जन्मदिवस पर विशेष: विकास और विश्वास के पर्याय हैं नरेंद्र मोदी

Narendra Modi
बाल्यकाल से ही परिश्रमी, परोपकारी और प्रतिभाशाली नरेंद्र मोदी ने युवावस्था में राष्ट्रवादी छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल होकर भ्रष्टाचार विरोधी नव निर्माण आन्दोलन में हिस्सा लिया। उनकी कार्यक्षमता को देखते हुए उन्हें भारतीय जनता पार्टी में संगठन का प्रतिनिधि मनोनीत किया गया।

“सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास” के मूलमंत्र के साथ भारत को विश्वगुरु बनाने के लिए सतत बढ़ने वाले नरेंद्र मोदी भारत हीं नहीं, बल्कि विश्व के महानायक हैं। संगठन से लेकर सरकार तक में उन्होंने जो कार्य किए हैं, उससे उन्हें 21वीं सदी का विश्वकर्मा कहा जाता है। इनका जन्म भी जिस तिथि को हुआ, उस दिन देश के अधिकांश हिस्से में निर्माण के देवता भगवान विश्वकर्मा की जयंती मनाई जाती है। नरेंद्र मोदी के विशाल व्यक्तित्व के कारण ही देश की जनता की उम्मीदें इनसे बहुत ज्यादा हैं। हो भी क्यों नहीं? राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक से प्रधान सेवक तक की सफर में भारतीय राजनीति और देश की दिशा बदली है।

गुजरात के वडनगर कस्बा में एक मध्यम वर्गीय परिवार में 17 सितम्बर 1950 को जन्म लेने वाले नरेंद्र मोदी का बाल्यकाल बहुत संघर्ष पूर्ण बीता। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ते हुए 1971 में इसके पूर्णकालिक कार्यकर्ता बने और युवा अवस्था में इन्होंने भारत भ्रमण और धार्मिक स्थानों का दौरा किया। हिंदी, गुजराती और अंग्रेजी भाषा के अच्छे जानकार नरेंद्र मोदी जी के हृदय में भारतीय संस्कृति की भाषा संस्कृत के प्रति भी सम्मान भाव है। नई शिक्षा नीति के माध्यम से हर भारतीय भाषाओं को समुचित महत्व और स्थान दिलाने का काम किया है।

इसे भी पढ़ें: करिश्माई व्यक्तित्व के धनी हैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

बाल्यकाल से ही परिश्रमी, परोपकारी और प्रतिभाशाली नरेंद्र मोदी ने युवावस्था में राष्ट्रवादी छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल होकर भ्रष्टाचार विरोधी नव निर्माण आन्दोलन में हिस्सा लिया। उनकी कार्यक्षमता को देखते हुए उन्हें भारतीय जनता पार्टी में संगठन का प्रतिनिधि मनोनीत किया गया। फिर इनको राजनीतिक कौशल को देखते हुए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने भारतीय जनता पार्टी का कार्य करने के लिए भेजा। भारतीय जनता पार्टी में सम्मिलित होने के बाद पहली बार अहमदाबाद नगर पालिका के चुनाव में इन्होंने भाजपा का शानदार नेतृत्व किया और इसमें भारतीय जनता पार्टी ने शानदार जीत हासिल की। इनकी दूरगामी राजनीतिक सोच और अद्भुत संगठन की क्षमता को देखते हुए भाजपा गुजरात प्रदेश का महामंत्री बनाया गया। 1995 में विधानसभा चुनाव में गुजरात में भाजपा ने पहली बार 121 सीटें जीतीं, जिसमें इनकी अहम भूमिका थी। भाजपा से जुड़ने के बाद कई पदों पर न सिर्फ कार्य किया, बल्कि हर पद पर अपनी ख़ास पहचान बनाई और पार्टी को ऊंचाई प्रदान की। 2001 में उन्हें गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया गया तो इस दौरान इनका कार्य इतना शानदार रहा कि ये लगातार चार बार 2001 से 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे। गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए उनकी छवि एक सफल, ईमानदार और कुशल प्रशासक की बनी। उनके नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी को तीन बार चुनावों में गुजरात में जीत हासिल हुई थी।

भारतीय जनता पार्टी ने 2014 का लोक सभा चुनाव इनके नेतृत्व में लड़ा तो इनके चमत्कारिक व्यक्तित्व, करिश्माई भाषण शैली और विकासोन्मुखी सोच के कारण अभूतपूर्व समर्थन मिला और पहली बार भाजपा सम्पूर्ण बहुमत के साथ 282 सीटें जीतकर सत्ता में आई। यह एक ऐतिहासिक जीत थी। एक सांसद के रूप में उन्होंने उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक नगरी वाराणसी एवं अपने गृह राज्य गुजरात के बड़ोदरा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा और दोनों जगहों से जीत हासिल की। मोदी जी ने 2014 से 2019 तक कई प्रकार के ऐतिहासिक निर्णय लिए। कई सारे महत्वपूर्ण फैसले लिए, जिससे जनता का इनके प्रति स्नेह और भी बढ़ गया और अगली बार और ज्यादा सीटों से बहुमत हासिल की। 2019 के लोकसभा चुनाव में 303 सीट हासिल कर एक शानदार जीत दर्ज की। नरेंद्र मोदी ने हमेशा लोगों के भलाई के लिए कार्य किये है। मुख्यमंत्री पद पर रहकर गुजरात के लोगों की सेवा करने अवसर प्राप्त किया तथा बाद में प्रधानमत्री रहकर पूरे देश के लिए कार्य किये, समय समय पर कई नियम कानून लेकर आये। डिजिटल इंडिया प्रोग्राम, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री जन धन योजना आदि कई सारी योजनाओं की शुरुआत की, जिससे गरीबों की उन्‍नति हो। आयुष्मान भारत योजना में गरीबों के स्वास्थ्य की चिंता की गई है तो गरीब कल्याण अन्‍न योजना में गरीबों का चूल्‍हा जले, इसकी व्यवस्था की गई है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं कार्यक्रम के तहत बालिकाओं को शिक्षित करने का कार्य हुआ है। इसी तरह सौभाग्य योजना, जल जीवन मिशन, मातृवंदना, सुकन्या समृद्धि योजना, किसान सम्मान निधि, मुद्रा योजना समेत कई योजनाओं का कार्यन्वयन करसमाज के सभी वर्गों को उन्नति के मार्ग पर ले जाते हुये उन्हें सशक्त और समृद्ध बनाया गया है। दूसरी तरफ सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट, कश्मीर से धारा 370 और 35ए की समाप्ति एक ऐतिहासिक कार्य हुआ। इसी तरह सदियों से अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर बनने का सपना हर भारतीय का था, लेकिन वह इनके कार्यकाल में ही साकार हुआ।

अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति में भी नरेंद्र मोदी का कद विश्व नेता का है। वैश्विक नेताओं के बीच नरेंद्र मोदी दुनिया की सबसे लोकप्रिय राजनीतिक हस्तियों में हैं। अपनी कार्यशैली, दृढ़निश्चय और क्षमता के कारण नरेंद्र मोदी का नाम न सिर्फ भारत में, बल्कि विश्व पटलपर भी गूंज रहा हैं। नरेंद्र मोदी के व्यक्तित्व की कई खूबियां उनको दूसरे राजनेताओं से अलग करती है। 2014 में सत्ता में आने के बाद से ही मोदी सरकार ने अन्य देशों के साथ सम्बन्धों को नया आयाम देने की दिशा में कार्य करना शुरू कर दिया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अथक मेहनत से दुनिया का नजरिया भारत की ओर बदला है। मोदी जी के प्रयास से योग को अंतर्राष्ट्रीय पहचान मिली और आज हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर योग दिवस मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें: नरेंद्र दामोदरदास मोदी हैं मुख्यमंत्री से सीधे प्रधानमंत्री बनने वाले पहले नेता

कोरोना महामारी के दौरान एक ओर जहां देशवासियों को सुरक्षा प्रदान की, वहीं दुनिया के कई देशों को मदद भी की। रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान वहां फंसे भारतीय छात्रों को सकुशल वापस लाने वाले पहले राष्ट्रनायक नरेंद्र मोदी जी हीं हुए। सकारात्मक ऊर्जा से परिपूर्ण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर दुनिया में सर्वाधिक लोकप्रिय नेता साबित हुए हैं। लोकप्रियता के मामले में दुनिया के राष्ट्राध्यक्षों को पीछे छोड़ते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले स्थान पर हैं। अमेरिकी फार्मडेटा इंटेलिजेंस कंपनी ‘मॉर्निंग कंसल्ट’ के एक सर्वे के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व के सर्वाधिक लोकप्रियनेता हैं।

आजादी के अमृत वर्ष में देश में गुमनाम हुए स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानदेने का काम यदि किसी ने किया तो वो हैं हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। उनके नेतृत्व में भारतीय राजनीति ने भी करवट ली है। जातिवाद, परिवारवाद, वंशवाद, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और क्षेत्रवाद हासिए पर चले गये। उसके स्थान पर नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में विकासवाद, राष्ट्रवाद और सेवाभाव का समावेश हुआ है। साथ ही शासन में सुशासन की स्थापना हुई है, सर्वस्पर्शी और सर्वसमावेशी सरकार बनी है। संगठन में सेवा ही संगठन है का मूलमंत्र अपना कर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता राष्ट्र सेवा में लगे हुए हैं। उन्होंने अपने जीवन केक्षण-क्षण और कण-कण समर्पित करते हुए भारत को फिर से विश्वगुरु बनाने के लिए कदम बढ़ा दिया है। आत्मनिर्भर भारत में विकसित गांव, सशक्तयुवा, गरीबों के चेहरे पर मुस्कान, हर घर को पानी और रो  रोशनी, हर बेघर को मकान देने के साथ ही किसी को भूख से नहीं मरने देने का दृढ़ निश्चय लेकर सशक्त भारत और सुरक्षित भारत बनाने का काम किया है। सेना के जवानों को सशस्त कर जहाँ सीमाओं को सुरक्षित किया, वहीं दीपावली के दिन सैनिकों के बीच पहुंच कर उनका हौसला बढ़ाया और सम्मान दिया। समय केसाथ देश को आगे बढ़ाते हुए नरेन्द्र मोदी ने जय जवान, जयकिसान, जय विज्ञान के साथ जय अनुसंधान को भी जोड़ा। एक तरफ जहाँ  गाँव को विकास से जोड़ा गया है, वहीं स्मार्ट सिटी के तहत शहरों को भी सुंदर और सुविधा सम्पन्न बनाया जा रहा है। गरीबों का ख्याल रखने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी सभी योजनाओं और कार्यक्रमों में गरीबों को समृद्ध बनाने उद्देश्य रखा है। ऐसे महानायक को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

- डॉ. राकेश मिश्र,

कार्यकारी सचिव

पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष, भारतीय जनता पार्टी

अन्य न्यूज़