कॉल सेंटर के क्षेत्र में कुछ इस तरह बनाएं अपना कॅरियर

कॉल सेंटर के क्षेत्र में कुछ इस तरह बनाएं अपना कॅरियर

एक कॉल सेंटर में कस्टमर सर्विस ऑफिसर बनने के लिए आपको किसी विशेष एजुकेशनल क्वालिफिकेशन की जरूरत नहीं होती है। अगर आप बारहवीं पास हैं या फिर ग्रेजुएट फ्रेशर हैं तो आप इस क्षेत्र में आसानी से अपना कदम बढ़ा सकते हैं।

कॉल सेंटर एक ऐसा क्षेत्र है, जो युवाओं को इन दिन काफी पसंद आ रहा है। उच्च शिक्षा की प्रतिबद्धता ना होने और अच्छा परफार्म करने पर सैलरी के अलावा इंसेंटिव जैसी कई सुविधाएं युवाओं को आकर्षित करती हैं। एक कॉल सेंटर पर्याप्त दूरसंचार सुविधाओं, इंटरनेट और व्यापक डेटाबेस तक पहुंच के साथ एक सेवा केंद्र है, जो प्रशिक्षित कर्मियों के माध्यम से देश या विदेश में ग्राहकों को आवाज आधारित या वेब−आधारित जानकारी और सहायता प्रदान करता है। इस क्षेत्र का एक दूसरा लाभ यह है कि बैंकिंग, उपयोगिताओं, विनिर्माण, सुरक्षा, बाजार अनुसंधान, फार्मास्यूटिकल्स, कैटलॉग बिक्री, ऑर्डर डेस्क, ग्राहक सेवा, तकनीकी प्रश्न (हेल्प डेस्क), आपातकालीन प्रेषण, क्रेडिट संग्रह, खाद्य सेवा, एयरलाइन/होटल सहित व्यवसाय के सभी क्षेत्रों में कॉल सेंटर मौजूद हैं। ऐसे में इस क्षेत्र में जॉब व ग्रोथ के अवसर काफी अधिक हैं। तो चलिए जानते हैं कि इस क्षेत्र में आप कैसे बना सकते हैं अपना कॅरियर−

इसे भी पढ़ें: अगर आपको रूचि है तो बनाएं पैरामेडिकल में कॅरियर

व्यक्तिगत स्किल्स

इस क्षेत्र में कॅरियर बनाने के लिए आपकी अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए। इसके अलावा कंप्यूटर का ज्ञान, टाइपिंग स्पीड, मार्केटिंग स्किल्स, बेहतरीन कम्युनिकेशन व लिसनिंग स्किल्स इस क्षेत्र में सफलता के लिए आवश्यक है। इतना ही नहीं, आपमें धैर्य, विनम्र, अच्छा स्वभाव व बुद्धिमान भी होना चाहिए। दरअसल, कई बार कॉल सेंटर के दौरान सामने वाला व्यक्ति अपना धैर्य खो देता है, ऐसे में कस्टमर सर्विस ऑफिसर को धैर्य का परिचय देना होता है। इसके अलावा इंटरनेशनल कॉल सेंटर्स में आपको विषम घंटों में काम करना पड़ता है। इसके लिए आपको मानसिक रूप से तैयार होना पड़ता है।

शैक्षणिक योग्यता

एक कॉल सेंटर में कस्टमर सर्विस ऑफिसर बनने के लिए आपको किसी विशेष एजुकेशनल क्वालिफिकेशन की जरूरत नहीं होती है। अगर आप बारहवीं पास हैं या फिर ग्रेजुएट फ्रेशर हैं तो आप इस क्षेत्र में आसानी से अपना कदम बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा गृहिणियों व सेवानिवृत्त व्यक्ति के लिए भी यह अच्छा विकल्प है। इसके लिए आप थोड़ी प्रोफेशनल टेनिंग के बाद आसानी से जॉब प्राप्त कर सकते हैं।

रोजगार की संभावनाएं

भारत में कॉल सेंटर के लिए बहुत स्कोप है। वर्तमान में भारत में लगभग हर बड़ी कपंनी के अपने अलग कॉल सेंटर्स मौजूद हैं। इसके अलावा, कई अंतरराष्टीय कंपनियों के कॉल सेंटर्स भी भारत में मौजूद हैं, जिसके चलते यहां पर हमेशा ही कॉल सेंटर ऑपरेटर की जरूरत रहती है। इस क्षेत्र में उन्नति के भी काफी अवसर है। तीन से चार साल बतौर कॉल सेंटर ऑपरेटर काम करने के बाद आप कॉल सेंटर सुपरवाइजर या बतौर मैनेजर काम कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन के दौरान कुछ इस तरह डेवलप करें अपने प्रोफेशनल स्किल्स

आमदनी

इस क्षेत्र में आमदनी इस बात पर निर्भर करती है कि आप कहां पर जॉब कर रहे हैं। मसलन, डोमेस्टिक कॉल सेंटर में आपको शुरूआती दौर में 10000 से 15000 रूपए प्रतिमाह मिल सकता है। वहीं, इंटरनेशनल कॉल सेंटर्स के लिए आपकी सैलरी 25000 से 30000 रूपए प्रतिमाह हो सकती है। इसके अलावा अच्छा कार्य करने पर व्यक्ति को अतिरिक्त बोनस भी मिलता है।

प्रमुख संस्थान

अकीको शर्मन इन्फोटेक, नई दिल्ली

नार्थ स्टार कॉल सेंटर कॉलेज, नोएडा

इयान स्टर्न, नई दिल्ली

एडू टेक इंडिया, विभिन्न केन्द्र

ट्रांस−इंडिया मैनेजमेंट सिस्टम, अहमदाबाद

जेटीएस इंस्टीट्यूट, कर्नाटक

वरूण क्वात्रा