ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बड़ी टेस्ट श्रृंखला के लिये तैयार है मोहम्मद शमी, नहीं है कोई उन पर दबाव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2020   17:34
  • Like
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बड़ी टेस्ट श्रृंखला के लिये तैयार है मोहम्मद शमी, नहीं है कोई उन पर दबाव
Image Source: Google

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने कहा कि ‘आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के लिये मेरे प्रदर्शन ने मुझे काफी आत्मविश्वास दिया और मुझे सही स्थिति में पहुंचा दिया। ’’शमी को लगता है कि आईपीएल में अच्छे प्रदर्शन ने उन पर से दबाव हटा दिया।

सिडनी।भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में शानदार प्रदर्शन के बाद अच्छी लय में हैं जिससे वह बिना किसी दबाव के ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बड़ी टेस्ट श्रृंखला के लिये तैयारी कर पाये। शमी का यह आईपीएल सत्र सर्वश्रेष्ठ रहा जिसमें उन्होंने किंग्स इलेवन पंजाब के लिये 20 विकेट चटकाये जिसमें मुंबई इंडियंस के खिलाफ ‘डबल सुपर ओवर’ मैच में पांच रन का शानदार बचाव करना भी शामिल रहा। शमी ने शनिवार को बीसीसीआई डॉट टीवी से कहा, ‘‘आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के लिये मेरे प्रदर्शन ने मुझे काफी आत्मविश्वास दिया और मुझे सही स्थिति में पहुंचा दिया। ’’

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के इन खिलाड़ियों को मिलेगी ‘ए’ श्रेणी के खिलाड़ियों के समान मैच फीस

शमी को लगता है कि आईपीएल में अच्छे प्रदर्शन ने उन पर से दबाव हटा दिया। उन्होंने कहा, ‘‘सबसे बड़ा फायदा यह है कि मैं अब बिना किसी दबाव के आगामी श्रृंखला के लिये तैयारी कर सकता हूं। मेरे ऊपर कोई दबाव नहीं है। मैं इस समय काफी सहज हूं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने लॉकडाउन में अपनी गेंदबाजी और अपनी फिटनेस पर काफी काम किया है। मैं जानता था कि आईपीएल का आयोजन होना ही है और मैं इसके लिये खुद ही तैयारी में जुटा था। ’’ शमी ने कहा कि इस दौरे पर टेस्ट मैच उनके लिये प्राथमिकता हैं और वह पिछले एक हफ्ते से ट्रेनिंग सत्र के दौरान कड़ी मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह दौरा काफी लंबा होगा जिसकी शुरूआत सफेद गेंद के क्रिकेट से होगी जिसके बाद गुलाबी और लाल गेंद के टेस्ट खेले जायेंगे। मेरा ध्यान हमेशा लाल गेंद का क्रिकेट रहा है और मैं अपनी लेंथ और सीम मूवमेंट पर काम कर रहा हूं।







हार्दिक पंड्या का अनफिट होना टीम इंडिया के लिए मुसीबत, गौतम गंभीर ने जताई चिंता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   14:54
  • Like
हार्दिक पंड्या का अनफिट होना टीम इंडिया के लिए मुसीबत, गौतम गंभीर ने जताई चिंता
Image Source: Google

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि ‘आधे फिट’ हार्दिक पंड्या का सही विकल्प नहीं मिलने पर भारतीय टीम में संतुलन नहीं बन सकेगा क्योंकि पंड्या के विकल्प विजय शंकर उतने असरदार नहीं है।

नयी दिल्ली। भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि ‘आधे फिट’ हार्दिक पंड्या का सही विकल्प नहीं मिलने पर भारतीय टीम में संतुलन नहीं बन सकेगा क्योंकि पंड्या के विकल्प विजय शंकर उतने असरदार नहीं है। पंड्या इस समय सिर्फ बल्लेबाज के तौर पर टीम में है और गेंदबाजी करने की स्थिति में नहीं हैं। भारत को आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में छठे गेंदबाज की कमी खली जिसमें भारत को 66 रन से पराजय झेलनी पड़ी।

इसे भी पढ़ें: जाने माने लेग स्पिनर नेपाली क्रिकेटर संदीप लामिछाने कोरोना वायरस से हुए संक्रमित

दो बार विश्व कप में भारत की जीत के नायक रहे गंभीर ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा ,‘‘ पिछले विश्व कप से ही संतुलन की समस्या देखने को मिल रही है। हार्दिक गेंदबाजी नहीं कर पा रहा है तो आपका छठा गेंदबाज कौन है।’’ उन्होंने कहा ,‘‘विजय शंकर है लेकिन पांचवें या छठे नंबर पर वह उस तरह से असरदार नहीं है। क्या वह सात या आठ ओवर डाल सकता है। मुझे नहीं लगता।’’

