लगातार हो रही गोलीबारी पर चीन ने अमेरिका को दी नसीहत, कहा- इससे निपटने के लिए प्रभावी उपाय करने का आ गया समय

Zhao Lijian
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
चीनी विदेश मंत्रालय ने अमेरिका में हो रही गोलीबारी की घटनाओं को लेकर चिंता जाहिर की है। विदेश मंत्रालय के सूचना विभाग के उप निदेशक झाओ लिजियन ने कहा कि अमेरिका में बंदूक की हिंसा अमेरिकी लोगों पर मंडरा रही मौत का तमाशा बन गई है, जिससे जान को खतरा है।

न्यूयॉर्क। अमेरिका में लगातार हो रही गोलीबारी की घटनाओं को लेकर चीन का बयान सामने आया है। जिसमें चीन ने अमेरिका को इस तरह की घटनाओं से निपटने के लिए जरूरी कदम उठाने की नसीहत दी है। दरअसल, दक्षिणी कैलिफोर्निया के लगुना वुड्स के एक चर्च में रविवार को एक संदिग्ध ने कई लोगों को गोलियां चलाईं। जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और अन्य 5 पांच नागरिक जख्मी हो गए। अमेरिका में यह कोई पहली घटना नहीं हुई है जब अमेरिकी नागरिकों पर संदिग्धों ने गोलियां दागी हों। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका के सुपरमार्केट में गोलीबारी, 10 की मौत, अश्वेत लोगों को मारना चाहता था हमलावर

इससे पहले न्यूयॉर्क के सुपरमार्केट में एक बंदूकधारी ने ताबड़तोड़ गोलियां चलाईं। जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई। हालांकि बंदूकधारी को हिरासत में ले लिया गया था। मिलवॉकी और ह्यूस्टन से भी गोलीबारी की खबरें सामने आई थीं। इन घटनाओं को लेकर चीन ने चिंता जाहिर की है और अमेरिकी लोगों के हितों की बात की है।

चीन की अमेरिका को नसीहत

चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, चीनी विदेश मंत्रालय ने अमेरिका में हो रही गोलीबारी की घटनाओं को लेकर चिंता जाहिर की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा कि अमेरिका में बंदूक की हिंसा अमेरिकी लोगों पर मंडरा रही मौत का तमाशा बन गई है, जिससे जान को खतरा है। अमेरिकी सरकार के लिए इससे निपटने के लिए व्यावहारिक और प्रभावी उपाय करने का समय आ गया है। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका : मिलवॉकी में हिंसा की घटनाओं में तीन लोगों की गोली मारकर हत्या  

कहां से आ रही है नफरत ?

इसी बीच उन्होंने सवाल उठाया कि एक देश जो अपनी स्वतंत्रता, लोकतंत्र और कानून के शासन के लिए जाना जाता है, उसके पास एक गंभीर बंदूक हिंसा का मुद्दा क्यों है? अधिक अमेरिकी बंदूकें क्यों खरीदते हैं और ट्रिगर खींचते हैं? क्या बंदूक प्रसार और नस्लीय असमानता के बीच कोई संबंध है? सारी नफरत कहां से आ रही है?

अन्य न्यूज़