मेडिकल क्षेत्र में बनाना चाहते हैं अपना कॅरियर तो भारत के इन टॉप कॉलेजों के बारे में जान लें

मेडिकल क्षेत्र में बनाना चाहते हैं अपना कॅरियर तो भारत के इन टॉप कॉलेजों के बारे में जान लें

डिप्लोमा इन फार्मेसी, जो तीन साल का कोर्स है और जिन छात्रों ने साइंस स्ट्रीम (फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी / मैथमेटिक्स) के साथ क्लॉस 12वीं पूरा कर लिया है, वे इस कोर्स को करने के लिए योग्य हैं।

चिकित्सा क्षेत्र में सफलता उस संस्थान पर काफी निर्भर करती है, जहां छात्र अपने चिकित्सा पाठ्यक्रम को करना चाहते हैं। इसलिए, सभी छात्र, जो वर्तमान में अपनी 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें भारत के सर्वश्रेष्ठ मेडिकल कॉलेजों की पहचान करना शुरू कर देना चाहिए, जो उन्हें भविष्य में अपने अनुसार योजना बनाने में मदद करेंगे। भारत में निजी और सरकारी एमबीबीएस कॉलेजों में प्रवेश NEET UG परीक्षा में छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर किया जाता है।

वहीँ डिप्लोमा इन फार्मेसी, जो तीन साल का कोर्स है और जिन छात्रों ने साइंस स्ट्रीम (फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी / मैथमेटिक्स) के साथ क्लॉस 12वीं पूरा कर लिया है, वे इस कोर्स को करने के लिए योग्य हैं। उसके बाद आप बी फार्म और बी फार्म (आयुर्वेद) के लिए विकल्प चुन सकते हैं जो चार साल का कोर्स है। किसी भी फ़ार्मेसी पाठ्यक्रम में दाखिला लेने के लिए उम्मीदवारों को पात्रता मानदंडों को पूरा करने की आवश्यकता होती है और विभिन्न फ़ार्मेसी कॉलेजों / संस्थानों के संबंधित प्रवेश परीक्षाओं को पास करना होता है। चयन प्रक्रिया में प्रवेश परीक्षा में शैक्षणिक पात्रता, वैध स्कोर और रैंक शामिल होते हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना महामारी के दौर में बोर्ड एग्जाम की तैयारी के लिए टिप्स 

आइये जानते हैं कुछ शीर्ष संस्थान के बारे में-

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), नई दिल्ली

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में प्रवेश प्रदान करता है। एम्स नई दिल्ली में बीएससी में प्रवेश पाठ्यक्रम प्रवेश परीक्षा के माध्यम से किया जाता है और उसके बाद साक्षात्कार होता है। स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में प्रवेश लिखित परीक्षा के आधार पर विभागीय मूल्यांकन के बाद किया जाता है।

पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, चंडीगढ़

पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआईएमईआर) चंडीगढ़, भारत में एक प्रमुख चिकित्सा और अनुसंधान संस्थान है, जो भारत में चिकित्सा शिक्षा के लिए एक बहुत ही लोकप्रिय और राष्ट्रीय महत्व का संस्थान है। नैदानिक सेवाओं के अलावा, PGI में पोस्ट ग्रेजुएट और पोस्ट डॉक्टोरल डिग्री, डिप्लोमा और फेलोशिप सहित चिकित्सा के लगभग सभी विषयों में प्रशिक्षण होता है। चूंकि यह एक स्नातकोत्तर संस्थान है, इसलिए इसमें स्नातक एमबीबीएस पाठ्यक्रमों की सुविधाएं नहीं हैं।

क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, वेल्लोर

पहले यह कॉलेज मद्रास विश्वविद्यालय से संबद्ध था, लेकिन बाद में यह डॉ एम.जी.आर. मेडिकल यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु से संबद्ध हो गया। सीएमसी वेल्लोर के पाठ्यक्रमों में बीएससी नर्सिंग, एएचएस डिग्री, डिप्लोमा नर्सिंग, एएचएस डिप्लोमा / पीजी डिप्लोमा / फेलोशिप, डीएम / एम.सी.एच, पोस्ट डॉक्टरल फैलोशिप, एमपीएच एंड एमएससी एपिडेमियोलॉजी, एम.एस. बायोटैस्टिक्स, मेडिकल फिजिक्स, एमएस बायोइन्जिनियरिंग, मेडिकल पोस्ट ग्रेजुएट शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: सुपर टेट क्या है और इसे कैसे कर सकते हैं? 

