CDC का दावा, ज्यादातर विषाणु, अन्य रोगाणु आसानी से विमानों में नहीं फैलते

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   09:40
CDC का दावा, ज्यादातर विषाणु, अन्य रोगाणु आसानी से विमानों में नहीं फैलते

सीडीसी ने कहा कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के दौर में हवाई यात्री खतरे से मुक्त नहीं है और उसने अमेरिकियों को जितना संभव हो सके उतना यात्रा करने से बचने की सलाह दी है।

वाशिंगटन। अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने कोविड-19 पर अपने दिशा निर्देशों में कहा कि ज्यादातर विषाणु और अन्य रोगाणु आसानी से विमानों में नहीं फैलते हैं। दिशा निर्देशों में किसी विमान के भीतर दो यात्रियों के बीच में अथवा बीच की सीट को खाली रखकर सामाजिक दूरी का पालन करने की सिफारिश नहीं की गई है। कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के कारण अमेरिका में हवाई यातायात लगभग ठप हो गया है। सीडीसी ने विदेशों से आ रहे सभी यात्रियों को 14 दिन तक अनिवार्य रूप से पृथक रखने की अनुशंसा की है। सीडीसी ने हवाई यात्रियों के लिए अपने कोविड-19 दिशा निर्देशों में कहा, ‘‘ज्यादातर विषाणु और अन्य रोगाणु वायु के प्रसार के कारण विमानों पर आसानी से नहीं फैलते। विमान में हवा साफ होकर आती है।’’ 

इसे भी पढ़ें: इज़राइल वेस्ट बैंक को अपने कब्जे में लेने की योजना के साथ आगे बढ़ेगा

हालांकि साथ ही सीडीसी ने कहा कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के दौर में हवाई यात्री खतरे से मुक्त नहीं है और उसने अमेरिकियों को जितना संभव हो सके उतना यात्रा करने से बचने की सलाह दी है। उसने कहा, ‘‘हवाई यात्रा में सुरक्षा जांच की कतारों और हवाईअड्डा टर्मिनलों पर खड़ा होना पड़ता है जिससे आप दूसरे लोगों के करीबी संपर्क में आ सकते हैं और बार-बार सतहों को छूते हैं।’’ सीडीसी ने कहा, ‘‘खचाखच भरे विमानों में सामाजिक दूरी बरतना मुश्किल है और आपको कुछ घंटों तक दूसरों के करीब (छह फिट से कम दूरी पर) बैठना पड़ता है। इससे आपके कोविड-19 विषाणु के संपर्क में आने का खतरा बढ़ सकता है।’’ सीडीसी ने विमानों में सामाजिक दूरी बरतने की सिफारिश करने के बजाय कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए एयरलाइनों के पायलटों और चालक दल के सदस्यों द्वारा उठाए जाने वाले कुछ एहतियाती और साफ-सफाई संबंधी कदमों की सलाह दी है। 

इसे भी पढ़ें: ताइवान की राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण में शामिल हुए भाजपा के दो सांसद, चीन को लगी मिर्ची

सीडीसी ने एयरलाइनों और चालक दल के सदस्यों के लिए सबसे पहले मार्च में दिशा निर्देश जारी किए थे और इसके बाद फिर मई में जारी किए। उसने चालक दल के सदस्यों को ऐसे यात्री की जानकारी सीडीसी को देने के लिए कहा है जिसमें बुखार, लगातार खांसी, सांस लेने में दिक्कत जैसे कोविड-19 के कुछ लक्षण दिखाई दे रहे हैं और वह अस्वस्थ लग रहा हो। सीडीसी ने चालक दल के सदस्यों को संक्रमण नियंत्रण दिशा निर्देशों की समीक्षा करने के लिए कहा तथा चालक दल और अन्य की सुरक्षा के लिए कई कदमों की सिफारिश की है। इनमें कम से कम 20 सेकंड तक साबुन और पानी से बार-बार हाथ धोना खासतौर से बीमार यात्रियों की मदद करने या संक्रमण की आशंका वाली सतहों को छूने के बाद और अगर साबुन तथा पानी उपलब्ध नहीं है तो अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना शामिल है। इसमें कहा गया है कि एयरलाइनों को केबिन और विमान के चालक दल के सदस्यों को उनके निजी इस्तेमाल के लिए अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर उपलब्ध कराने पर विचार करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: WHO ने किया आगाह, महामारी का पहला दौर अभी खत्म नहीं हुआ

सीडीसी के दिशा निर्देशों में विमान के भीतर दो यात्रियों के बीच या बीच की सीट खाली रखकर सामाजिक दूरी बरतने की सिफारिश नहीं की गई लेकिन इसमें यात्रियों और चालक दल के सदस्यों तथा बीमार व्यक्ति के बीच कम से कम संपर्क रखने के लिए कहा गया है। सीडीसी ने सिफारिश की है कि अगर विमान में यात्रा के दौरान या उसके बाद बीमारी के लक्षण वाले किसी व्यक्ति की पहचान नहीं होती है तो सीडीसी विमान को साफ करने, कचरे के निस्तारण और पीपीई पहनने के लिए नियमित संचालन प्रक्रिया का पालन किया जाए। उसने कहा, ‘‘अगर लक्षण वाले किसी यात्री की पहचान होती है तो साफ-सफाई की नियमित प्रक्रियाओं का पालन किया जाए और साफ-सफाई बढ़ा दी जाए।’’ इसमें कहा गया है कि लक्षण वाले यात्री की सीट की नरम सतहों जैसे कि कपड़े की सीटों, सीट बेल्ट आदि को साफ किया जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...