• कक्षा 12वीं परीक्षा के दौरान विदेश में पढ़ाई के लिए बेस्ट 5 टिप्स

अपने मनचाहे विश्वविद्यालय में प्रवेश पाने और वहां अपने समय का अधिकतम लाभ उठाने की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए आपके लिए संस्थान के दृष्टिकोण के साथ-साथ दिए जाने वाले पाठ्यक्रमों से परिचित होना भी महत्वपूर्ण है।

विदेश में पढ़ाई करना जीवन भर का अनुभव हो सकता है, लेकिन इसमें पैसा भी खर्च हो सकता है। विदेश में अध्ययन की लागत की भरपाई करने का रहस्य यह याद रखना है कि आप विदेश में अध्ययन करने के लिए जो भुगतान करते हैं वह मन की शांति और सहजता के लिए है। विदेश में अध्ययन कार्यक्रम आपको आवास खोजने में मदद करने, विदेशी विश्वविद्यालयों में नामांकन में मदद करने या यहां तक कि आपकी वीजा प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए अतिरिक्त शुल्क लेते हैं। इनमें से कुछ या सभी कार्यों को स्वयं करके आप विदेश में अपने अध्ययन के अनुभव को बहुत आसान बना सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: कैसे होती है सीबीआई में भर्ती? जानें पूरी प्रक्रिया

भारत में कोविड-19 के प्रकोप की दूसरी लहर के कारण केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) कक्षा 12 की परीक्षाओं को हाल ही में स्थगित करने से आपकी विदेश में अध्ययन करने की योजनाएँ शायद बाधित हो गयी होंगी। लेकिन इस स्थिति से पैदा हुई परेशानिओं और तनाव को अपने ऊपर हावी न होने दें। यहां कुछ टिप्स दिए गए हैं जिनका पालन करके आप इस साल 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा के बाद विदेशी विश्वविद्यालयों में उच्च अध्ययन के लिए खुद को तैयार कर सकते हैं।

1. किसी विदेशी विश्वविद्यालय या भाषा स्कूल में सीधे नामांकन करें

उन पांच देशों की एक शॉर्टलिस्ट बनाने पर विचार करें जहां आप विदेश में अध्ययन करना चाहते हैं। इसके बाद उन देशों में सार्वजनिक विश्वविद्यालय की वेबसाइटों की जाँच करें कि क्या ट्यूशन की लागत आपके लिए अनुकूल है। इसके अलावा इन देशों में रहने की लागत को भी ध्यान में रखें।

अपने मनचाहे विश्वविद्यालय में प्रवेश पाने और वहां अपने समय का अधिकतम लाभ उठाने की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए आपके लिए संस्थान के दृष्टिकोण के साथ-साथ दिए जाने वाले पाठ्यक्रमों से परिचित होना भी महत्वपूर्ण है। कई विश्वविद्यालय अभी विशेष कार्यक्रमों की पेशकश कर रहे हैं और आपको समान नामों वाले कुछ पाठ्यक्रम मिल सकते हैं, लेकिन बहुत अलग पाठ्यक्रम और नौकरी की संभावनाओं के साथ। इसलिए अच्छी तरह से ये  पता करें कि कौन सा कार्यक्रम आपके लिए सबसे उपयुक्त है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों को घर बैठे खेल-खेल में सिखाएं गणित के गुण, यह हैं टॉप प्लेटफॉर्म

आप उन विश्वविद्यालयों में प्रवेश परामर्शदाताओं से बात करने के बारे में भी सोच सकते हैं, जिनके लिए आप आवेदन करने में रुचि रखते हैं, ताकि आप यह बेहतर तरीके से समझ सकें कि वहां अध्ययन करने का क्या मतलब होगा।

2. छात्रों या पूर्व छात्रों से जुड़ें

अपनी पसंद के विश्वविद्यालय का चयन करने में वर्तमान छात्रों और पूर्व छात्रों से अधिक उनके अध्ययन के अनुभव पर सलाह लेने के लिए  कौन बेहतर हो सकता है? उनके विचार और अनुभव  से आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि स्कूली जीवन कैसा होता है।

विदेश में अपने अध्ययन के साथ वहां की संस्कृति, इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, सरकार- सब कुछ जानने के लिए और खुद को बेहतर ढंग से परिचित करने के लिए कुछ समय निकालें।  इससे  विदेश में आपका अध्ययन अनुभव समृद्ध होगा और आपका समय अधिक सार्थक व्यतीत होगा। आप कई विश्वविद्यालयों की वेबसाइटों या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से छात्रों की सलाह  आसानी से पा सकते हैं या फिर छात्र राजदूतों से भी जुड़ सकते हैं। 

3. पासपोर्ट, वीज़ा, वित्तीय सहायता और आवास के लिए आवेदन आवश्यकताओं की जाँच करें

विदेश यात्रा और अध्ययन करने के लिए आपके पास वैध पासपोर्ट होना चाहिए। यदि आपके पास पहले से ही है तो दोबारा जांच लें कि इसकी समय सीमा समाप्त तो नहीं हुई है। साथ ही यह भी  सुनिश्चित करें कि यदि आपने पहले विदेश यात्रा की है तो आपके पासपोर्ट में खाली पृष्ठ हैं।

पासपोर्ट के अलावा आपको विदेश में अध्ययन करने के लिए वीजा की आवश्यकता हो सकती है। अलग-अलग देशों में अलग-अलग वीजा आवश्यकताएं होती हैं, इसलिए विदेश विभाग की वेबसाइट पर विदेश में अपने इच्छित अध्ययन के लिए नियम देखें। वीज़ा आवश्यकताओं और किसी विशेष यात्रा प्रतिबंध के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप जिस देश में जाने की योजना बना रहे हैं, उसके निकटतम दूतावास या वाणिज्य दूतावास से भी संपर्क कर सकते हैं। 

4. एक नया कौशल या भाषा सीखें

अभी आपके पास अधिक समय होने के कारण आप घर पर रहकर कोई नया कौशल या भाषा भी सीख सकते हैं। ऐसे कई विश्वविद्यालय हैं जो मैसिव ओपन ऑनलाइन कोर्स (एमओओसी) प्लेटफॉर्म जैसे कौरसेरा और एडएक्स के माध्यम से मुफ्त ऑनलाइन पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। आप इनमें से कुछ पाठ्यक्रमों के लिए प्रमाणपत्र भी प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एचकेयूएसटी फिनटेक, जावा प्रोग्रामिंग और बिजनेस इंग्लिश पर एमओओसी प्रदान करता है।

आजकल कई ऐसे शिक्षण संस्थान भी हैं जो भाषाओं के लिए ऑनलाइन पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। उचित कौशल होने और स्थानीय भाषा का थोड़ा ज्ञान होने से आपको विदेशी विश्वविद्यालय में अध्ययन और विदेश में जीवन के अनुकूल होने में मदद मिल सकती है।

5. उस देश और क्षेत्र के बारे में जानकारी प्राप्त करें जिसमें आप अध्ययन करना चाहते हैं

यदि आप एक नए शहर में अध्ययन करने की योजना बना रहे हैं तो आप वहां तीन से चार साल तक तो रहेंगे ही, इसलिए स्थानीय संस्कृति और प्रथाओं को पहले ही समझ लेना अच्छा होगा। अधिकांश विश्वविद्यालयों की वेबसाइटें उस शहर के बारे में डिटेल्स देती  हैं जिसमें वे स्थित हैं।  आप विश्वविद्यालयों के छात्र राजदूतों के साथ-साथ अन्य यात्रा गाइडों के माध्यम से भी शहर के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। 

- जे. पी. शुक्ला