• भारत सहित अन्य देशों को मिलेगी दो करोड़ 50 लाख खुराकें, बाइडेन प्रशासन की हो रही तारीफ

अमेरिकी सांसदों, कारोबारियों ने कोविड टीकों को अन्य देशों को देने के कदम का स्वागत किया है।सांसद ग्रेस मेंग ने भारत, नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका और एशिया के अन्य देशों के लिए टीके भेजने की योजना की घोषणा करने के लिए बाइडन प्रशासन की सराहना की।

वाशिंगटन। शीर्ष अमेरिकी सांसदों, कारोबारी सूमहों और भारतीय अमेरिकियों ने भारत सहित अन्य देशों को कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीकों की दो करोड़ 50 लाख खुराकें भेजने के बाइडन प्रशासन के कदम का स्वागत किया है। सांसद मिट रोमनी ने बृहस्पतिवार को कहा,‘‘ यह एक पहला अच्छा कदम है। मैं प्रशासन से अपने वैश्विक टीका आवंटन कार्यक्रम में तेजी लाने का अनुरोध करता हूं, यह कार्यक्रम तत्काल जरूरत और क्षेत्रीय प्राथमिकता की योजना पर केन्द्रित हो। मैं टीकों की दूसरी खेप शीघ्र आवंटित किए जाने को ले कर आशान्वित हूं।’’ उन्होंने कहा,‘‘ ताइवान और भारत जैसे देशों को कोविड-19रोधी टीकों की बेहद जरूरत है, ऐसे में मुझे प्रसन्नता है कि प्रशासन वैश्विक टीका आपूर्ति योजना पर क्रियान्वयन की दिशा में बढ़ रहा है। अमेरिकी टीके चीन और रूस से आ रहे टीकों के मुकाबले कहीं अधिक सुरक्षित और असरदार हैं।’’

इसे भी पढ़ें: वुहान लैब को फंड कर रहा था अमेरिका? 866 पन्नों वाले ईमेल चैट में अहम खुलासा!

सांसद ग्रेस मेंग ने भारत, नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका और एशिया के अन्य देशों के लिए टीके भेजने की योजना की घोषणा करने के लिए बाइडन प्रशासन की सराहना की। अमेरिकी चेंबर ऑफ कॉमर्स ने एक बयान जारी करके वैश्विक टीका उत्पादन में तेजी लाने और टीके तक पहुंच को व्यापक बनाने के प्रयासों का स्वागत किया। अमेरिका चेंबर ऑफ कॉमर्स के कार्यकारी उपाध्यक्ष मायरॉन ब्रिलियंट ने कहा,‘‘ दुनिया भर के देश स्वास्थ्य संकट से निपटने में संघर्ष कर रहे हैं, हम जानते हैं कि इसे और अधिक किया जा सकता है तथा किया जाना चाहिए। अमेरिका में मांग से ज्यादा आपूर्ति होने के कारण प्रशासन को अतिरिक्त खुराकें वैश्विक आपूर्ति के लिए देनी चाहिए।’’ फिजीशियन डॉ विजय जी प्रभाकर ने इसे अमेरिका-भारत संबंधों के लिए ‘‘सकारात्मक कदम’’ बताया।