क्या है एफिलिएट मार्केटिंग का तरीका और घर बैठे कैसे कमा सकते हैं खूब सारा पैसा ?

  •  अंकित सिंह
  •  अप्रैल 6, 2021   13:57
  • Like
क्या है एफिलिएट मार्केटिंग का तरीका और घर बैठे कैसे कमा सकते हैं खूब सारा पैसा ?

आपके लिए यह बात जानना जरूरी है कि एफिलिएट मार्केटिंग से आप गूगल ऐडसेंस के मुकाबले ज्यादा और कम समय में ही अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं। यह गूगल ऐडसेंस के टर्म्स ऑफ़ सर्विस के खिलाफ बिल्कुल भी नहीं है।

आज पैसा हर किसी की जरूरत है। हर कोई पैसे कमाना चाहता है और पैसे कमाने के लिए वह लगातार नया जरिया तलाशता रहता है। लेकिन यह बात भी सच है कि पैसे कमाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ती है। आज हम आपको घर बैठे पैसा कमाने का अच्छा तरीका बताने जा रहे हैं। इसे ऑनलाइन बिजनेस भी कह सकते हैं। यानी कि पैसा कमाने का वह तरीका जिसे हम इंटरनेट और कंप्यूटर के इस्तेमाल से कर सकते हैं। 

आज के वीडियो में हम आपको यह बताएंगे कि कम निवेश में ज्यादा आमदनी कैसे की जा सकती है। एक खास बात यह भी है कि यहां पैसे कमाने की कोई लिमिट नहीं है। यानी कि आप ऑनलाइन जितना मेहनत कर सकते हैं उसी के हिसाब से पैसे भी कमा सकते हैं। यहां आपको पॉकेट मनी से लेकर लाखों रुपए तक भी महीने मिल सकते है। सबसे पहले आपको बताते हैं कि ऑनलाइन बिजनेस के लिए आपको किस चीज की सबसे ज्यादा जरूरत है।

- आपके पास लैपटॉप, कंप्यूटर या स्मार्टफोन जरूरी है। 

- साथ ही साथ इंटरनेट का कनेक्शन भी रहना चाहिए।

- इसके अलावा रजिस्टर बैंक में खाता होना चाहिए। ध्यान रखें कि आपका खाता फोन नंबर से जुड़ा हो।

- सबसे गौर करने वाली बात यह है कि ऑनलाइन बिजनेस में आपको धैर्य रखने की जरूरत होगी। जितना संयम से काम लेंगे उतनी ही आपकी तरक्की होगी। 

ऑनलाइन पैसा कमाने के लिए एफिलिएट मार्केटिंग सबसे अच्छा जरिया है। यहां आप किसी एक कंपनी के प्रोडक्ट को अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के जरिए बिक्री कर कमीशन कमा सकते हैं।  आसान शब्दों में कहें तो यह मार्केटिंग का ऐसा तरीका है जहां एक व्यक्ति अपने किसी सोर्स जैसे कि ब्लॉग या वेबसाइट पर किसी कंपनी या ऑर्गेनाइजेशन के प्रोडक्ट को प्रमोट करता है। या फिर किसी को सलाह देता है। इसके बदले कंपनी या ऑर्गेनाइजेशन उस व्यक्ति को कमीशन देता है। आपको यह भी बता दें कि अलग-अलग प्रोडक्ट के हिसाब से अलग-अलग तरह का कमीशन होता है। कमीशन में आपको सेल के हिसाब से कुछ प्रतिशत मिलता है या एक निश्चित राशि होती है। प्रोडक्ट कुछ भी हो सकता है, वेब होस्टिंग से लेकर कपड़े या फिर इलेक्ट्रॉनिक्स के सामान तक।

इसे भी पढ़ें: RBI ने यूथ डेवलपमेंट को-ऑपरेटिव बैंक पर लगायी पाबंदियों को वापस लिया

अगर आप किसी प्रोडक्ट का अपनी वेबसाइट पर प्रमोशन कर रहे हैं तो इसके लिए यह बेहद जरूरी है कि आपकी वेबसाइट या फिर ब्लॉग पर ट्रैफिक अच्छा हो। कम से कम 5000 विजिटर तो प्रतिदिन आपकी वेबसाइट पर आने चाहिए। वेबसाइट नया है और विजिटर भी कम हैं तो प्रोडक्ट का ऐड लगाने से आपको कुछ खास मुनाफा नहीं होगा। 

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे काम करता है

 

