भारत में सबसे भरोसेमंद ब्रांड की गिनती में शामिल हुए डेल, जीप, एलआईसी: रिपोर्ट

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 4 2019 6:47PM
भारत में सबसे भरोसेमंद ब्रांड की गिनती में शामिल हुए डेल, जीप, एलआईसी: रिपोर्ट
Image Source: Google

ब्रांडों की सबसे बड़ी संख्या टाटा समूह की है और सबसे विश्वसनीय ब्रांडस की सूची में उसके 23 ब्रांड हैं। गोदरेज के 15 ब्रांड हैं, अमूल के 11 और सैमसंग का 8 श्रेणियों में प्रतिनिधित्व है। एलजी, होंडा, कैडबरी, नेस्ले, पारले और डाबर को 7-7 ब्रांडों द्वारा प्रतिनिधित्व मिला है। डाबर के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि यह है कि इसके ब्रांड अपनी अपनी श्रेणियों में से सबसे आगे हैं।

नयी दिल्ली। लैपटॉप ब्रांड डेल भारत का सबसे भरोसेमंद ब्रांड है। इसके बाद वाहन कंपनी जीप और बीमा क्षेत्र की दिग्ज कंपनी एलआईसी का नंबर आता है। टीआरए की ब्रांड विश्वास रिपोर्ट, 2019 के अनुसार शीर्ष सात ब्रांडों में एलआईसी एकमात्र भारतीय कंपनी है। अमेजन चौथा सबसे भरोसेमंद ब्रांड है। उसके बाद एप्पल आईफोन भारत का 5वां सबसे भरोसेमंद ब्रांड है, जो 2018 से 116 वें स्थान से लंबी छलांग के साथ यहां पहुंचा है। इसके साथ ही एप्पल आईफोन मोबाइल फोन श्रृंखला में भी शीर्ष पर है। 

इसे भी पढ़ें: TATA एआईए लाइफ इंश्योरेंस को नयी पॉलिसी की प्रीमियम से हुई इतने करोड़ की आय

सैमसंग का मोबाइल फोन ब्रांड छठे स्थान पर है और मोबाइल फोन में अग्रणी है। एलजी टेलीविजन 7वां स्थान हासिल करने में सफल रहा है और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स सुपर-श्रेणी में भी अग्रणी है। अवीवा लाइफ इंश्योरेंस को8वां सबसे भरोसेमंद ब्रांड आंका गया है और मारुति सुजुकी 9 वें स्थान पर है। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) 10वें स्थान पर है। ब्रांडों की सबसे बड़ी संख्या टाटा समूह की है और सबसे विश्वसनीय ब्रांडस की सूची में उसके 23 ब्रांड हैं। गोदरेज के 15 ब्रांड हैं, अमूल के 11 और सैमसंग का 8 श्रेणियों में प्रतिनिधित्व है। एलजी, होंडा, कैडबरी, नेस्ले, पारले और डाबर को 7-7 ब्रांडों द्वारा प्रतिनिधित्व मिला है। डाबर के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि यह है कि इसके ब्रांड अपनी अपनी श्रेणियों में से सबसे आगे हैं। 
यह टीआरए की ब्रांड रिपोर्ट कानौवां संस्करण है। टीआरए रिसर्च ने 16 शहरों में 2,315 लोगों की राय पर यह रिपोर्ट तैयार की है। इस नई रिपोर्ट पर टीआरए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एन. चंद्रमौली ने कहा कि विश्वास के बिना, एक ब्रांड की उपभोक्ताओं के साथ सहभागिता पूरी तरह से अप्रभावी हो जाती है। एक ब्रांड को लेकर विश्वास उन सभी लेनदेन के आधार पर पैदा होता है जो कि उपभोक्ताओं के ब्रांड के साथ होते हैं। 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप