यूक्रेन में रूसी सेनाओं का हो रहा धीरे-धीरे कब्जा, अब क्रेमिन्ना की गलियों में घुसी

ukraine
google common license
यूक्रेन की सेना ने जानकारी देते हुए बताया कि रूस की सेना अब क्रेमिन्ना की गलियों में घुस गई है।लुहांस्क क्षेत्रीय सैन्य प्रशासक सेरही हैदाई ने कहा कि कस्बे पर देर रात भारी गोलाबारी की गई, सात आवासीय इमारतों को आग लगा दी गई और ‘ओलंपस’ खेल परिसर को निशाना बनाया गया।

कीव (यूक्रेन)।रूसी सैनिक अब क्रेमिन्ना कस्बे की गलियों तक पहुंच गए हैं और इसके चलते बचाव अभियान असंभव हो गया है। यूक्रेन की सेना के एक अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए बताया क्रेमिन्ना उन दो कस्बों में से एक है, जहां रूसी बल सोमवार को घुसने में सफल रहे। लुहांस्क क्षेत्रीय सैन्य प्रशासक सेरही हैदाई ने कहा कि कस्बे पर देर रात भारी गोलाबारी की गई, सात आवासीय इमारतों को आग लगा दी गई और ‘ओलंपस’ खेल परिसर को निशाना बनाया गया। इस परिसर में देश की ओलंपिक टीम के खिलाड़ियों का प्रशिक्षण होता है। ---- रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध संबंधी अन्य अहम घटनाक्रम कीव- यूक्रेनी अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि रूसी सेना 300 मील (480 किलोमीटर) से अधिक दूरी के मोर्चे पर हमला कर रही है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बल लुहांस्क और दोनेत्स्क क्षेत्रों में हमला कर रहे है। ये क्षेत्र डोनबास और ज़पोरज़िया दोनों का हिस्सा हैं। यूक्रेन की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सचिव ओलेकसिय डानोलिव ने कहा, ‘‘आक्रमणकारियों ने हमारी रक्षा पंक्ति को तोड़ने की कोशिश की, लेकिन हमारी सेना डटी हुई है। वे केवल दो शहरों क्रेमिन्ना और एक अन्य छोटे शहर में घुसने में सफल रहे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम अपने किसी क्षेत्र में हार नहीं मानेंगे।’’ रूस ने ल्वीव और यूक्रेन के अन्य क्षेत्रों में भी बमबारी की।

इसे भी पढ़ें: हाई अलर्ट पर है ताइवान, ये है चीन का तबाही वाला प्लान, अमेरिका बोला- राष्ट्रपति वेन के साथ मिलकर देंगे मुंहतोड़ जवाब

रूसी सेना ने कहा कि उसकी मिसाइलों ने पिछले दिनों पूर्वी और मध्य यूक्रेन में 20 से अधिक सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया - जिसमें गोला-बारूद डिपो, कमान मुख्यालय और सैनिकों और वाहनों के समूह शामिल थे। इस बीच, इसने कहा कि तोपखाने ने अन्य 315 यूक्रेनी लक्ष्यों को निशाना बनाया और युद्धक विमानों ने यूक्रेनी सैनिकों और सैन्य उपकरणों पर 108 हमले किए। दावों की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी। --- कीव- नेशनल गार्ड की अजोव रेजीमेंट के कमांडर डेनिस प्रोकोपेंको ने सोमवार को कहा कि रूस ने मारियुपोल इस्पात संयंत्र पर बमबारी की, जहां यूक्रेनियों ने आत्मसमर्पण करने से इनकार कर दिया। प्रोकोपेंको ने सोमवार को एक वीडियो संदेश में कहा कि आम नागरिक संयंत्र की सुरंगों में शरण ले रहे हैं, इसके बावजूद बमबारी जारी है। रूस ने अनुमान लगाया कि 2,500 यूक्रेनी सैनिक और भाड़े के लगभग 400 विदेशी सैनिक संयंत्र में हैं। यूक्रेन ने अनुमान लगाया कि मारियुपोल में 21,000 लोगों की मौत हो गई है। --- कीव- यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा कि रूस ने पूर्वी यूक्रेन पर कब्जा करने के लिए हमला शुरू कर दिया है। उन्होंने एक वीडियो संदेश में कहा, ‘‘अब हम बता सकते हैं कि रूसी बलों ने डोनबास के लिए युद्ध आरंभ कर दिया है। पूरी रूसी सेना का एक बड़ा हिस्सा इस हमले पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।’’ ---

संयुक्त राष्ट्र-संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार के अवर महासचिव मार्टिन ग्रिफिथ्स ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि यूक्रेन में अभी समय नहीं आया है कि मानवीय मदद हासिल करने के लिए संघर्ष विराम किया जा सके, लेकिन उन्होंने भविष्य में ऐसा होने की उम्मीद जताई। --- बर्लिन- जर्मनी के नियोक्ताओं और संघों ने यूक्रेन पर हमले को लेकर रूस से प्राकृतिक गैस आयात करने पर यूरोपीय संघ द्वारा लगाए गए तत्काल प्रतिबंध का मिलकर विरोध किया। उन्होंने कहा कि इससे कारखाने बंद हो जाएंगे और लोग बेरोजगार हो जाएंगे। -- सर्बिया के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वूसिक ने यूक्रेन की खुफिया सेवाओं और यूरोपीय संघ के एक देश पर रूस के लिए जाने वाली ‘एयर सर्बिया’ की उड़ानों में बम होने की अफवाह फैलाने का आरोप लगाया है। यूक्रेन ने सर्बिया के इन आरोपों को निराधार और झूठा बताया है। --- ब्रसेल्स- यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक जोसेप बोरेल ने यूक्रेन पर सोमवार को रूस के ‘‘अंधाधुंध और अवैध’’ हमलों की निंदा की। --- वाशिंगटन- अमेरिका ने रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रूस ने यूक्रेन के डोनबास क्षेत्र में जमीनी हमले करने से पहले हालिया दिनों में तोपों, जमीनी लड़ाकू बलों और अन्य क्षमताओं में वृद्धि की है। -- कीव- रूस के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने यूरोपीय संघ (ईयू) की प्रश्नावली के यूक्रेन के जवाब को औपचारिक रूप से जमा करा दिया और ईयू की सदस्यता हासिल करने की अपनी मुहिम तेज करने की ओर पहला कदम उठाया। -- मास्को- रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सोमवार को कहा कि रूस के खिलाफ पश्चिमी देशों के लगाए गए प्रतिबंध नाकाम साबित हुए हैं। पुतिन ने कहा कि पश्चिमी देशों को ‘‘वित्तीय-आर्थिक स्थिति तबाह होने, बाजार में दहशत फैलने, बैंकिंग प्रणाली के ध्वस्त होने और दुकानों में सामानों की कमी हो जाने की उम्मीद थी।’’

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में ईस्टर छुट्टियों के दौरान गोलीबारी की तीन घटनाएं, दो नाबालिगों की मौत

उन्होंने कहा कि ‘‘आर्थिक हमले की रणनीति विफल हो गई है।’’ पुतिन ने शीर्ष आर्थिक अधिकारियों के साथ एक वीडियो कॉल के दौरान यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि ‘‘रूस ने अभूतपूर्व दबाव का सामना किया है’’ और तर्क दिया कि रूबल मजबूत हुआ है तथा देश ने वर्ष की पहली तिमाही में 58 अरब डॉलर का ऐतिहासिक उच्च व्यापार अधिशेष दर्ज किया है। पुतिन ने कहा कि प्रतिबंधों का अमेरिका और उसके यूरोपीय सहयोगियों के खिलाफ उल्टा असर हुआ, जिससे मुद्रास्फीति में तेजी आई और जीवन स्तर में गिरावट आई। पुतिन ने रूस में वस्तुओं की कीमतों में तेज वृद्धि को स्वीकार करते हुए कहा कि साल-दर-साल आधार पर अप्रैल तक इनमें 17.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई तथा अधिकारियों को लोगों की आय पर मुद्रास्फीति के प्रभाव को कम करने के लिए कदम उठाने का निर्देश दिया। -- कीव: यूक्रेन की उप प्रधानमंत्री इरीना वीरेशचुक ने कहा कि मारियुपोल शहर में फंसे नागरिकों के लिए मानवीय गलियारों की अनुमति देने से इनकार करने पर रूस के खिलाफ युद्ध अपराधों के लिए मुकदमा चलाया जाना चाहिए। इससे पहले वीरेशचुक ने कहा था कि रूस मानवीय निकासी मार्गों पर गोलाबारी कर रहा है और इन्हें अवरुद्ध कर रहा है। वीरेशचुक ने फिर से रूस से मारियुपोल खासकर अजोवस्ताल स्टील मिल से नागरिकों की सुरक्षित निकासी की अनुमति देने का आह्वान किया। --

कीव : यूक्रेन की सुरक्षा सेवा ने देशद्रोह के आरोपों का सामना कर रहे एक यूक्रेनी नेता का वीडियो पोस्ट किया है, जिन्होंने मारियुपोल के फंसे हुए नागरिकों को निकालने के बदले में खुद को सौंपने की बात कही। मारियुपोल में रूसी सेना के सामने आत्मसमर्पण करने वाले दो ब्रिटिश नागरिकों की खबरें भी रूसी मीडिया ने प्रसारित की है। रूसी राष्ट्रपति पुतिन के साथ निकटता रखने वाले विपक्षी दल के पूर्व नेता विक्टर मेदवेदचुक का वीडियो सोमवार को पोस्ट किया गया। वह यूक्रेन में 24 फरवरी को युद्ध शुरू होने के कुछ दिन पहले ही नजरबंदी से भाग गए थे। देशद्रोह के आरोप में वह 15 साल की सजा का सामना कर रहे हैं। मेदवेदचुक को यूक्रेन की सुरक्षा सेवा (एसबीयू) द्वारा विशेष अभियान में पिछले मंगलवार को हिरासत में लिया गया था। --- रोम : इटली के अधिकारी ऊर्जा समझौते के लिए इस सप्ताह अफ्रीका की यात्रा पर जाएंगे। प्रधानमंत्री मारियो द्रागी रूस से आपूर्ति होने वाली गैस पर देश की निर्भरता जल्द से जल्द कम करना चाहते हैं। इसी कवायद के तहत अधिकारियों की यह यात्रा होगी। द्रागी नहीं जाएंगे क्योंकि वह कोविड-19 से संक्रमित हैं। --- मैड्रिड : स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज ने कहा है कि उनका देश कुछ दिनों में यूक्रेन की राजधानी कीव में अपना दूतावास फिर से खोलेगा। -- लंदन : ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि मारियुपोल में रूस की सेना को यूक्रेन के सैनिकों से करारा जवाब मिल रहा है। ब्रिटेन ने कहा कि हफ्तों से जारी बमबारी में बंदरगाह शहर अजोव बर्बाद हो चुका है और वहां काफी नागरिक हताहत हुए हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़