चीन में शी जिनपिंग के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शन! तानाशाही से मुक्ति और लोकतंत्र लाने की उठ रही मांग, प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्त हुई पुलिस

 Xi Jinping
ANI
रेनू तिवारी । Nov 28, 2022 11:39AM
चीन से भले ही कोई खबरें सामने नहीं आती हो लेकिन अब हालात काबू से बाहर हो रहे हैं। चीनी तानाशाह शी जिनपिंग की जीरो कोविड पॉलिसी के खिलाफ लोग सड़को पर उतर आये हैं। चीन की जनता पिछले लंबे समय से कोरोना वायरस का कहर झेल रही हैं। जहां पूरे विश्व में लॉकडाउन को खत्म कर दिया हैं।

चीन से भले ही कोई खबरें सामने नहीं आती हो लेकिन अब हालात काबू से बाहर हो रहे हैं। चीनी तानाशाह शी जिनपिंग की जीरो कोविड पॉलिसी के खिलाफ लोग सड़को पर उतर आये हैं। चीन की जनता पिछले लंबे समय से कोरोना वायरस का कहर झेल रही हैं। जहां पूरे विश्व में लॉकडाउन को खत्म कर दिया हैं। वहीं चीन के कई बड़े शहरों में लॉकडाउन लगा हुआ हैं। हाल ही में चीन के झिंजियांग (China Xinjiang) के एक अपार्टमेंट में आग लग गयी। लॉकडाउन के कारण दमकल सेवा समय पर नहीं पहुंची और 10 लोगों की मौत हो गयी। इस मौत के बाद चीन में कई जगहों पर लोगों ने विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। इस तरह का विरोध प्रदर्शन चीन में 1989 में हुआ था। इसी कारण आज की चीनी परिस्थितियों की तुलना 1989 त्यानआनमेन चौक विरोध और नरसंहार (1989 Tiananmen Square protests and massacre) से की जा रही हैं। विरोध प्रदर्शन के कई वीडियो सामने आये हैं। वीडिय़ो में आप देख सकते हैं कि शी जिनपिंग के खिलाफ लोग खुल कर सड़कों पर उतरे हैं, लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देनी की गुहार लगा रहे हैं। तानाशाही से मुक्ति की मांग कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर कैमरन ग्रीन ने किया आईपीएल के लिए पंजीकरण, कहा सीखने के लिए सबसे अच्छा माहौल मिलेगा

रविवार को चीन के कड़े कोविड नियंत्रण उपायों के खिलाफ एक रैली के दौरान शंघाई में पुलिस प्रदर्शनकारियों से भिड़ गई। प्रदर्शनकारियों को अधिकारियों द्वारा घसीटा गया जबकि कुछ को हिरासत में लिया गया। पुलिस ने रविवार को देश के कड़े कोविड नियंत्रण उपायों के खिलाफ एक विरोध रैली के दौरान शंघाई के कई निवासियों को हिरासत में लिया। तब से विरोध भड़क गया और वुहान सहित कई शहरों में फैल गया, जहां लगभग तीन साल पहले महामारी शुरू हुई थी।

समाचार एजेंसी रॉयटर्स द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में प्रदर्शनकारियों को शंघाई की सड़कों पर इकट्ठा होकर राष्ट्रगान गाते हुए देखा जा सकता है। पुलिस ने बल का सहारा लिया और प्रदर्शनकारियों को साइट से दूर खींच लिया। कुछ को हिरा

इसे भी पढ़ें: भारतीय मुक्केबाज उर्वशी सिंह ने कोलंबो में जीते दो खिताब, डब्ल्यूबीसी अंतरराष्ट्रीय सुपर बेंथमवेट और डब्ल्यूबीसी एशिया सिल्वर क्रॉउन के खिताब किया अपने नाम

रॉयटर्स ने बताया कि निवासियों को "उन्हें मुक्त करो!" चिल्लाते हुए सुना गया क्योंकि पुलिस अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों को घसीटा। वुलुमुकी रोड पर भारी पुलिस की तैनाती की गई है, जहां शनिवार को मोमबत्ती की रोशनी में निकाला गया मार्च रविवार को विरोध प्रदर्शन में बदल गया। झिंजियांग क्षेत्र की राजधानी उरुमकी शहर में एक आवासीय बहुमंजिला इमारत में गुरुवार को आग लग गई, सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए घटना के वीडियो के बाद विरोध शुरू हो गया, जिसमें आरोप लगाया गया कि लॉकडाउन आग का एक कारक था जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई थी।

(inputs from Reuters International Media)

अन्य न्यूज़