इस साल शीर्ष सात शहरों में 5.58 लाख घरों का निर्माण पूरा कर सकते हैं बिल्डर : एनारॉक

Anarock
प्रतिरूप फोटो
Anarock
एनारॉक ने कहा कि इस साल तैयार घरों की संख्या ज्यादा रहने के पीछे कई कारक हैं। इनमें संबंधित कानून रेरा, घरों की बिक्री में वृद्धि के बीच बेहतर नकदी प्रवाह, निर्माण गतिविधियों में नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल और वित्तीय संस्थानों से कर्ज में बढ़ोतरी शामिल हैं।

नयी दिल्ली। रियल एस्टेट डेवलपर 2023 में देश के प्रमुख सात शहरों में 5.58 लाख घरों का निर्माण पूरा कर सकते हैं। रियल एस्टेट परामर्श फर्म एनारॉक का कहना है कि बिल्डरों ने निर्माण की गति बढ़ा दी है। एनरॉक के आंकड़ों के अनुसार, 2023 में 5,57,900 घरों का निर्माण पूरा होना है। पिछले कैलेंडर साल में 4,02,000 घरों का निर्माण पूरा होना था। हालांकि, यह पता नहीं चला कि यह लक्ष्य पूरा हो सका की नहीं। एनारॉक ने कहा कि इस साल तैयार घरों की संख्या ज्यादा रहने के पीछे कई कारक हैं। इनमें संबंधित कानून रेरा, घरों की बिक्री में वृद्धि के बीच बेहतर नकदी प्रवाह, निर्माण गतिविधियों में नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल और वित्तीय संस्थानों से कर्ज में बढ़ोतरी शामिल हैं।

परामर्श फर्म ने बताया कि बिल्डर परियोजनाओं के पूरे होने में देरी को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि इससे लागत बढ़ती है। एनारॉक के उपाध्यक्ष संतोष कुमार ने कहा, “अनुमान के अनुसार, 2023 में शीर्ष सात शहरों में लगभग 5.6 लाख घरों का निर्माण पूरा किया जाना है। पिछले वर्ष की तुलना में यह 39 प्रतिशत ज्यादा है।” आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष घरों का निर्माण सबसे ज्यादा दिल्ली-एनसीआर में होगा, जिसके बाद मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) है। दिल्ली-एनसीआर में इस वर्ष 1,70,100 घरों का निर्माण पूरा होने की संभावना है, जबकि पिछले वर्ष 86,300 घरों का अनुमान लगाया गया था। एमएमआर में 1,31,400 घरों का निर्माण होने की संभावना है, जबकि 2022 में यह 1,26,700 इकाई रहा था।

इसे भी पढ़ें: Meta लेकर आएगा Twitter का प्रतियोगी 'P92', मास्टोडन के साथ होगा इंटरऑपरेबल

पुणे में 98,400 घरों का निर्माण पूरा हो सकता है, जबकि पिछले वर्ष 84,200 इकाइयों का निर्माण होना था। बेंगलुरु में इस वर्ष 80,100 घरों का निर्माण पूरा हो सकता है, जबकि पिछले वर्ष 48,700 इकाई अनुमानित था। कोलकाता में इस वर्ष 36,700 घरों का निर्माण पूरा हो सकता है, जबकि पिछले वर्ष 23,200 इकाइयों के निर्माण का अनुमान था। हैदराबाद में इस वर्ष 23,800 घरों का निर्माण पूरा हो सकता है, जबकि पिछले वर्ष यह आंकड़ा 11,700 इकाई था। चेन्नई में इस वर्ष 17,400 घरों का निर्माण पूरा हो सकता है, जबकि पिछले वर्ष इससे ज्यादा 21,200 इकाइयों के निर्माण का अनुमान था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़