• 1 अक्टूबर से बैंक और आपकी सैलरी से जुड़े नियमों में आएंगे कई बड़े बदलाव, यहां पढ़े पूरी डिटेल

निधि अविनाश Sep 27, 2021 16:29

कोड वेज एक्ट 2019 के मुताबिक, किसी भी कर्मचारियों की बेसिक सैलरी कंपनी की लागत के 50 परसेंट से कम नहीं हो सकती है। इसी बीच अब 1 अक्टूबर से न्यू वेज कोड लागू हो सकता है।

एक अक्टूबर से कई नए नियम लागू होंगे। लोगों के दैनिक जीवन को प्रभावित करने वाले इन नियमों में सैलरी से केवाइसी के नियम शामिल है। एक खबर के मुताबिक, 1 एक अक्टूबर से नया ऑटो डेबिट पेमेंट सिस्टम लागू हो जाएगा। इस नियम के तहत बैंक और ऑनलाइन पेमेंट प्लेफॉर्म भी पैसे डेबिट करने से पहले आपकी परमिशन लेंगे। इसके अलावा आपके बैंक और सैलरी से भी जुड़े नियमों में बड़े बदलाव होने वाले है।इन नियमों के बदलाव से शायद आपके सैलरी पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है। साथ ही बैंक में अगर आपके पैसे पड़े हुए है तो जरा सावधान हो जाए क्योंकि इसमें भी एक अक्टूबर से बदलाव होंगे।

इसे भी पढ़ें: शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक से ज्यादा उछला, निफ्टी 17,900 के पार

सबसे पहले बात कर लेते है कि 1 अक्टूबर से आपके सैलरी स्ट्रक्चर में क्या बदलाव आने वाले है। खबर के मुताबिक, कर्मचारियों की सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव किए जाएंगे। New Wage Code Salary Structure के तहत आपके टेक हॉम सैलरी (Take Home Salary)में कमी की जा सकती है। कोड वेज एक्ट 2019 के मुताबिक, किसी भी कर्मचारियों की बेसिक सैलरी कंपनी की लागत के 50 परसेंट से कम नहीं हो सकती है। इसी बीच अब 1 अक्टूबर से न्यू वेज कोड लागू हो सकता है।सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया SEBI ने केवाईसी को अनिवार्य किया था। बता दें कि इसकी अपडेट की अंतिम तिथि 31 जुलाई थी, लेकिन बाद में इसे बढ़ाकर 30 सिंतबर कर दिया गया है। अब निवेशकों के लिए केवाईसी कराना अनिवार्य होगा।

1 अक्टूबर से अटक सकते हैं ऑटो डेबिट पेमेंट 

डिजिटल पेमेंट को और ज्याजा सुरक्षित करने के लिए  Additional Factor Authentication (AFA) को लागू किया गया है।ऑनलाइन पेमेंट में ग्राहकों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए और डीजिटल अपराध से बचने के लिए AFA का इस्तेमाल किया जाता है। इसके द्वारा एक फ्रेमवर्क तैायर कर निर्देश निर्धारित किए जाते है। इसको लागू करने की आखिरी तारीख 31 मार्च 2021 थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 30 सिंतबर कर दी गई है। आरबीआई के नियमों के अनुसार, बैंकों को कोई भी ऑटो पेमेंट करने से पहले ग्राहकों को एक नोटिफिकेशन आएगा और जब ग्राहक उसे अप्रूव करेंगे तभी बैंक अकाउंट से पैसे कटेंगे।