दो सालों से कैंसर से पीड़ित थे 29- 30 अप्रैल 2020, मात्र 24 घंटे के गैप पर इंडस्ट्री के दो सितारे हमेशा के लिए इस दुनिया से अलविदा कह गये। इरफान और ऋषि के परिवार वाले उन्हें अपनी यादों में जिंदा रखें हुए हैं। ऋषि कपूर की फैमली लगातार उनकी पुरानी कोई न कोई तस्वीर शेयर करती रहती हैं। कुछ समय पहले नीतू ने एक बेहद इमोशन मैसेज ऋषि कपूर की तस्वीर के साथ सोशल मीडिया पर साझा किया था। अब ऋषि की बेटी रिद्धिमा कपूर ने उनकी कुछ पुरानी तस्वीरों के साथ उन्हें याद किया हैं।

पिता के निधन के बाद से रिद्धिमा कपूर अपने दिवंगत पिता, अनुभवी अभिनेता ऋषि कपूर की अनमोल यादें साझा करती रहती हैं। उन्होंने अपनी मां नीतू और पिता ऋषि की साथ में एक तस्वीर साझा की हैं। इसके अलावा रिद्धिमा कपूर ने अपनी शादी की कुछ तस्वीरों को अपनी इंस्टा स्टोरी बना कर शेयर किया हैं। रिद्धिमा ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर अपनी शादी की तस्वीर को दिल के इमोजी के साथ साझा किया। तस्वीर में शादी समारोह के दौरान दूल्हे भरत साहनी के साथ दुल्हन के रूप में तैयार की गई रिद्धिमा को देखा जा सकता हैं। तस्वीर में बेटी की शादी में जिम्मेदार पिता की तरह  ऋषि कपूर भी बैठे हुए दिखाई दे रहे हैं। वह  शायद कन्यादान अनुष्ठान के लिए बैठे हैं। तस्वीर में श्वेता बच्चन को नीले रंग के लहंगे में देखा जा सकता है, जो  ऋषि की बहन रितु नंदा की बहू हैं।

 

रिद्धिमा ने दिग्गज गायिका लता मंगेशकर के साथ मुलाकात से एक पारिवारिक तस्वीर भी साझा की और कैप्शन दिया, "अच्छा समय"। एक इवेंट में रणबीर कपूर, ऋषि, नीतू और रिद्धिमा लता जी के साथ पोज देते हुए दिखाई दिए।

लॉकडाउन के कारण, नई दिल्ली में रहने वाली रिद्धिमा को शोक के समय में, अपने परिवार के साथ रहने के लिए, दिल्ली से मुंबई तक सड़क मार्ग से 1400 किलोमीटर की यात्रा तय करके गयी थी।जबकि वह अपने पिता के अंतिम संस्कार के लिए समय पर नहीं पहुंच सकी।