DPIIT ने स्टार्ट-अप की मदद के लिए आयकर कानून में छूट का प्रस्ताव दिया

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 5 2019 3:10PM
DPIIT ने स्टार्ट-अप की मदद के लिए आयकर कानून में छूट का प्रस्ताव दिया
Image Source: Google

यह सुझाव ‘स्टार्टअप इंडिया विजन 2024’ का हिस्सा है। डीपीआईआईटी ने उदीयमान उद्यमियों के लिए वृद्धि को प्रोत्साहन तथा वित्त हासिल करने में आ रही दिक्कतों को दूर करने के लिए इसे तैयार किया है।

नयी दिल्ली। स्टार्टअप्स के लिए धन जुटाने की प्रक्रिया को सुगम करने के लिए उद्योग एवं आंतरिक संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) ने आवासीय संपत्तियों की बिक्री और नुकसान को आगे ले जाने से संबंधित आयकर नियमों को उदार करने का प्रस्ताव किया है। यह सुझाव ‘स्टार्टअप इंडिया विजन 2024’ का हिस्सा है। डीपीआईआईटी ने उदीयमान उद्यमियों के लिए वृद्धि को प्रोत्साहन तथा वित्त हासिल करने में आ रही दिक्कतों को दूर करने के लिए इसे तैयार किया है। 

इसे भी पढ़ें: IT कंपनी कॉग्निजेंट का शुद्ध मुनाफा मार्च तिमाही में 15 प्रतिशत गिरा

स्टार्टअप्स के लिए नियामकीय नियमों को उदार करते हुए डीपीआईआईटी ने आयकर कानून की धारा 54 जीबी (कुछ मामलों में आवासीय संपत्ति की बिक्री पर हुए पूंजीगत लाभ को स्थानांतरित करने के लिए कर नहीं) तथा धारा 79 (कुछ कंपनियों के लिए नुकसान को आगे लेकर जाने) में संशोधनों का प्रस्ताव किया है। डीपीआईआईटी ने सुझाव दिया है कि यदि आवासीय संपत्ति की बिक्री पर पूंजीगत लाभ का इस्तेमाल स्टार्टअप के वित्तपोषण के लिए किया जाता तो उस पर कर नहीं लिया जाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: Apple को पछाड़ Huawei बनी स्मार्टफोन बेचने वाली दूसरी सबसे बड़ी कंपनी



एक सूत्र ने कहा कि उदीयमान उद्यमी कई बार अपनी कारोबारी गतिविधियों के लिए आवासीय संपत्ति की बिक्री करते हैं। इसी तरह धारा 79 के संदर्भ में सुझाव दिया गया है कि घाटे को आगे ले जाने के लिए शेयरधारिता की अनिवार्यता से छूट दी जाए। अभी स्टार्टअप के प्रवर्तकों को घाटे को आगे ले जाने के लिए 100 प्रतिशत शेयर की हिस्सेदारी रखना आवश्यक है। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story