सुपर टेट क्या है और इसे कैसे कर सकते हैं?

Super TET
यूपी उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में असिस्टेंट टीचर यानी सहायक अध्यापक बनने के लिए यूपीटेट के साथ सीटेट और सुपर टेट परीक्षा पास करना अनिवार्य कर दिया गया है। अर्थात तीन-तीन एक्जाम दीजिये और तब कम्पटीशन निकालकर बन जाइए यूपी सरकारी स्कूल के टीचर।

संभवतः आप में से कई लोगों को सुपर टेट का मतलब पता होगा। वैसे बता दें कि यह सरकारी टीचर की जॉब से संबंधित है। टीचर की सरकारी जॉब बहुत सारे लोग करना चाहते हैं, और इसीलिए दिन पर दिन कंपटीशन टफ होता चला गया है। पहले तमाम राज्य टीईटी (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) यानी टेट नामक परीक्षा देते थे, किंतु टफ कंपटीशन के कारण उत्तर प्रदेश की आदित्यनाथ योगी सरकार ने टीईटी यानी टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट पास करने के बाद, सुपर टेट नामक एक और परीक्षा देने का नियम जारी किया गया।

इसे ही सुपर टेट कहा जाता है। अब जब भी टीचर की वैकेंसी निकलती है तो सुपर टेट क्वालिफाई करना आवश्यक है, तभी आप यूपी में टीचर बन सकते हैं। बता दें कि टीचर की जॉब के लिए पहले से ही बी.एड. और बी.पी.एड जैसे कोर्स करने पड़ते हैं, तो बीटीसी भी इसी कोर्स का एक हिस्सा है। हालाँकि, सुपर टेट का एग्जाम देने के लिए आपको B.Ed डिग्री के साथ, टेट पास करना अनिवार्य है और तभी आप इस परीक्षा में बैठ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: साल 2021 में सरकारी नौकरियों की भरमार, जानिये पूरी जानकारी

यूपी उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में असिस्टेंट टीचर यानी सहायक अध्यापक बनने के लिए यूपीटेट के साथ सीटेट और सुपर टेट परीक्षा पास करना अनिवार्य कर दिया गया है। अर्थात तीन-तीन एक्जाम दीजिये और तब कम्पटीशन निकालकर बन जाइए यूपी सरकारी स्कूल के टीचर।

क्या है परीक्षा का पैटर्न?

सुपर टेट में लिखित परीक्षा ली जाती है और 11 नंबर के डेढ़ सौ मल्टीपल चॉइस क्वेश्चन, यानी बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं। इसे आपको ढाई घंटे में सॉल्व करना होता है।

अगर विषय वार इन प्रश्नों को विभाजित किया जाए, तो लैंग्वेज में 40 प्रश्न होते हैं, जिसमें हिंदी, इंग्लिश और संस्कृत शामिल होते हैं।

इसी प्रकार 10 प्रश्न साइंस के, मैथ के 20 प्रश्न, पर्यावरण एवं सामाजिक अध्ययन यानी सोशल स्टडीज और एनवायरमेंट के 10 प्रश्न, शिक्षण पद्धति के 10 प्रश्न, बाल मनोविज्ञान के 10 प्रश्न, सामान्य ज्ञान के 30 प्रश्न, जबकि रिजनिंग के 5 प्रश्न शामिल होते हैं।

इसे भी पढ़ें: जांबाज वन अधिकारी बनें और करें देश सेवा

इसके अलावा कंप्यूटर और इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी के 5 प्रश्न, लाइफ स्किल मैनेजमेंट और एटीट्यूड के 10 प्रश्न शामिल होते हैं, और इस तरीके से कुल 150 प्रश्नों के उत्तर आपको देने पड़ते हैं। जाहिर तौर पर सिलेबस भी इसी कोर्स के अनुसार तय किया जाता है और यह बारहवीं कक्षा के लेवल का सिलेबस माना जाता है।

सुपर टेट एक्जाम की बात करें तो, यूपी बेसिक एजुकेशन बोर्ड, प्राइमरी टीचर और अपर प्राइमरी टीचर एग्जाम को आयोजित करती है। इसकी ऑफिशियल वेबसाइट (http://upbasiceduparishad.gov.in/) पर जानकारी आपको प्राप्त हो जाएगी

निश्चित रूप से टीचर बनने का एग्जाम दिन प्रतिदिन कठिन होता जा रहा है, और ऐसे में अगर आप सुपर टेट क्वालीफाई करना चाहते हैं, तो आपको लगातार इस मामले में सक्रिय रहना पड़ेगा और अपनी तैयारी को निरंतर जारी रखना पड़ेगा।

अगर आप अपनी तैयारी ठीक ढंग से करते हैं और तमाम विषयों पर अपनी पकड़ बनाते हैं, तो इस बात में कोई दो राय नहीं कि आप सुपर टेट का एग्जाम क्वालीफाई करके एक टीचर बनने की योग्यता हासिल कर लेंगे।

टीचर समूचे समाज का दर्पण होता है और इसलिए कम्पटीशन के इस दौर में सुपर टेट को एग्जाम लिए जाने को योग्यता के परीक्षण में एक और माइलस्टोन बना जा सकता है।

- मिथिलेश कुमार सिंह

अन्य न्यूज़