Davos 2023: भारत के खिलाफ जहर उगलना हिना रब्बानी खार को पड़ा भारी, श्री श्री रविशंकर ने पाकिस्तानी मंत्री की कराई बोलती बंद

Hina Rabbani Khar in Davos
prabhasakshi
अभिनय आकाश । Jan 20, 2023 5:26PM
श्री श्री ने कहा कि पाकिस्तान को ये अच्छे से पता होना चाहिए की दिक्कत उसकी तरफ से है न की भारत की तरफ से है। उन्होंने कहा, "राजनीति कौशल की कमी है और मैं देख रहा हूं कि ये उस तरफ से है।

भारतीय आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) में पाकिस्तान की विदेश राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार को करारा जवाब दिया। रविशंकर एक पैनल चर्चा में थे और 2011 से 2013 तक पाकिस्तान की विदेश मंत्री रहीं हिना रब्बानी खार भी मौजूद थीं। चर्चा शुरू करते हुए उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को हल करने के लिए जिस राजनीति कौशल की आवश्यकता थी, वह कुछ साल पहले थी, लेकिन अब गायब है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पाक के सहयोगी के तौर पर नहीं देखता है। जबकि वो भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी को सहयोगी के तौर पर देखता था। इस पर श्री श्री ने कहा कि पाकिस्तान को ये अच्छे से पता होना चाहिए की दिक्कत उसकी तरफ से है न की भारत की तरफ  से है। उन्होंने कहा, "राजनीति कौशल की कमी है और मैं देख रहा हूं कि ये उस तरफ से है। उन्होंने आगे पूछा कि क्यों भारत को अन्य सभी पड़ोसियों के साथ कोई समस्या नहीं है। हमारे बांग्लादेश, नेपाल और श्रीलंका के साथ अच्छे संबंध हैं। सभी देश एक साथ आ रहे हैं और भारत पाकिस्तान के विकास में बहुत अधिक हिस्सा लेने को तैयार है।

इसे भी पढ़ें: Pakistan Economic Crisis: दबा है सोने का भंडार, बदल सकती है कंगाल पाकिस्तान की किस्मत, बदहाल देश को उबारने वाली रिपोर्ट

जब उनसे कहा गया कि पीएम मोदी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मिलने के लिए पाकिस्तान गए लेकिन बगदले में भारत ने आतंकी हमले झेले। इस पर खार ने जवाब दिया कि इसमें इरादा गायब था। इसके बाद उन्होंने बालाकोट का जिक्र किया और आरोप लगाया कि भारतीय लड़ाकू विमान पाकिस्तानी क्षेत्र में इसलिए घुसे क्योंकि एक चुनाव जीतना था। श्री श्री ने फिर पलटवार करते हुए कहा कि दुनिया जानती है कि आतंकवाद कहां पनप रहा है। ओसामा बिन लादेन कहाँ था? दुनिया में समस्याएँ पैदा करने वाले अन्य आतंकवादी कहाँ हैं? रविशंकर ने कहा कि जब आप हाथ मिलाना चाहते हैं, तो आपको यह भी देखना चाहिए कि कुछ देशों में आतंकवादियों को बढ़ावा नहीं दिया जाता है। 2014 में पीएम मोदी ने पाकिस्तान के पूर्व पीएम शरीफ को अपने शपथ ग्रहण समारोह का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित किया था। प्रधानमंत्री मोदी ने इच्छा (रिश्ते सुधारने के लिए) दिखाई है।

इसे भी पढ़ें: Quran In University: देश में खाने के लाले, शहबाज सरकार लोगों को चली भटकाने, जारी किया फरमान, अब यूनिवर्सिटीज में हिंदुओं को भी पढ़नी होगी कुरान

खार ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर भी नई दिल्ली पर आरोप लगाया कि पीएम मोदी ने भारत की "धर्मनिरपेक्ष छवि" को धूमिल किया। श्री श्री ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि ऐसा बिल्कुल नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत में मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से मुक्ति मिली है और वे खुश हैं। उन्होंने कहा, "भारत में अल्पसंख्यकों के लिए कई विकास कार्यक्रम हैं, लाभ तीन गुना हो गए हैं।

अन्य न्यूज़