भारतीय छात्र वापस आना चाहते हैं: फिलीपीन की पर्यटन सचिव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2022   08:39
भारतीय छात्र वापस आना चाहते हैं: फिलीपीन की पर्यटन सचिव
Google Creative Commons.

एक अधिकारी ने कहा कि फिलीपीन में करीब 16,000 भारतीय विद्यार्थी थे, जिनमें से अधिकांश मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे और कई ने अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए भारत से वापस आने की इच्छा व्यक्त की है।

 मनीला| फिलीपीन की पर्यटन सचिव बर्नाडेट रोमूलो पुयात ने कहा है कि उनके देश में पढ़ाई करने वाले और कोविड के कारण अपने वतन चले गए कई भारतीय विद्यार्थी यहां वापस आना चाहते हैं।

मनीला में 22 अप्रैल को खत्म हुए विश्व यात्रा एवं पर्यटन परिषद (डब्ल्यूटीटीसी) वैश्विक सम्मेलन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पुयात ने कहा कि उन्होंने भारतीय विद्यार्थियों के फिलीपीन वापस आने के मुद्दे पर अपने भारतीय समकक्ष से चर्चा की है।

एक अधिकारी ने कहा कि फिलीपीन में करीब 16,000 भारतीय विद्यार्थी थे, जिनमें से अधिकांश मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे और कई ने अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए भारत से वापस आने की इच्छा व्यक्त की है।

पुयात ने कहा, “वास्तव में, जब हमने फिर से स्थिति को सामानन्य करने की कोशिश की, तो उनमें से बहुत से लोगों ने मुझे संदेश भेज कर कहा कि वे वापस आना चाहते हैं ताकि वे यहां अपनी पढ़ाई जारी रख सकें।”

उन्होंने कहा कि सम्मेलन में हिस्सा लेने वालों में कोविड-19 का कोई मामला नहीं मिला, जो बताता है कि “हम सामान्य स्थिति की ओर धीरे-धीरे लौट रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि एक अप्रैल को पर्यटकों के लिए देश को फिर से खोले जाने के बाद से भारतीय सैलानी फिलीपीन आ रहे हैं। पुयात ने कहा कि “ हम चाहते हैं और अधिक सैलानी हमारे देश की यात्रा करें।”

उन्होंने सम्मेलन में भारतीय पर्यटन सचिव अरविंद सिंह से भी बातचीत की। पुयात ने कहा, “कोविड प्रोटोकॉल के लागू रहने के अलावा, सब कुछ सामान्य हो गया है। हम तीन दिवसीय वैश्विक सम्मेलन का सफलतापूर्वक आयोजन करने में सफल रहे। एक हजार से ज्यादा मेहमान आए। इस कार्यक्रम में 600 से अधिक विदेशियों ने भाग लिया।” उन्होंने कहा कि भारत दिसंबर में पर्यटन मंत्रियों के वैश्विक सम्मेलन की मेजबानी करेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...