UPSC की तैयारी कैसे शुरू करें? जानिये कुछ महत्वपूर्ण टिप्स

UPSC की तैयारी कैसे शुरू करें? जानिये कुछ महत्वपूर्ण टिप्स

UPSC सिविल सेवा परीक्षा भारत की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक है। हर साल देश भर में लाखों लोगों द्वारा इसके लिए प्रयास किया जाता है। हालांकि, उनमें से केवल एक छोटा सा अंश ही उनकी IAS महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम हो पाता है।

संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission-UPSC) क्या है? संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) भारत की एक केंद्रीय एजेंसी है, जो विभिन्न परीक्षाओं का आयोजन करती है, जैसे कि सिविल सेवा परीक्षा (CSE), IFS, NDA, CDS, SCRA आदि। सिविल सेवा परीक्षा को IAS परीक्षा के रूप में जाना जाता है और इसमें लगभग 24 सेवाएँ शामिल हैं, जैसे- IFS, IPS, IRS, IRPS इत्यादि।

इसे भी पढ़ें: वेब डिजाइनिंग के क्षेत्र में कॅरियर का निर्माण कैसे करें

UPSC सिविल सेवा परीक्षा भारत की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक है। हर साल देश भर में लाखों लोगों द्वारा इसके लिए प्रयास किया जाता है। हालांकि, उनमें से केवल एक छोटा सा अंश ही उनकी IAS महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम हो पाता है। IAS परीक्षा न केवल अपने पाठ्यक्रम की लंबाई के संदर्भ में चुनौतीपूर्ण है, बल्कि इसकी अत्यधिक अप्रत्याशित प्रकृति के कारण भी यह चुनौतीपूर्ण है। सिविल सेवा परीक्षा (CSE) को सभी लिखित परीक्षाओं की जननी माना जाता है।

यूपीएससी परीक्षा के चरण:

जैसा कि आप जानते हैं, UPSC सिविल सेवा परीक्षा में तीन चरण होते हैं- Prelims, Mains और Interview। पहला चरण प्रारंभिक परीक्षा है। इसलिए, यहाँ यह जानना आवश्यक है कि यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षाओं की प्रभावी तैयारी कैसे करें!

UPSC परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

यहाँ कुछ महत्वपूर्ण  टिप्स आगामी यूपीएससी 2021 परीक्षा के लिए दिए जा रहे हैं, जो आपको एक अच्छी रणनीति तैयार करने में मदद करेंगे।

1. अपने आप को तैयार करें

- यह समझने की कोशिश करने से पहले कि यूपीएससी की तैयारी कैसे शुरू करें, आपको खुद को इस यात्रा के लिए तैयार करना चाहिए।

- अपनी तैयारी शुरू करने से पहले परीक्षा के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से अपने आप को तैयार करें। लक्ष्य निर्धारित करें और प्रभावी ढंग से समय समर्पित करें।

इसे भी पढ़ें: टिफिन सर्विस का बिजनेस शुरू कर कमा सकते हैं लाखों

2. टाइम टेबल बनाएं

- IAS अधिकारी बनने के लिए एक सुव्यवस्थित दैनिक दिनचर्या वाले अधिकारी की तरह ही होना आवश्यक है।

- आपको अपनी तैयारी से पहले एक आरामदायक समय सारणी निर्धारित करनी चाहिए और उस पर टिक जाना चाहिए।

- समय सारणी बनाने से आपकी तैयारी आसान और अधिक सुव्यवस्थित हो जाएगी। समय सीमा के साथ आप बेहतर काम करेंगे और पाठ्यक्रम को तेजी से पूरा भी करेंगे।

3. UPSC सिलेबस को ठीक से समझें

- पाठ्यक्रम किसी भी परीक्षा की आत्मा होता है। पुस्तकों के अध्ययन से पहले पाठ्यक्रम जानना सबसे महत्वपूर्ण है।