नेशनल इँस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेज (NIMHANS), बेंगलुरू

यह भारत का एक प्रमुख चिकित्सा संस्थान है। NIMHANS देश में मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका विज्ञान शिक्षा का शीर्ष केंद्र है। NIMHANS UG स्तर पर विभिन्न विषयों में B.Sc और डिप्लोमा कार्यक्रम प्रदान करता है। स्नातकोत्तर स्तर पर संस्थान पीजी डिप्लोमा के साथ M.Sc, MPH, DM, M.Ch और MD पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ

संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान में NEET PG स्कोर के आधार पर M.D कार्यक्रमों और NEET SS स्कोर के आधार पर D.M और M.Ch कार्यक्रमों की सुविधा प्रदान की जाती है। छात्रों को अखिल भारतीय स्तर की एनईईटी काउंसलिंग के लिए भी अपना पंजीकरण कराना होता है, जहां क्रमशः एनईईटी पीजी और एनईईटी एसएस के स्कोर के आधार पर सीटें आवंटित की जाती हैं।

राष्ट्रीय फार्मास्युटिकल शिक्षा और अनुसंधान संस्थान (एनआईपीईआर), मोहाली

एनआईपीईआर मोहाली, भारत के रसायन और उर्वरक मंत्रालय (MCFI) द्वारा शुरू किया गया एक प्रमुख फार्मास्युटिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ नेशनल इंपोर्टेंस है। संस्थान नौ में दो साल का एमएस (फार्मेसी), तीन में एमफार्मा, दो में एमटेक और एक विशेषज्ञता में एमबीए (फार्मा) प्रदान करता है। एनआईपीईआर एसएएस नगर को फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) द्वारा मान्यता प्राप्त है और यह एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटी (एआईयू) और कॉमनवेल्थ यूनिवर्सिटी (सीडब्ल्यूयू) का सदस्य है। 

इसे भी पढ़ें: जांबाज वन अधिकारी बनें और करें देश सेवा 

पंजाब यूनिवर्सिटी (PUCHD)

पंजाब यूनिवर्सिटी में स्नातक, स्नातकोत्तर, डिप्लोमा / पीजी डिप्लोमा, बिज़नेस और मैनेजमेंट स्टडीज, अकाउंटिंग एंड कॉमर्स, आर्ट्स (फाइन / विजुअल / परफॉर्मिंग), डिज़ाइन, इंजीनियरिंग, मानविकी और सामाजिक विज्ञान, कानून, चिकित्सा, स्वास्थ्य विज्ञान, और विज्ञान जैसी धाराओं में व्यावसायिक पाठ्यक्रम उपलब्ध है।

जामिया हमदर्द, नई दिल्ली

जामिया हमदर्द कई क्षेत्रों जैसे इंजीनियरिंग, प्रबंधन, फार्मेसी, चिकित्सा आदि में कई पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश प्रदान करता है, कुछ पाठ्यक्रमों में प्रवेश अखिल भारतीय स्तर की प्रवेश परीक्षा के माध्यम से किया जाता है, जबकि कुछ पाठ्यक्रमों में प्रवेश जेएच द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के माध्यम से किया जाता है।

इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (आईसीटी), मुंबई

ICT, मुंबई में B.Tech, B.Pharm, M.Tech, MSc, M.Pharm सहित इंजीनियरिंग, फार्मेसी, साइंस, मेडिकल में 36 कोर्स उपलब्ध हैं। छात्रों के लिए Hostel की सुविधा उपलब्ध है। आईसीटी मुंबई प्लेसमेंट के मामले में 90% की सफलता प्रदान करता है जो काफी सराहनीय है। 

इसे भी पढ़ें: वेडिंग इंडस्ट्री के इन पांच क्षेत्र में बनायें शानदार कॅरियर 

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, हैदराबाद

एनआईपीईआर हैदराबाद फार्मास्युटिकल साइंसेस की धारा में उच्च शिक्षा, विकास और अनुसंधान प्रदान करने के लिए उत्कृष्टता केंद्र भी है। इसमें विभिन्न विभागों में स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट कार्यक्रमों को करने के लिए नियामक टॉक्सिकोलॉजी, फार्मास्युटिकल एनालिसिस, मेडिकल डिवाइसेज, फार्माकोलॉजी, फार्माकोलॉजी, फार्मास्युटिकल मैनेजमेंट, फार्मासेक्टिक्स और प्रोसेस केमिस्ट्री जैसे कुल सात विभाग शामिल हैं।

- जे. पी. शुक्ला