इसे भी पढ़ें: ओलंपिक के लिए अमेरिका में एक महीने कैंप में ट्रेनिंग करेंगे बजरंग पूनिया, प्रशासन से मिली मंजूरी

गंभीर ने कहा कि रोहित शर्मा जैसे सलामी बल्लेबाज की वापसी पर भी यह समस्या नहीं सुलझने वाली। उन्होंने कहा ,‘‘ आप मनीष पांडे को शामिल करने की बात कर सकते हैं।या रोहित के लौटने पर भी यह समस्या तो रहेगी ही। शीर्ष छह बल्लेबाजों में से कोई भी गेंदबाजी नहीं कर सकता।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ आस्ट्रेलियाई टीम को देखो। मोइजेस हेनरिक्स कुछ ओवर डाल सकता है। सीन एबोट गेंदबाज हरफनमौला है और डेनियल सैम्स भी।







आल राउंडर विकल्पों की कमी टीम के संतुलन को प्रभावित कर रही: कोहली

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   19:34
  • Like
आल राउंडर विकल्पों की कमी टीम के संतुलन को प्रभावित कर रही: कोहली
Image Source: Google

स्टीव स्मिथ को ‘प्लेयर आफ द मैच’ चुना गया, जिन्होंने कहा कि सलामी बल्लेबाज फिंच (114) और डेविड वार्नर (69) ने उन्हें 66 गेंद में 105 रन बनाने में मदद की जिससे आस्ट्रेलिया ने छह विकेट पर 375 रन बनाये।

सिडनी। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ शुरूआती वनडे में मिली हार के बाद अपनी टीम के हाव भाव पर सवाल उठाये और कहा कि हार्दिक पंड्या का गेंदबाजी के लिये फिट नहीं होने से टीम का संतुलन प्रभावित हो रहा है क्योंकि उनके पास ज्यादा आल राउंडर मौजूद नहीं हैं। भारत की आस्ट्रेलिया दौरे की शुरूआत निराशाजनक हुई, उसे यहां पहले वनडे में 66 रन से हार का सामना करना पड़ा। कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘हर किसी को पूरे 50 ओवरों में अपना जज्बा दिखाने की जरूरत होती है। शायद, हम लंबे समय बाद 50 ओवर के क्रिकेट में खेले जिसका असर मैदान में खड़े खिलाड़ियों पर पड़ सकता है लेकिन हमने इतना वनडे क्रिकेट खेला है कि हम इससे निपटना जानते हैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैदान पर 25 ओवर के बाद खिलाड़ियों के हाव भाव अच्छे नहीं थे। यह निराशाजनक चीज है। अगर आप शीर्ष स्तर की प्रतिद्वंद्वी टीम के खिलाफ मौकों का फायदा नहीं उठाओगे तो वे आपको नुकसान पहुंचा देंगे और आज ऐसा ही हुआ। ’’ हार्दिक पंड्या गेंदबाजी के लिये अभी फिट नहीं हैं तो कोहली ने कहा कि इससे टीम के संतुलन पर असर पड़ रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमें कामचलाऊ गेंदबाजों से कुछ ओवर करवाने के लिये एक तरीका ढूंढना होगा। दुर्भाग्य से हार्दिक जैसा खिलाड़ी अभी गेंदबाजी के लिये तैयार नहीं है, हमें यह स्वीकार करना होगा, हमारे पास इस समय कोई अन्य आल राउंड विकल्प मौजूद नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस चीज पर ध्यान देने की जरूरत है, यह किसी भी टीम के संतुलन का अहम हिस्सा है। मार्कस स्टोइनिस, ग्लेन मैक्सवेल आस्ट्रेलिया के लिये कुछ ओवर डाल रहे हैं, जिससे उन्हें मदद मिली।’’ कोहली ने कहा कि उनके गेंदबाज नियमित अंतराल पर विकेट नहीं चटका सके जिससे आस्ट्रेलिया को बड़ा स्कोर बनाने में मदद मिली। उन्होंने कहा, ‘‘मैच जीतने में विकेट चटकाना सबसे अहम है, और हम यही नहीं कर सके, साथ ही मैदान पर कुछ गलतियों से भी हमने शुरू में जो दबाव बनाया था, उसका फायदा नहीं उठा सके। ’’ यह पूछने पर कि क्या संयुक्त अरब अमीरात से आस्ट्रेलिया पहुंचकर पृथकवास में रहने से टीम का प्रदर्शन प्रभावित हुआ तो उन्होंने कहा कि यह कोई बहाना नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘तैयारी के लिये काफी समय मिला। इसके लिये कोई बहाना नहीं बनाया जा सकता।’’ 

