• राजस्थान में डीजल 100 पर; कर्नाटक में भी पेट्रोल का भाव चढ़ा ऊपर

दिल्ली में पेट्रोल 96.12 रुपये/लीटर और डीजल का भाव86.98 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया है। राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध प्रदेश, तेलंगाना और केंद्र शासित लद्दाख में पेट्रोल के खुदरा भाव पहले ही 100 रुपये या उससे से ऊपर पहुंच गए थे।

नयी दिल्ली। कच्चे तेल के वैश्विक बाजार में तेजी के बीच सरकारी पेट्रोलियम विपणन कंपनियों ने शनिवार को पेट्रोल के भाव में प्रति लीटर 27 पैसे और डीजल में 23 पैसे की वृद्धि की। गत चार मई के बाद पेट्रोलियम उत्पादों के दामों में 23 बार वृद्धि की गयी है जिससे राजस्थान में डीजल 100 रुपये/लीटर और कर्नाटक में पेट्रोल का भाव भी 100 रुपये/लीटर पर पहुंच गया है। कर्नाटक ऐसा सातवां राज्य हो गया है जहां पेट्रोल का भाव 100 रुपये को छू गया है या उससे ऊपर पहुंच गया है। विभिन्न राज्यों में वैट और स्थानीय करों की विभिन्नता के कारण पेट्रोलियम उत्पादों के स्थानीय भाव अलग-अलग होते हैं।

इसे भी पढ़ें: Amazon-Flipkart के खिलाफ की जाएगी जांच, कर्नाटक हाईकोर्ट ने खारिज की याचिका

दिल्ली में पेट्रोल 96.12 रुपये/लीटर और डीजल का भाव86.98 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया है। राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध प्रदेश, तेलंगाना और केंद्र शासित लद्दाख में पेट्रोल के खुदरा भाव पहले ही 100 रुपये या उससे से ऊपर पहुंच गए थे। इस सूची में शनिवार को कर्नाटक भी जुड़ गया। कर्नाटक में बीदर, बेल्लारी, कप्पल, दावणगिरि, शिमोगा और चिकमंगलूर में पेट्रोल 100 रुपये से ऊपर की दर से बिक रहा है। बेंगलुरु में पेट्रोल का भाव 99.39 और डीजल 92.27 रुपये प्रति लीटर है। राजस्थान के श्रीगंगानगर में पेट्रोल देश में सबसे ऊंची दर पर बिक रहा है।

इसे भी पढ़ें: भारत के सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज को फेमा उल्लंघन के लिए ईडी का नोटिस

वहां पेट्रोल का भाव 107.22 और डीजल 100.05 के भाव मिल रहा है। वहां प्रीमियम पेट्रोल की दर 110.50 और प्रीमियम डीजल की दर 103.72 रुपये प्रति लीटर है। राजस्थान में वैट की दर सबसे ऊंची है। मुंबई में पेट्रोल और डीजल के भाव 102.30 रुपये और 94.39 रुपये प्रति लीटर है। चार मई के बाद 23 बार की बढ़ोतरी में पेट्रोल 5.72 रुपये और डीजल 6.25 रुपये महंगा हो चुका है। वैश्विक बाजार में पिछली कुछ सप्ताह से कच्चे तेल का भाव फिर चढ़ने लगा है। बाजार को उम्मीद है कि कोविड-19 का टीकाकरण तेज होने से आर्थिक गतिविधियां तेज होंगी और मांग बढ़ेगी।