स्कॉट मॉरिसन को पटखनी देने वाले एंथनी अल्बनीज की ये बातें जानते हैं आप? प्रधानमंत्री के रूप में सामने होगी कई चुनौतियां

 Anthony Albanese
अभिनय आकाश । May 21, 2022 7:13PM
प्रधानमंत्री के रूप में अल्बनीज की पहली प्राथमिकताओं में से एक विदेशी नेताओं के साथ संबंधों का पुनर्निर्माण करना होगा, उनका कहना है कि मॉरिसन ने हाल के वर्षों में विदेश नीति की उपेक्षा की है।

जलवायु परिवर्तन पर कड़ी कार्रवाई का वादा करने वाले सेंटर लेफ्ट विपक्ष के पक्ष में ऑस्ट्रेलियाई मतदाताओं ने नौ साल के लिबरल शासन को समाप्त करने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। बहुमत की सरकार बनाने के लिए पार्टियों को 76 सीटों के बहुमत की जरूरत होती है। चुनाव में जीत दर्ज करने वाली लेबर पार्टी के एंथनी अल्बनीज अब ऑस्ट्रेलिया के नए प्रधानमंत्री होंगे। चुनाव परिणाम आने के बाद मॉरिसन ने कहा कि वे लिबरल पार्टी के नेता के रूप में इस्तीफा दे देंगे। उन्होंने कहा कि वे अपनी पार्टी की हार की जिम्मेदारी लेते हैं। ऑस्ट्रेलियाई चुनाव आयोग के अनुसार लेबर पार्टी के पास वर्तमान में 73 सीटे हैं। शुरुआती मतगणना ने ग्रीन्स के उम्मीदवारों और निर्दलीय उम्मीदवारों की ओर एक मजबूत झुकाव दिखाया, जिन्होंने मॉरिसन के गठबंधन द्वारा की गई प्रतिबद्धताओं से कहीं अधिक उत्सर्जन में कटौती की मांग की थी। 

इसे भी पढ़ें: मोदी-बाइडेन की मुलाकात, जापान और ऑस्ट्रेलियाई पीएम से द्विपक्षीय संवाद, 'मिनी नाटो' की बैठक से क्यों घबराया चीन?

कौन हैं एंथनी अल्बनीज 

अल्बनीज ऑस्ट्रेलिया के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले राजनेताओं में से एक हैं और 2013 में केविन रुड के तहत कुछ समय के लिए उप प्रधान मंत्री थे। उन्होंने मुफ्त स्वास्थ्य सेवा के रक्षक, एलजीबीटी अधिकारों के पैरोकार, रिपबल्किन और डाईहार्ड रग्बी लीग फैन के रूप में ख्याति अर्जित की है। 59 साल के अल्बनीज का बचपन सिंगल मदर द्वारा विकलांगता पेंशन की मदद से गुजरा था। महज 33 साल की उम्र में वो साल 1996 में लेबर पार्टी की टिकट पर सिडनी सीट से जीतकर संसद पहुंचे। साल 2007 में जब केविन रूड की लेबर पार्टी सत्ता में आई तो अल्बनीज इंफ्रास्ट्रक्टर और ट्रांसपोर्ट मंत्री बनाए गए। पार्टी में अंदरुनी कलह की वजह से प्रधानमंत्री बदला गया और एंथनी अल्बनीज उप प्रधानमंत्री बन गए। लेकिन उनका ये डिप्टी पीएम वाला कार्यकाल महज 10 हफ्ते का रहा। उनकी पार्टी अगले चुनाव में हार गई।

 प्रधानमंत्री के रूप में अल्बनीज के सामने आगे की चुनौतियां?

प्रधानमंत्री के रूप में अल्बनीज की पहली प्राथमिकताओं में से एक विदेशी नेताओं के साथ संबंधों का पुनर्निर्माण करना होगा, उनका कहना है कि मॉरिसन ने हाल के वर्षों में विदेश नीति की उपेक्षा की है। चीन ने हाल में ऑस्ट्रेलिया के निकट मौजूद सोलोमन द्वीप के साथ सैन्य समझौता किया है, चीन प्रशांत क्षेत्र में अपना पहला सैन्य अड्डा बनाने की योजना बना रहा है। मंगलवार को, संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत और जापान के क्वाड सदस्यों के साथ बातचीत के लिए अल्बानीज़ के टोक्यो में होने की उम्मीद है, जहां वे इंडो-पैसिफिक में मुक्त मार्ग की सुरक्षा के लिए प्राथमिकताओं पर चर्चा करेंगे। मतदाताओं ने जलवायु परिवर्तन पर लिबरल पार्टी की निष्क्रियता को लेकर लेबर पार्टी की ओर रूख किया है। ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी में ऑस्ट्रेलियन पॉलिटिक्स स्टडी सेंटर की निदेशक मारिजा तफ़लागा ने वोटरों के ग्रीन्स की ओर झुकाव को उल्लेखनीय बताया। 

अन्य न्यूज़