अवमानना मामले में इमरान खान ने महिला न्यायाधीश के विरूद्ध अपनी टिप्पणी वापस लेने की इच्छा जतायी

Imran Khan
प्रतिरूप फोटो
ANI
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानंमत्री इमरान खान ने एक महिला न्यायाधीश के विरूद्ध अपना विवादास्पद बयान वापस लेने की इच्छा जतायी लेकिन माफी मांगने से इनकार कर दिया। साथ ही उन्होंने अतिरक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जेबा चौधरी पर भी ऐतराज जताया जिन्होंने गिल को दो दिनों के लिए इस्लामाबाद पुलिस की हिरासत में भेजा था।

इस्लामाबाद, 31  अगस्त पाकिस्तान के पूर्व प्रधानंमत्री इमरान खान ने एक महिला न्यायाधीश के विरूद्ध अपना विवादास्पद बयान वापस लेने की इच्छा जतायी लेकिन माफी मांगने से इनकार कर दिया। इसी माह के प्रारंभ में एक रैली में खान ने राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किये गये अपने सहयोगी शहजाब गिल के साथ किये गये बर्ताव को लेकर पुलिस अधिकारियों, चुनाव आयोग एवं राजनीतिक विरोधियों के विरूद्ध मामला दर्ज कराने की धमकी थी। साथ ही उन्होंने अतिरक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जेबा चौधरी पर भी ऐतराज जताया जिन्होंने गिल को दो दिनों के लिए इस्लामाबाद पुलिस की हिरासत में भेजा था।

इस भाषण के बाद खान पर आतंकवाद निरोधक कानून के तहत मामला दर्ज किया गया। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने खान के विरूद्ध अदालत की अवमानना कार्यवाही भी शुरू की। उच्च न्यायालय को अपने लिखित जवाब में खान ने दावा किया कि टिप्पणी करने के समय उन्हें पता नहीं था कि चौधरी न्यायिक अधिकारी हैं, उन्हें लगा था कि वह कार्यकारी मजिस्ट्रेट हैं। उन्होंने कहा , ‘‘प्रतिवादी खान विनम्रता के साथ कहता है कि उनके द्वारा इस्तेमाल किये गये शब्द अनपयुक्त हैं और वह उसे वापस लेने को तैयार हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़