पाकिस्तान की शहबाज सरकार के सेना से खराब हुए रिश्ते? बिलावल भुट्टो ज़रदारी ने 1971 युद्ध की हार को बताया- विशाल सैन्य विफलता

Pakistan Shahbaz
ANI
रेनू तिवारी । Dec 01, 2022 5:53PM
पाकिस्तान के पूर्व सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा द्वारा 1971 के भारत और पाकिस्तान के युद्ध को "राजनीतिक विफलता" करार दिए जाने के कुछ दिनों बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-ज़रदारी ने 1971 के पूर्वी पाकिस्तान की हार को "विशाल सैन्य विफलता" कहा।

हाल ही में पाकिस्तान के  विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-जरदारी ने 1971 के भारत और पाकिस्तान के युद्ध को लेकर एक बयान दिया। उन्होंने कहा 1971 की पूर्वी पाकिस्तान की हार 'सैन्य विफलता' थी। बिलावल भुट्टो-जरदारी की टिप्पणी को उनकी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के 55वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित एक रैली में सेना के पूर्व प्रमुख पर एक परोक्ष उपहास के रूप में देखा जा रहा है। पाकिस्तान के पूर्व सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा द्वारा 1971 के भारत और पाकिस्तान के युद्ध को "राजनीतिक विफलता" करार दिए जाने के कुछ दिनों बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-ज़रदारी ने 1971 के पूर्वी पाकिस्तान की हार को "विशाल सैन्य विफलता" कहा।

 

इसे भी पढ़ें: Gujarat Election: गुजरात में पीएम मोदी का रोड शो, 50 किलोमीटर तक रहेंगे लोगों के बीच

 

बिलावल की टिप्पणी को उनकी पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के 55वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित एक रैली में पूर्व सेना प्रमुख पर परोक्ष उपहास के रूप में देखा जा रहा है। इस अवसर को चिह्नित करने के लिए, पीपीपी प्रमुख ने अपने संस्थापक - उनके दादा जुल्फिकार अली भुट्टो की उपलब्धियों को याद करते हुए, अपनी पार्टी के इतिहास पर दोबारा गौर किया। रिपोर्ट के अनुसार, डॉन अखबार ने उनके हवाले से कहा, जब जुल्फिकार अली भुट्टो ने सरकार संभाली, तो लोग टूट गए थे और सभी उम्मीदें खो दी थीं। लेकिन उन्होंने राष्ट्र का पुनर्निर्माण किया, लोगों के विश्वास को बहाल किया, और अंत में हमारे 90,000 सैनिकों को - जिन्हें 'सैन्य विफलता' के कारण युद्धबंदी बना दिया गया था - वापस घर ले आए। उन 90,000 सैनिकों को उनके परिवारों से मिला दिया गया। और यह सब आशा, एकता और समावेश की राजनीति के कारण संभव हुआ है।

इसे भी पढ़ें: Still I love India... मुंबई की सड़कों पर परेशान किए जाने के बाद बोलीं कोरियाई YouTuber

29 नवंबर को अपनी सेवानिवृत्ति से कुछ दिन पहले, जनरल बाजवा ने पूर्वी पाकिस्तान के नुकसान को "राजनीतिक विफलता" कहा, और कहा कि सैनिकों के बलिदान को देश द्वारा ठीक से स्वीकार नहीं किया गया। उन्होंने इस बात को खारिज कर दिया कि 92,000 पाकिस्तानी सैनिकों ने युद्ध में आत्मसमर्पण किया था और दावा किया कि केवल 34,000 जवान थे, जबकि अन्य सभी विभिन्न सरकारी विभागों का हिस्सा थे।

जनरल बाजवा ने कहा था मैं रिकॉर्ड को सही करना चाहता हूं। सबसे पहले, पूर्वी पाकिस्तान का पतन एक सैन्य नहीं, बल्कि एक राजनीतिक विफलता थी। लड़ने वाले सैनिकों की संख्या 92,000 नहीं थी, बल्कि केवल 34,000 थी। बाकी विभिन्न सरकारी विभागों से थे।  1971 में, पाकिस्तान को पूर्वी पाकिस्तान, अब बांग्लादेश में भारत से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा।

अन्य न्यूज़