अमेरिकी विदेश मंत्री संग "मास्कलेस" वार्ता के बाद कोविड पॉजिटिव पाए गए इजरायल के पीएम, भारत दौरे पर सवाल

अमेरिकी विदेश मंत्री संग

बेनेट ने इजरायल और अरब राजनयिकों के एक 'ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन' के मौके पर रविवार को यरुशलम में मुलाकात की थी। जिसके बाद उनके कोविड पॉजिटिव होने की खबर सामने आई।

इजरायल के प्रधान मंत्री नफ्ताली बेनेट  कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। उनके कार्यालय ने अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से मुलाकात के बाद इसकी जानकारी दी। बेनेट ने इजरायल और अरब राजनयिकों के एक "ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन" के मौके पर रविवार को यरुशलम में मुलाकात की थी। जिसके बाद उनके कोविड पॉजिटिव होने की खबर सामने आई। बेनेट के कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री स्वस्थ महसूस कर रहे हैं और वह घर से कामजारी रखेंगे।

इसे भी पढ़ें: तानाशाह किम और भी शक्तिशाली मिसाइल का करेगा परिक्षण, अमेरिका पर बन रहा दबाव

इसके अलावा बेनेट ने उत्तरी इजरायल के शहर हदेरा का दौरा किया, जहां जिहादी इस्लामिक स्टेट समूह द्वारा दो पुलिस अधिकारियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने कहा कि इजरायली खुफिया द्वारा दो बंदूकधारियों की पहचान आईएस गुर्गों के रूप में की गई। बेनेट के कार्यालय ने कहा कि सोमवार को प्रधान मंत्री "रक्षा, सार्वजनिक सुरक्षा, सेना के चीफ ऑफ स्टाफ और अन्य अधिकारियों के साथ" कल रात हुए हमले के बाद स्थिति का आकलन करेंगे। हडेरा की उनकी यात्रा के बाद इजरायली मीडिया द्वारा प्रकाशित तस्वीरें में देखा गया कि जब उन्हें पुलिस द्वारा हमले के बारे में भी जानकारी दी जा रही थी तो उनमें उन्हें एक फेस मास्क पहने दिखाया गया था। लेकिन रविवार को ब्लिंकन के साथ एक संयुक्त समाचार सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री ने मास्क नहीं पहन रखा था। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका, कनाडा के नागरिकों से धोखाधडी़ करने वाले फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़

इजराइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट अप्रैल की शुरुआत में भारत दौरे पर आने वाले हैं। कोविड़ पॉजिटिव होने के बाद बेनेट के भारत दौरे को लेकर सवाल उठ रहे हैं। हालांकि, अभी बेनेट का दौरा रद्द होने के संबंध में कोई खबर नहीं है। इस दौरान दोनों देशों के बीच यूक्रेन संकट को लेकर चर्चा हो सकती है। बता दें कि अमेरिका के शीर्ष राजनयिक संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मोरक्को के अधिकारियों के साथ ऐतिहासिक वार्ता में भाग लेने के लिए इज़राइल में हैं। उनके मिस्र के समकक्ष भी उस समूह में शामिल होंगे जो सोमवार को नेगेव रेगिस्तान में बैठक कर रहे हैं। 2015 के परमाणु समझौते को बहाल करने के लिए वाशिंगटन जल्द ही ईरान के साथ एक समझौते पर बढ़ती क्षेत्रीय चिंताओं के बीच वार्ता हो रही है।