• मां के निधन से संगीता बिजलानी को लगा था बड़ा सदमा, शेयर किया जिंदगी का अनुभव

आज संगीता बिजलानी उन अभिनेत्रियों में शामिल है ,जिन्होंने अपने पिता का अनुसरण करते हुए योग को महत्व दिया और ऐसे में आत्म खोज की यात्रा शुरू की।

संगीता बिजलानी 1980 की मिस इंडिया विजेता और पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री हैं। इन्होंने 1988 में फिल्म 'कातिल' के साथ अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी। 1962 में जन्मी संगीता ने16 वर्ष की उम्र में मॉडलिंग शुरू कर दी थी। उन्होंने त्रिदेश, योद्धा, हातिम ताई फिल्मों में काम किया और 2005 में इन्होंने सिनेमा से मुख मोड़ लिया।

इसे भी पढ़ें: नसीरुद्दीन शाह का सरकार पर हमला, बोले- अपनी छवि साफ करने के लिए देश भक्ति फिल्में बनवा रही है केंद्र सरकार

आज संगीता बिजलानी उन अभिनेत्रियों में शामिल है ,जिन्होंने अपने पिता का अनुसरण करते हुए योग को महत्व दिया और ऐसे में आत्म खोज की यात्रा शुरू की। संगीता बिजलानी उन लोगों में शामिल है, जो आज भी आध्यात्मिकता और दूसरों की भलाई करने में विश्वास रखती हैं।

इसे भी पढ़ें: मिस वर्ल्ड बनने के बाद बच्चे को दुलार कर रही थीं ऐश्वर्या, सामने आया वीडियो 

वह पुरानी यादें ताजा करते हुए कहती हैं कि 2005 में मेरी मां का देहांत हो गया था और मैं उस समय एक गहरे दौर से गुजर रही थी ।मुझे मेरी मां के देहांत से गहरा आघात पहुंचा था। अभिनेत्री अपने मां के बेहद करीब थीं,जो फिल्म के सेट पर भी उनके साथ दिखाई देती थी। ऐसे में अभिनेत्री ने कहा कि मुझे एहसास हुआ कि मेरी मां जो हमेशा मेरे साथ रहती थी, अब मेरी जिंदगी में नहीं हैं।

मैंने उनके जाने के बाद अपने आप की खोज की ,और अपना अभ्यास जारी रखा। मैं रेगुलर ध्यान और प्राणायाम करती रही। अपने दोस्तों से मिलती रही ।ऐसे में मुझे एक आंतरिक खुशी का अहसास हुआ, यह मेरे लिए एक प्रतिमान बदलाव की तरह था। इस तरह आपकी चीजों को भुला पाते हैं और जीवन को सुंदर तरीके से देखते हैं।