सुबह 5 बजे धमाकों की आवाज से खुली नींद, यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्र ने बताए वहां के हालात

सुबह 5 बजे धमाकों की आवाज से खुली नींद, यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्र ने बताए वहां के हालात

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्वी यूक्रेन के कई इलाकों में रूस की सेना घुस चुकी है और कीव एयरपोर्ट को कब्जे में लेने की कोशिश कर रही है जिसके कारण एयरपोर्ट को पूरा खाली करवाया जा रहा है। यूक्रेन में मार्शल लॉ लागू कर दिया गया है और साथ ही फ्लाइट्स की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतीन के युद्ध की घोषणा के बाद यूक्रेन की राजधानी कीव और वेस्ट कीव सहित कई इलाकों में एक के बाद एक हमले हो रहे हैं। बता दें कि, लोग कीव को छोड़कर दूसरें इलाकों की ओर रवाना हो रहे हैं। इस बीच हमलों और धमाकों की आवाज भी सुनी जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्वी यूक्रेन के कई इलाकों में रूस की सेना घुस चुकी है और कीव एयरपोर्ट को कब्जे में लेने की कोशिश कर रही है जिसके कारण एयरपोर्ट को पूरा खाली करवाया जा रहा है। यूक्रेन में मार्शल लॉ लागू कर दिया गया है और साथ ही फ्लाइट्स की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई है। यूक्रेन का एयरस्पेस बंद होने के कारण एयर इंडिया का फ्लाइट भी बीच रास्ते से वापस भारत लौट आया है। युद्ध के बीच पूरे यूक्रेन में अफरा-तफरी मच गई है जिससे तनाव काफी ज्यादा बढ़ गया है।

इसे भी पढ़ें: युद्ध के बीच इमरान खान की रूस यात्रा पर उठे सवाल, अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा अगर जिम्मेदार हो तो यह कदम उठाओ

इसी बीच यूक्रेन में फंसे एक छात्र से हिंदी मीडिया चैनल आज तक ने बातचीत की जिसमें वह यूक्रेन के मौजूदा हालात के बारे में जानकारी दे रहा है। यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्र के मुताबिक, युद्ध बढ़ने से खाने-पीने की समस्या आ सकती है। पानी की भी लंबी लाइन लग रही है। सभी लोग अपने-अपने घरों में जरूरत के सामानों को इक्ट्ठा करने में जुटे हुए है। छात्र ने आगे कहा कि, सुबह 5 बजे से हमारी नींंद केवल धमाकों की आवाज से खुली है और अब तक 10 से 12 धमाके यहां पर हो चुके हैं। छात्र ने आगे बताया कि, यूक्रेन में अगर और दिनों तक फंसे रहे तो यहां खाने -पीने की समस्या बढ़ सकती है। इसका बड़ा कारण यह है कि, यहां सभी सुपर मार्केट बंद हो चुके है। जो स्टोर खुले भी है तो वहां पर जरूरत का सामान उपलब्ध नहीं है। पानी भी अब मिलना बंद हो गया है। लोग नेचुरल सोर्स के जरिए पानी इक्ट्ठा कर रहे हैं। आने वाले दिनों में समस्या काफी बढ़ सकती है जिसके कारण लोग जरूरत का सामान इक्टठा करके रखे रहे है।

इसे भी पढ़ें: रूस-यूक्रेन की सैन्य ताकत कैसी और कितनी है? आंकड़ों से समझें कौन किस पर पड़ेगा भारी

बता दें कि, बीच रास्ते से एयर इंडिया के फ्लाइट लौटने से यूक्रेन में 50 से 60 बच्चे एयरपोर्ट के हाइवे पर ही फंसे हुए हैं। छात्र ने बताया कि, भारतीय दूतावास कोशिश कर रहे हैं कि सारे भारतीय छात्रों और नागरिकों को सुरक्षित यूक्रेन से निकाला जा सके, लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है। गौरतलब है कि, 22 फरवरी को एयर इंडिया की स्पेशल फ्लाइट से 240 बच्चों को यूक्रेन से वापस लाया गया था वहीं आज यानि 24 फरवरी को 182 छात्र ही केवल वापस लौट पाए है। छात्र ने बताया कि, गुरूवार को 500 से 700 छात्र भारत लौटने वाले थे लेकिन एयरस्ट्राइक के कारण ऐसा नहीं हो पाया। यहां हालात अभी समझ के बाहर है कि आगे और क्या होगा। छात्र भारत में अपने परिवार के संपर्क में है।