- UPSC ने सिविल सेवा प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा के लिए पाठ्यक्रम को विस्तृत रूप से प्रदान किया है।

- उम्मीदवारों को यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के पाठ्यक्रम को समझना और उसका पालन करना चाहिए। पाठ्यक्रम को जानने से आपको प्रासंगिक अध्ययन सामग्री चुनने, विषयों को प्राथमिकता देने आदि में मदद मिलेगी।

4. IAS के लिए समाचार पत्र / करंट अफेयर्स का अध्ययन करें

- समाचार पत्र IAS परीक्षा का सबसे महत्वपूर्ण पहलू होता है।

- यदि आप दैनिक समाचार पत्र नहीं पढ़ते हैं या IAS परीक्षा के लिए दैनिक समाचारों का पालन नहीं करते हैं, तो आप इस परीक्षा को पास करने की उम्मीद नहीं कर सकते।

- सिविल सेवा परीक्षा में पूछे गए प्रश्न प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से करेंट अफेयर्स से जुड़े होते हैं। इसलिए, अपने दैनिक समाचार पत्र में प्रासंगिक समाचार आइटम का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है।

5. वैकल्पिक विषय (Optional subject) चुनना

- यूपीएससी फाइनल टैली में 500 अंकों के लिए वैकल्पिक विषय होता है।

- इसलिए, आपको बुद्धिमानी से एक वैकल्पिक विषय का चयन करना चाहिए और विषयों के पक्ष और विपक्ष के बारे में पूरी तरह से सचेत रहना चाहिए, जैसे कि उस विषय में रुचि, इसमें पूर्व ज्ञान / अकादमिक पृष्ठभूमि, कोचिंग की उपलब्धता, अध्ययन सामग्री की उपलब्धता आदि।

इसे भी पढ़ें: किस प्रकार आपके कॅरियर में मददगार होंगे यह '5 पॉइंट्स'

6. एनसीईआरटी (NCERT)

- कक्षा छह से बारह तक की NCERT पाठ्यपुस्तकें IAS परीक्षा की तैयारी में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

- ये पुस्तकें जानकारी को बहुत सुसंगत रूप से प्रदान करती हैं। इसके अलावा, वे विश्वसनीय भी हैं, क्योंकि स्रोत स्वयं सरकार है।

- NCERT के अलावा, आपको कुछ अन्य उन्नत पाठ्यपुस्तकों का भी अध्ययन करना चाहिए।

7. नोट्स बनाना

- यूपीएससी की तैयारी के दौरान छोटे नोट्स बनाना मददगार होता है।

- चूंकि यूपीएससी का सिलेबस बहुत विशाल है, इसलिए यह भागों को कवर करने में मदद करता है और संशोधन के लिए रेडी-रेकनर के रूप में भी कार्य करता है।

- आपके पास अलग-अलग विषयों के लिए अलग-अलग फाइलें या नोटबुक हो सकती हैं। यह विशेष रूप से करंट अफेयर्स से जुड़ी खबरों को किसी खास विषय से जोड़ने के मामले में विशेष रूप से सहायक होते हैं।

8. उत्तर लेखन अभ्यास

- IAS मुख्य परीक्षा के पेपर प्रकृति में वर्णनात्मक होते हैं।

- यह मुख्य रूप से आपके विश्लेषणात्मक, महत्वपूर्ण और संचार क्षमताओं के परीक्षण के बारे में है।

- एक और बात ध्यान में रखी जानी चाहिए कि उत्तर पुस्तिका में समय और स्थान की कमी होती है। इसलिए, उम्मीदवारों को प्रश्नों का उत्तर जल्दी और प्रभावी रूप से और न्यूनतम शब्दों में देना होगा। और यह पर्याप्त उत्तर लेखन अभ्यास के बिना संभव नहीं है।

