जो अमेरिका से नहीं डरा उसे कोरोना ने डराया, सनकी तानाशाह पहली बार मास्क में नजर आया

जो अमेरिका से नहीं डरा उसे कोरोना ने डराया, सनकी तानाशाह पहली बार मास्क में नजर आया
screenshot

नॉर्थ कोरिया में कोरोना के मामले की पहली बार आधिकारिक पुष्टि हुई है। संक्रमण की पुष्टि होने के बाद देशभर में सख्त लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है। उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया के मुताबिक देश की राजधानी प्योंगयांग में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन के मामले का पता चला है।

नॉर्थ कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन जिसे सुपर पावर अमेरिका से भी डर नहीं लगा। उसे कोरोना से डर लग रहा है। पूरे कोरोना काल मे पहली बार किम जोंग उन मास्क नजर आए। नॉर्थ कोरिया ने यह माना कि उसके यहां कोविड-19 मामला सामने आया है। यह पुष्टि तब हुई है जब दुनिया में कोरोना के 51 करोड़ केस दर्ज हो चुके हैं। दुनिया में करीब 70 लाख लोगों की मौत कोविड-19 चुकी है, यह आधिकारिक आंकड़े हैं। लेकिन नॉर्थ कोरिया में कोविड-19 की मौत की खबर कोरोना के दो साल गुजरने के बाद सामने आए हैं। दुनिया में कोरोना के 13 वेरिएंट मिले तो नॉर्थ कोरिया में कोरोना का ओमिक्रॉन वेरियंट मिला। दुनिया ने वैक्सीन बनाई लेकिन किम जोंग उन ने वैक्सीन की जगह मिसाइलें बनाई। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग जिन्हें आज से पहले मास्क पहने नहीं देखा गया था हां लेकिन आज से पहले किम जोंग को घातक मिसाइल लॉन्च करते हुए जरूर देखा गया।

पहला केस आने पर क्या आदेश दिया

नॉर्थ कोरिया में कोरोना के मामले की पहली बार आधिकारिक पुष्टि हुई है। संक्रमण की पुष्टि होने के बाद देशभर में सख्त लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है। उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया के मुताबिक देश की राजधानी प्योंगयांग में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन के मामले का पता चला है। हालांकि कितने लोग संक्रमित हुए हैं इसकी अभी तक कोई जानकारी नहीं दी गई है। ओमिक्रॉन की पुष्टि के बाद हैं राष्ट्रीय अध्यक्ष किम जोंग उन ने अधिकारियों के साथ मीटिंग की। मीटिंग में कोरोना से बचाव के साथ सख्ती लागू करने और लोगों को से इसका पालन करने को कहा। कोरिया न्यूज़ एजेंसी के अनुसार किम जोंग ने लॉकडाउन का आदेश दिया।

इसे भी पढ़ें: जीरो कोविड केस का दावा करने वाले देश उत्तर कोरिया में फूटा कोरोना बम, 6 की मौत, किम जोंग ने की लॉकडाउन की घोषणा

3.5 लाख लोग बुखार से पीड़ित 

उत्तर कोरिया में कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि के बाद बुखार से पीड़ित छह लोगों की मौत से हड़कंप मच गया है। उत्तर कोरिया ने शुक्रवार को बताया कि देश में बुखार से पीड़ित छह लोगों की मौत हुई है, जिनमें से एक व्यक्ति के कोरेाना वायरस के ‘ओमिक्रॉन' वैरिएंट से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। देश में हाल में 3.5 लाख लोग बुखार से पीड़ित पाये गये हैं। 

नहीं लगी है अभी तक कोई वैक्सीन

दुनिया के कुछ देश ऐसे भी हैं जहां अभी तक कोरोना वैक्सीन लगनी शुरू नहीं हुई, इनमें से एक उत्तर कोरिया भी है। देश को संयुक्त राष्ट्र अभियान के तहत उत्तर कोरिया को 2 मिलियन डोज उपलब्ध कराने की कोशिश भी की गई, जिसमें एस्ट्रेजेनिका वैक्सीन शामिल थी। इसके साथ ही उत्तर कोरिया ने ये कहते हुए सिनोवैक वैक्सीन की डोज को लौटा दिया कि उनके देश में कोरोना नहीं है और वैक्सीन को किसी और प्रभावित देश को दे दी जाए। कोवैक्स की तरफ से करीब 250 हजार डोज उपलब्ध कराए जाने का भी कोई रिस्पांस नहीं मिलने के बाद शिपमेंट कैंसिल कर दिया गया। कई उत्तर कोरिया के वैक्सीन नहीं लिए जाने के कई कारण बता रहे हैं। कहा जाता है कि किम जोंग उन अमेरिका निर्मित फाइजर जैसी वैक्सीन की चाह में हैं।