अर्थव्यवस्था में सुस्ती चक्रीय, वृद्धि दर एक-दो साल में पकडे़गी रफ्तार: RBI पूर्व गवर्नर जालान

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 4 2019 5:05PM
अर्थव्यवस्था में सुस्ती चक्रीय, वृद्धि दर एक-दो साल में पकडे़गी रफ्तार: RBI पूर्व गवर्नर जालान
Image Source: Google

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर विमल जालान ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था एक या दो साल में रफ्तार पकड़ेगी। उन्होंने कहा कि अभी भारतीय अर्थव्यवस्था में सुस्ती चक्रीय है, लेकिन अगले एक-दो साल में वृद्धि दर रफ्तार पकड़ेगी। जालान ने कहा कि सरकार कई सुधारों की घोषणा करने के लिए तैयार है।

नयी दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर विमल जालान ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था एक या दो साल में रफ्तार पकड़ेगी। उन्होंने कहा कि अभी भारतीय अर्थव्यवस्था में सुस्ती चक्रीय है, लेकिन अगले एक-दो साल में वृद्धि दर रफ्तार पकड़ेगी। जालान ने कहा कि सरकार कई सुधारों की घोषणा करने के लिए तैयार है। अब सवाल उनके क्रियान्वयन का है विशेषरूप से निवेश की दृष्टि से।जालान ने कहा, ‘‘वृद्धि में सुस्ती चक्रीय है। एक या दो साल में निश्चित रूप से अर्थव्यवस्था में सुधार होगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: रिजर्व बैंक ने धोखाधड़ी की सूचना देने में देरी के कारण कई बैंकों पर लगाया जुर्माना

जालान ने स्पष्ट किया कि आज की स्थिति 1991 की तुलना में काफी अलग है। उस समय देश को बाहरी मोर्चे पर गंभीर आर्थिक संकट से जूझना पड़ा था। उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘1991 की तुलना में भारत आज काफी मजबूत स्थिति में है। यदि आप मुद्रास्फीति की दर देखें तो यह काफी निचले स्तर पर है। अगर आप विदेशी मुद्रा भंडार देखें तो यह काफी ऊंचे स्तर पर है।’’ वैश्विक और घरेलू कारणों से अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष और एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने भारत की वृद्धि दर के अनुमान को कम किया है। 

इसे भी पढ़ें: कोर्ट ने RBI से पूछा, नोटों और सिक्कों के आकार में बार-बार बदलाव क्यों हो रहे हैं?



आईएमएफ के ताजा अनुमान के अनुसार 2019 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7 प्रतिशत और 2020 में 7.2 प्रतिशत रहेगी। वहीं एडीबी ने भी चालू साल के लिए भारत की वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 7 प्रतिशत कर दिया है। यह पूछे जाने पर कि निजी क्षेत्र निवेश क्यों नहीं कर रहा है, जालान ने कहा कि यह नोटबंदी के बाद का प्रभाव हो सकता है या वे लोकसभा चुनाव के नतीजों का इंतजार कर रहे थे।व्यय प्रबंधन आयोग के पूर्व चेयरमैन ने विदेशी सरकारी कर्ज के बारे में पूछे जाने पर कहा कि सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि यह 5 से 20 साल के लिए होगा। यह लघु अवधि के लिए नहीं होना चाहिए। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video