9. पिछले वर्षों के यूपीएससी प्रश्न पत्रों को हल करना

- पिछले प्रश्न पत्र यूपीएससी पैटर्न, कठिनाई स्तर और प्रश्नों के प्रकार के सबसे विश्वसनीय स्रोत हैं।

- आप UPSC परीक्षा के पेपर के रुझानों को आसानी से आंक सकते हैं।

- यह आपको यह समझने में भी मदद करेगा कि किसी विशेष विषय में कौन से क्षेत्र सबसे महत्वपूर्ण हैं।

- अंत में, यह आपकी IAS की तैयारी में स्व-मूल्यांकन का एक अच्छा स्रोत है।

इसे भी पढ़ें: UPTET की तैयारी और उसकी बेहतर सफलता के लिए क्या करें? 

10. मॉक टेस्ट सीरीज़

- स्व-मूल्यांकन (Self-assessment) यूपीएससी की तैयारी का एक अनिवार्य हिस्सा है।

- यह मॉक टेस्ट श्रृंखला में शामिल होने के लिए अत्यधिक अनुशंसित है, खासकर यदि आप घर से तैयारी कर रहे हैं। यह आपको खुद का आकलन करने में मदद करेगा।

11. महत्वपूर्ण सरकारी संसाधन

- आपका अंतिम उद्देश्य जब आप IAS परीक्षा दे रहे हैं तो भारत सरकार के लिए काम करना है।

- स्वाभाविक रूप से, कई सरकारी स्रोत हैं जो आप अपनी तैयारी के दौरान भरोसा कर सकते हैं। पीआईबी, पीआरएस जैसी सरकारी वेबसाइटें और राज्यसभा टीवी पर दिखाए जाने वाले राष्ट्रीय टेलीविजन कार्यक्रम बहुत मददगार हो सकते हैं।

12. संशोधन (Revision)

- जब आप यूपीएससी जैसी किसी कठिन परीक्षा की तैयारी कर रहे हों तो रिविजन बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।

- चूंकि UPSC पाठ्यक्रम विशाल और विविध है और इसमें विविध विषयों को शामिल किया गया है, इसलिए उन चीजों को भूल जाना स्वाभाविक है, जिन्हें आपने पहले पढ़ा था। इससे बचने के लिए समय पर संशोधन बहुत आवश्यक होता है।

13. प्रासंगिक पत्रिकाएँ

- IAS परीक्षा के लिए पत्रिकाएँ जैसे योजना, कुरुक्षेत्र, आर्थिक और राजनीतिक साप्ताहिक इत्यादि बहुत महत्वपूर्ण होती हैं।

- उनमें राज व्यवस्था, शासन, कृषि, अर्थव्यवस्था आदि विषयों पर महत्वपूर्ण जानकारी होती है।

इसे भी पढ़ें: बेहद अनोखा कॅरियर है मिक्सोलॉजी, नौकरी की अपार संभावनाएं

14. यूपीएससी साक्षात्कार

- जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, यूपीएससी परीक्षा प्रक्रिया में अंतिम चरण यूपीएससी साक्षात्कार या व्यक्तित्व परीक्षण होता है।

- आपको राजनयिक कौशल, संचार कौशल, दिमाग की उपस्थिति, तनाव की प्रतिक्रिया आदि जैसे गुणों पर मूल्यांकन किया जाएगा।

- आपसे अपने हितों, शौक, शिक्षा और कार्य अनुभव, यदि कोई हो, के बारे में भी प्रश्न पूछे जाएंगे। तो, आपको इन पहलुओं पर अच्छी तरह से तैयारी करनी होगी।

15. सकारात्मक बने रहें

- पूरे यूपीएससी यात्रा का सबसे महत्वपूर्ण पहलू सकारात्मक बने रहना है।

- ऐसे कई क्षण आते हैं जब माहौल काफी भारी हो सकता है और आप उदास या नर्वस हो सकते हैं। इसलिए नकारात्मक विचारों को अपने सिर से हटा दें और काम करें।

- जे. पी. शुक्ला