चार दिनों में 2500 अंक से ज्यादा गिरा सेंसेक्स, इनवेस्टर्स के डूबे 8 लाख करोड़, जानें किन वजहों से टूट रहा बाजार?

चार दिनों में 2500 अंक से ज्यादा गिरा सेंसेक्स, इनवेस्टर्स के डूबे 8 लाख करोड़, जानें किन वजहों से टूट रहा बाजार?

शुरुआती कारोबार में बीएसई सेंसेक्स करीब 700 अंक टूटा। पहले मिनट में निवेशकों के करीबन 2.5 लाख करोड़ रुपए डूब गए। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 194.10 अंक या 1.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17,562.90 पर कारोबार कर रहा था। दूसरी तरफ पॉवरग्रिड और एचयूएल के शेयर लाभ में रहे।

शेयर बाजार में लगातार गिरावट जारी है और हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिनों में भी ये गिरावट देखने को मिल रही है। जिसकी वजह से इक्विटी निवेशकों की संपदा में 8 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की कमी दर्ज की गई है। शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में बीएसई सेंसेक्स करीब 700 अंक टूटा। पहले मिनट में निवेशकों के करीबन 2.5 लाख करोड़ रुपए डूब गए। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 194.10 अंक या 1.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17,562.90 पर कारोबार कर रहा था। दूसरी तरफ पॉवरग्रिड और एचयूएल के शेयर लाभ में रहे। पिछले सत्र में तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 634.20 अंक यानी 1.06 प्रतिशत लुढ़ककर 59,464.62 पर बंद हुआ। ऐसे आपको इस गिरावट के प्रमुख कारणों से अवगत कराते हैं। 

इसे भी पढ़ें: ATM से निकलते हैं कटे फटे नोट तो बैंक जिम्मेदार, अगर बदलने से किया मना तो लगता है जुर्माना

वैश्विक बाजार

वैश्विक बाजारों में नकारात्मक रूख और विदेशी पूंजी की निरंतर निकासी के कारण से दुनिया भर के बाजार गिरावट में हैं। अमेरिका की फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढोतरी की उम्मीद में ग्लोबल बॉन्ड यील्ड में उछाल की वजह से निवेशक जोखिम लेने से बच रहे हैं और जिसकी वजह से अपने पोर्टफोलियो में कम रिस्की असेट्स शामिल कर रहे हैं। 

 वित्तीय तंगी

न केवल अमेरिका में बल्कि भारत में भी वित्तीय स्थितियां खराब हो रही हैं क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक लिक्विडिटी  के सामान्यीकरण के अपने रास्ते पर कदम बढ़ा रहा है। कॉल मनी रेट, जिस दर पर बैंक रातोंरात उधार लेते हैं, पिछले महीने के लगभग 3.25-3.50 प्रतिशत के औसत से बढ़कर 4.55 प्रतिशत हो गया। कॉल रेट में उछाल के साथ-साथ ट्राई-पार्टी रेपो डीलिंग और सेटलमेंट में आज 4.24 की वृद्धि हुई, जो दिसंबर के अंत में लगभग 3.5 प्रतिशत थी।

इसे भी पढ़ें: बीएसएनल बिगाड़ रहा है दूसरी कंपनियों का खेल, इस प्लान में दे रहा है 90 दिन की एक्स्ट्रा वैलिडिटी, साथ में 3GB डेटा और अनलिमिटेड कॉलिंग का ऑफर

एफपीआई सेलिंग

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों में बिकवाली का सिलसिला बेरोकटोक जारी है क्योंकि उन्होंने वैश्विक बॉन्ड यील्ड को मजबूत करने और जापान और यूरोप के आकर्षक मूल्यवान बाजारों में कदम रखने के बीच अपने पोर्टफोलियो में फेरबदल किया है। कुल मिलाकर, विदेशी निवेशकों ने अब अक्टूबर की शुरुआत से 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक की इक्विटी बेची है।

मार्जिन और डिमांड

दिसंबर को समाप्त तिमाही के लिए भारतीय कंपनियों की आय ने अब तक संकेत दिया है कि उनके परिचालन मार्जिन पर उच्च दबाव बना हुआ है और उनकी लाभप्रदता को प्रभावित कर रहा है। हिंदुस्तान यूनिलीवर जैसी कंपनियों की प्रारंभिक टिप्पणी ने भी ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पर दबाव के संकेत मिले हैं, जबकि बजाज फाइनेंस ने इस महीने की शुरुआत में सुझाव दिया था कि शहरी क्षेत्रों में कम आय वाले उपभोक्ता भी भी महामारी से प्रभावित हुए हैं।