इसे भी पढ़ें: खराब गेंदबाजी और स्टार बल्लेबाजों की नाकामी से पहला वनडे हारा भारत

भारत के लिये शिखर धवन (74) और हार्दिक (90) शीर्ष स्कोरर रहे। बल्लेबाजी इकाई के बारे में बात करते हुए कोहली ने कहा, ‘‘बल्लेबाजी के लिये हमने अभी थोड़ी बात की। सभी बल्लेबाज खेलने के लिये प्रतिबद्ध थे, मुझे लगता है कि हमने खुद को अच्छा मौका दिया। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हार्दिक की पारी इसका सबसे अच्छा उदाहरण है। बल्लेबाजी इकाई के तौर पर हम सकारात्मक क्रिकेट खेलने के प्रति प्रतिबद्ध थे और हम भविष्य में भी ऐसा ही करेंगे। ’’ वहीं आस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान आरोन फिंच ने कहा कि उन्होंने पारी के शुरू में थोड़ा समय लिया। उन्होंने कहा, ‘‘टाइमिंग के साथ बल्लेबाजी करने में मुश्किल हो रही थी। कुछ मौकों पर भाग्यशाली रहा। ’’ फिंच ने अपने खिलाड़ियों के इस प्रदर्शन के लिये प्रशंसा की जबकि वे बतौर टीम ज्यादा ट्रेनिंग भी नहीं कर पाये थे। उन्होंने कहा, ‘‘हमें बतौर टीम ज्यादा समय ट्रेनिंग के लिये नहीं मिला। हर खिलाड़ी कीमजबूती और कमजोरी अलग होत है। आप इसे स्वीकार करते हो। डेवी, वह शानदार लय में था। स्मज भी बेहतरीन था। ’’ स्टीव स्मिथ को ‘प्लेयर आफ द मैच’ चुना गया, जिन्होंने कहा कि सलामी बल्लेबाज फिंच (114) और डेविड वार्नर (69) ने उन्हें 66 गेंद में 105 रन बनाने में मदद की जिससे आस्ट्रेलिया ने छह विकेट पर 375 रन बनाये।







खराब गेंदबाजी और स्टार बल्लेबाजों की नाकामी से पहला वनडे हारा भारत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   19:17
  • Like
खराब गेंदबाजी और स्टार बल्लेबाजों की नाकामी से पहला वनडे हारा भारत
Image Source: Google

भारत ने शुरूआत काफी आक्रामक की। रोहित शर्मा की गैर मौजूदगी में पारी का आगाज करने उतरे मयंक अग्रवाल और शिखर धवन ने पांच ओवरों में ही 50 रन बना डाले लेकिन फिर भारत ने शीर्षक्रम के चार विकेट 48 रन के भीतर गंवा दिये। इनमें से तीन हेजलवुड ने और एक जाम्पा ने लिया। अग्रवाल 18 गेंद में 22 रन बनाकर छठे ओवर में हेजलवुड की गेंद पर ग्लेन मैक्सवेल को कैच दे बैठे। भारत को सबसे बड़ा झटका दसवें ओवर में लगा जब कप्तान विराट कोहली ने हेजलवुड की गेंद पर फिंच को कैच थमाया।

सिडनी। खराब गेंदबाजी, लचर क्षेत्ररक्षण और कप्तान विराट कोहली समेत स्टार बल्लेबाजों के नाकाम रहने के कारण भारत को शुक्रवार को पहले एक दिवसीय क्रिकेट मैच में आस्ट्रेलिया ने 66 रन से हरा दिया। वहीं आस्ट्रेलिया के लिये कप्तान आरोन फिंच और स्टीव स्मिथ के शतकों के बाद एडम जाम्पा और जोश हेजलवुड ने शानदार गेंदबाजी करके भारत पर पूरे मैच में दबाव बनाये रखा। कोरोना महामारी के बीच दर्शकों की स्टेडियम में वापसी वाले इस मैच में आस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सपाट पिच पर छह विकेट पर 374 रन बनाये। जवाब में भारतीय टीम आठ विकेट पर 308 रन ही बना सकी जिसमें हार्दिक पंड्या ने 90 रन का योगदान दिया। आस्ट्रेलियाई कप्तान फिंच ने आईपीएल के अपने खराब फार्म को तिलांजलि देकर 17वां शतक जमाया। वहींस्मिथ ने भारतीय गेंदबाजों को नसीहत देते हुए एक दिवसीय क्रिकेट में दसवां शतक जड़ा। आस्ट्रेलिया के लिये यह तीसरा सबसे तेज वनडे शतक था जो मात्र 62 गेंदों में बना। भारत ने शुरूआत काफी आक्रामक की। रोहित शर्मा की गैर मौजूदगी में पारी का आगाज करने उतरे मयंक अग्रवाल और शिखर धवन ने पांच ओवरों में ही 50 रन बना डाले लेकिन फिर भारत ने शीर्षक्रम के चार विकेट 48 रन के भीतर गंवा दिये। इनमें से तीन हेजलवुड ने और एक जाम्पा ने लिया। अग्रवाल 18 गेंद में 22 रन बनाकर छठे ओवर में हेजलवुड की गेंद पर ग्लेन मैक्सवेल को कैच दे बैठे। भारत को सबसे बड़ा झटका दसवें ओवर में लगा जब कप्तान विराट कोहली ने हेजलवुड की गेंद पर फिंच को कैच थमाया।

