52 करोड़ रुपए का जीएसटी फर्जीवाड़ा, GST ने किया एक अधिकारी को गिरफ्तार

 GST
जीएसटी के पुणे के अधिकारियों ने इन-पुट-क्रेडिट फर्जीवाड़े में एक को गिरफ्तार किया है।सूत्रों ने बताया कि मुनोअट ने मैसर्स ऋतु एंटरप्राइज और कुछ अन्य बना रखी थीं और कमीशन कमाने के लिए उनके नाम से फर्जी बीजक बनाता था।

नयी दिल्ली। जीएसटी के पुणे परिक्षेत्र के अधिकारियों ने इनपुट—टैक्स—क्रे​डिट :आईटीसी: के 52 करोड़ रुपये से अधिक के फर्जीवाड़े में एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर के खरीद—फरोख्त के फर्जी बीजक तैयार करने वाले तंत्र का भांडाफोड़ किया है। सूत्रों ने बताया इस गोरखधंधे में ​फर्जी बीजक काट कर 52.19 करोड़ रुपये के कर—क्रेडिट का लाभ ​दिलवाया गया। ़ एवं सेवा कर आसूचना महानिदेशालय की पुणे परिक्षेत्र इकाई के अधिकारियों ने तुषार अशोक मुनोअट नाम के व्यक्ति को गिरफ्तर किया है। वह फर्जी बीजकों का लेन—देन करता था। वह कमीशन ले कर फर्जी बिल काट कर दूसरों को जारी करता था ताकि उसका इस्तेमाल कर आइटीसी का उठाया जा सके। जीएसटी के तहत कर पर कर से बचने के लिए माल व सेवा बनाने से बेचने की हर अगली कड़ी में पहले चुकाए गए करों की वापसी का दावा मिल जाता है।

इसे भी पढ़ें: गिरावट के साथ खुला आज का शेयर बाजार, सेंसेक्स 100 अंकों से ज्यादा लुढ़का

सूत्रों ने बताया कि मुनोअट ने मैसर्स ऋतु एंटरप्राइज और कुछ अन्य बना रखी थीं और कमीशन कमाने के लिए उनके नाम से फर्जी बीजक बनाता था।  मुनोअट को 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले में एक गांव से पकड़ा गया। मजिस्ट्रेट ने उसे दो नवंबर तक ​न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। बताया जा रहा है कि मैसर्स ऋतु एंटरप्राइज के चार जीएसटीआईएन नंबर हैं जो अलग अलग राज्यों महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश के हैं। इसने सिविल निर्माण, पाइपलाइन ​बिछाने, बिजली के काम और भवन की आंत​रिक सज्जा का कारोबार दिखा रखा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़