अमेरिका पर हमला करने वाला है चीन? साउथ चाइना सी में परमाणु बम से लैस मिसाइल JL-3 लॉन्चिंग का बना रहा अड्डा

china
creative common
अभिनय आकाश । Nov 23, 2022 1:18PM
अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार चीन की टाइप 094 सबमरीन बोहाई समुद्र से अमेरिका के अलास्का प्रांत पर हमला करने की ताकत रखती है। चीन ने माना है कि उसने जेएल 3 मिसाइल का परीक्षण किया है लेकिन ये किसी एक देश को लक्ष्य करके नहीं है।

चीन ने दक्षिण चीन सागर को सबमरीन से दागे जाने वाले परमाणु बम से लैस मिसाइलों का अड्डा बनाने से बस कुछ ही कदम की दूरी पर है। चीन के इस कदम से पीएलए नेवी की नई मिसाइल जेएल 3 अमेरिका महाद्वीप को आसानी से निशाना बना सकती है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने पिछले हफ्ते आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया कि चीन ने अपनी परमाणु पनडुब्बियों पर लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलें रखी हैं जो अमेरिका पर हमला कर सकती हैं। यूएस पैसिफिक फ्लीट के प्रमुख, एडमिरल सैम पापारो ने एक सम्मेलन में सैन्य संवाददाताओं से कहा कि चीन की छह जिन-श्रेणी की पनडुब्बियां अब जेएल-3 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों से लैस हैं।" उन्होंने आगे कहा कि "वे संयुक्त राज्य अमेरिका को धमकी देने के लिए बनाए गए थे। यह पहली बार है जब अमेरिका ने स्वीकार किया है कि चीन ने अपनी परमाणु शक्ति वाली पनडुब्बियों पर हथियार तैनात किए हैं, जिससे वह अपने तटों से अमेरिका की मुख्य भूमि पर हमला कर सके।

इसे भी पढ़ें: तनावपूर्ण संबंधों के बीच अमेरिका और चीन के रक्षा प्रमुखों ने मुलाकात की

रिपोर्टों के अनुसार, कथित तौर पर जून 2019 में एक जेएल-3 परीक्षण लॉन्च किया गया था। उस समय, चीन के राष्ट्रीय रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता रेन गुओकियांग ने कहा था कि परीक्षण मानक थे और किसी विशिष्ट राष्ट्र या लक्ष्य पर निर्देशित नहीं थे। चीन के पिछले मॉडल एसएलबीएम, जेएल-2 की तुलना में नए जेएल-3 की रेंज कथित तौर पर 10,000 किलोमीटर से अधिक हो सकती है। उत्तरार्द्ध की सीमा लगभग 7,200 किलोमीटर है। अपनी ओर से, चीन ने अभी तक जेएल-3 को सेवा में शामिल करने की आधिकारिक घोषणा नहीं की है।

इसे भी पढ़ें: मध्य चीन में एक कपंनी में लगी भीषण आग, 36 लोगों की मौत

अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार चीन की टाइप 094 सबमरीन बोहाई समुद्र से अमेरिका के अलास्का प्रांत पर हमला करने की ताकत रखती है। चीन ने माना है कि उसने जेएल 3 मिसाइल का परीक्षण किया है लेकिन ये किसी एक देश को लक्ष्य करके नहीं है। जीटी द्वारा उद्धृत चीनी विशेषज्ञों ने कहा कि एसएलबीएम के विकास का उद्देश्य बीजिंग को परमाणु ब्लैकमेल से बचाना था। इसमें आगे कहा गया है कि अटकलों को हवा देने के पीछे अमेरिका का गुप्त मकसद था कि इन लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल उस पर हमला करने के लिए किया जा सकता है और वह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपनी उपस्थिति बढ़ाने के लिए प्रचार का उपयोग करेगा।

अन्य न्यूज़