विराट ने 21 गेंद में दो चौकों और एक छक्के की मदद से 21 रन बनाये। श्रेयस अय्यर (दो) हेजलवुड का तीसरा शिकार बने जबकि उपकप्तान के एल राहुल आईपीएल का अपना शानदार फार्म बरकरार नहीं रख पाये। उन्हें जाम्पा ने क्रीज पर पैर ही नहीं जमाने दिये और वह 12 रन बनाकर स्मिथ को कैच दे बैठे। इसके बाद धवन और पंड्या ने शतकीय साझेदारी की और एक समय लग रहा था कि ये दोनों भारत को जीत तक ले जायेंगे। ऐसे में जाम्पा ने अपने दूसरे स्पैल में धवन को पवेलियन भेजकर इस उम्मीद को भी तोड़ दिया। धवन ने 86 गेंद में दस चौकों के साथ 74 रन बनाये। पंड्या दुर्भाग्यशाली रहे कि अपना शतक पूरा नहीं कर सके और जाम्पा का तीसरा शिकार बने। उन्होंने 76 गेंद में 90 रन जोड़े जिसमें सात चौके और चार छक्के शामिल थे। इसके बाद जरूरी रनरेट इतना बढ गया था कि रविंद्र जडेजा पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ मिलकर फिनिशर की भूमिका नहीं निभा सकते थे। उन्हें भी जाम्पा ने 25 के निजी योग पर आउट करके आस्ट्रेलिया की जीत तय कर दी। जाम्पा ने दस ओवर में 54 रन देकर चार विकेट लिये जबकि हेजलवुड को तीन विकेट मिले। इससे पहले आस्ट्रेलिया के लिये फिंच ने 124 गेंद में 114 रन बनाये जिसमें नौ चौके और दो छक्के शामिल थे। वहीं स्मिथ ने 66 गेंद में 105 रन की पारी खेली और 11 चौके तथा चार छक्के जड़े। 

इसे भी पढ़ें: मैच से पहले भारत और ऑस्ट्रेलियाई टीम ने घेरा बनाकर किया नस्लवाद का विरोध, बांधी काली पट्टी

‘रन मशीन‘ डेविड वार्नर ने 69 और ‘बिग शो’ ग्लेन मैक्सवेल ने 19 गेंद में 45 रन का योगदान दिया। भारतीय गेंदबाजों को पिच से कोई मदद नहीं मिली और क्षेत्ररक्षण भी बेहद खराब रहा। भारतीयों ने तीन कैच छोड़े और काफी रन फालतू दिये। आईपीएल में खतरनाक दिख रहे भारतीय तेज गेंदबाज थके हुए नजर आये। आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को उनका सामना करने में कोई दिक्कत नहीं हुई। फिंच और वार्नर ने पहले विकेट के लिये 156 रन की साझेदारी की। उन्होंने मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह के शुरूआती स्पैल को संभलकर खेला। शमी ने दस ओवर में 59 रन देकर तीन विकेट लिये जबकि बुमराह ने 73 रन दिये और उन्हें एक ही विकेट मिला। नवदीप सैनी ने 83 रन देकर एक विकेट लिया। स्पिनरों में युजवेंद्र चहल ने 89 रन देकर एक विकेट लिया जबकि जडेजा को कोई विकेट नहीं मिला और उन्होंने 63 रन दिये। भारत को पहली सफलता 28वें ओवर में मिली जब शमी ने वार्नर को विकेट के पीछे लपकवाया। इसका फैसला डीआरएस पर हुआ। वहीं जडेजा की गेंद पर पगबाधा आउट दिये जाने के बाद स्मिथ को डीआरएस ने बचाया। उन्होंने इसका पूरा फायदा उठाते हुए शतक जड़ डाला। मैक्सवेल ने सिर्फ 19 गेंद में 45 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली। उन्होंने चहल को रिवर्स स्वीप पर छक्का लगाया। इसके बाद सैनी को डीप मिडविकेट पर छक्का जड़ा। इस श्रृंखला के जरिये क्रिकेट मैदान पर दर्शकों की वापसी हुई है। क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने कुल क्षमता के 50 प्रतिशत टिकटों की बिक्री की अनुमति दी थी।