आपको बता दें कि एफिलिएट मार्केटिंग business commission based है। जब कोई व्यक्ति अपने ब्लॉग या फिर वेबसाइट के माध्यम से कंपनी या फिर किसी ऑर्गेनाइजेशन के प्रोग्राम से जुड़ता है तो बदले में कंपनी या उस ऑर्गेनाइजेशन की तरफ से उसे किसी प्रोडक्ट का बैनर या फिर लिंक प्रदान किया जाता है। लिंक का इस्तेमाल अपनी वेबसाइट या फिर ब्लॉग पर अलग-अलग तरह से किया जाता है। ब्लॉग या वेबसाइट पर आने वाले विजिटर उस लिंक पर क्लिक करते हैं तो वह सीधे कंपनी के प्रोडक्ट पर पहुंच जाते हैं। ऐसे में अगर उस प्रोडक्ट की बिक्री होती है तो आपको उससे कमीशन मिल जाता है। इसके अलावा अगर विजिटर उस लिंक पर क्लिक करता है तो भी आपको कुछ ना कुछ मिलता है। आपको बता दें कि कंपनी या फिर ऑर्गेनाइजेशन एफिलिएट मार्केटिंग को इसलिए रखती है ताकि वह अपने प्रोडक्ट को बेच सके और मुनाफा कमा सके। इसके लिए कंपनी को एक जरिया चाहिए होता है।

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए जा रहे हैं

आज के समय में जो लोग भी एफिलिएट मार्केटिंग से जुड़े हैं, वह अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। उनकी कमाई का जरिया ब्लॉग है। एफिलिएट मार्केटिंग से कमाई करने के लिए हमें एफिलिएट प्रोग्राम में जाकर रजिस्टर करना होगा। एफिलिएट प्रोग्राम उसे कहते हैं जो किसी कंपनी या ऑर्गेनाइजेशन के द्वारा लाया जाता है और वहां रजिस्टर कर उसके प्रोडक्ट को थर्ड पार्टी भी बेच सकता है। एफिलिएट प्रोग्राम में रजिस्टर करने के बाद हमें वहां दिए गए ads और प्रोडक्ट के लिंक को अपने ब्लॉग से जोड़ना होगा। ब्लॉग पर आने वाले विजिटर्स अगर उस ऐड पर क्लिक करते हैं या उस प्रोडक्ट को खरीदते हैं तो हमें कंपनी की तरफ से उसका एक कमीशन मिलता है। आपको बता दें कि इंटरनेट पर ऐसी बहुत सारी कंपनी है जो एफिलिएट प्रोग्राम ऑफर करती हैं। इनमें अमेज़न, स्नैपडील, क्लीकबैंक, कमीशन जंक्शन, इबे, गो डैडी आदि शामिल हैं। इनके एफिलिएट प्रोग्राम पर जाइए, रजिस्टर करिए और फिर कमाना शुरू करिए। 

आपको रजिस्टर कैसे करना होगा इसके बारे में भी बता देते हैं

मान लिजिए कि आप अमेज़न के एफिलिएट प्रोग्राम से जुड़ना चाहते हैं। तो उसके लिए आपको अमेज़न के एफिलिएट पेज में जाना होगा और वहां न्यू अकाउंट बनाना होगा। अकाउंट बनाने के लिए आपसे कुछ जरूरी चीजें पूछे जाएंगी जैसे कि नाम, पता, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर, पैन कार्ड, ब्लॉग और वेबसाइट का यूआरएल जहां आप उस कंपनी का प्रोडक्ट प्रमोट करना चाहते हैं और इसके अलावा आपको अपनी पेमेंट डीटेल्स देनी होंगी। आपके द्वारा दिए गए पेमेंट डीटेल्स पर ही आपके पैसे आएंगे। 

इसे भी पढ़ें: गूगल को ऑरैकल के साथ कॉपीराइट विवाद में मिली जीत, प्रौद्योगिकी कंपनियों ने ली राहत की सांस

अब हम आपको यह बताते हैं कि एफिलिएट प्रोग्राम से आपको पेमेंट कैसे मिलेगा

एफिलिएट प्रोग्राम के जरिए आप 3 तरीके से पैसे कमा सकते हैं:-  

 

पहला है CPM (Cost Per 1000 Impressions)अगर आपके ब्लॉग पर लगाए हुए ads पर 1000 व्यूज होते हैं तो मर्चेंट एफिलिएट उसके आधार पर आपको कमीशन देता है।

दूसरा है CPS (Cost per Sale) आपके ब्लॉग पर लगाए गए ads को देखकर कोई विजिटर उस प्रोडक्ट को खरीदता है तो उसका एक कमीशन आपको मिलता है।

और तीसरा है CPC (cost per click) आपके ब्लॉग पर लगाए गए प्रोडक्ट ऐड पर कितने क्लिक होते हैं उस हिसाब से आपको पैसा मिलता है। 

आपके लिए यह बात जानना जरूरी है कि एफिलिएट मार्केटिंग से आप गूगल ऐडसेंस के मुकाबले ज्यादा और कम समय में ही अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं। यह गूगल ऐडसेंस के टर्म्स ऑफ़ सर्विस के खिलाफ बिल्कुल भी नहीं है। ऐसे में यह पूरी तरह से लीगल भी है। आप आराम से अपने ब्लॉग में दोनों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। लेकिन यह बात भी सच है कि जितनी मेहनत आपको गूगल ऐडसेंस का अप्रूवल लेने के लिए करनी पड़ती है। उससे कम मेहनत और समय एफिलिएट मार्केटिंग में लगती है। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि जितना ज्यादा प्रोडक्ट आपके ब्लॉग से सेल होगा उतना ही आपकी इनकम भी बढ़ेगी।







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept