भारत ने 15 देशों से आयातित स्टेनलेस स्टील की डंपिंग की जांच शुरू की

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 9 2019 4:13PM
भारत ने 15 देशों से आयातित स्टेनलेस स्टील की डंपिंग की जांच शुरू की
Image Source: Google

जांच में डीजीटीआर कथित डंपिंग की स्थिति एवं उसके प्रभावों का आकलन करेगी एवं डंपिंग रोधी शुल्क की सिफारिश करेगी। शुल्क घरेलू उद्योग को हुए नुकसान की पूर्ति के लिहाज से पर्याप्त होगा।

नयी दिल्ली। भारत ने चीन, अमेरिका और जापान सहित 15 देशों से आयातित स्टेनलेस स्टील की कथित डंपिंग की जांच शुरू की है। घरेलू कंपनियों की ओर से की गयी शिकायतों के आधार पर यह कार्रवाई शुरू की गयी है। वाणिज्य मंत्रालय की अन्वेषण शाखा डीजीटीआर ने चीन, कोरिया, यूरोपीय संघ, जापान, ताइवान, इंडोनेशिया, अमेरिका, थाईलैंड, दक्षिण अफ्रीका, संयुक्त अरब अमीरात, हांगकांग, सिंगापुर, मैक्सिको, वियतनाम और मलेशिया के उत्पादों की डंपिंग का सबूत मिलने के बाद जांच शुरू की गई है।

इसे भी पढ़ें: देश में बैंकों के घोटाले इसी तरह बढ़ते रहे तो निवेशक दूर भाग जाएँगे

व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर)ने एक अधिसूचना में कहा, प्राधिकार ने कथित डंपिंग और घरेलू उद्योग को होने वाले नुकसान को लेकर जांच शुरू की है।  उसने कहा है कि जांच में डीजीटीआर कथित डंपिंग की स्थिति एवं उसके प्रभावों का आकलन करेगी एवं डंपिंग रोधी शुल्क की सिफारिश करेगी। शुल्क घरेलू उद्योग को हुए नुकसान की पूर्ति के लिहाज से पर्याप्त होगा।

इसे भी पढ़ें: वॉशिंगटन में भारत केंद्रित व्यापार सम्मेलन बैठक को संबोधित करेंगे कुश्नर, पेलोसी, रॉस और पैरी



इंडियन स्टेनलेस स्टील डेवलपमेंट एसोसिएशन, जिंदल स्टेनलेस, जिंदल स्टेनलेस (हिसार) और जिंदल स्टेनलेस स्टीलवे ने इन देशों से उत्पाद की डंपिंग किये जाने के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी है। उन्होंने इन देशों से होने वाले आयात पर डंपिंग रोधी शुल्क लगाने का आग्रह किया है। डीजीटीआर के मुताबिक वर्ष 2018-19 अवधि के दौरान हुये आयात की जांच की जाएगी। घरेलू उद्योगों को इस आयात से हुये नुकसान के बारे में 2015 से 2018 के आंकड़ों को भी संज्ञान में लिया जायेगा। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video