पितृपक्ष में इन नियमों के पालन से पितृ होंगे प्रसन्न

pitru-paksha-shraaddha-pind-daan-tarpan
श्राद्ध के दौरान खाने में लहसुन- प्याज का इस्तेमाल न करें बल्कि सात्विक भोजन ग्रहण करें। इसके अलावा मूली, मसूर की दाल, सरसों का साग, लौकी, चना, सत्तू, जीरा, काला नमक और खीरा के इस्तेमाल से भी बचें। मांस–मछली का सेवन भी पितृपक्ष में उचित नहीं है।

पितृपक्ष आ गया है लोग अपने पितरों का श्राद्ध विधिपूर्वक कर रहे हैं। लेकिन विधिवत श्राद्ध करने के साथ अगर आप प्रतिदिन घर में कुछ खास नियमों का पालन करेंगे तो आपक पितृ न केवल प्रसन्न होंगे बल्कि आपको आर्शीवाद भी देंगे। ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध में की गयी गलतियों से पितृ नाराज होकर चले जाते हैं और कभी वापस नहीं आते हैं। तो आइए हम ऐसी ही कुछ खास सावधानियों के बारे में जानकारी देते हैं। 

श्राद्ध के दौरान खाने में इन चीजों से करें परहेज

श्राद्ध के दौरान खाने में लहसुन-प्याज का इस्तेमाल न करें बल्कि सात्विक भोजन ग्रहण करें। इसके अलावा मूली, मसूर की दाल, सरसों का साग, लौकी, चना, सत्तू, जीरा, काला नमक और खीरा के इस्तेमाल से भी बचें। मांस–मछली का सेवन भी पितृपक्ष में उचित नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: महाभरणी पर होता है अविवाहित लोगों का श्राद्ध

ब्राह्मण को करें खुश

पितृपक्ष में श्राद्ध के समय ब्राह्मणों को भी भोजन कराएं और यथाशक्ति दान दें। ब्राह्मणों के भोजन के बाद घर में भी कुछ न खाएं। ब्राह्मणों को खीर या मिठाई जरूर खिलाएं। इसके अलावा ब्राह्मणों को लकड़ी, ऊन या कुशन की आसनी पर ही बैठाएं। ध्यान रखें लोहे के आसन पर ब्राह्मण को बैठाना उचित नहीं है। 


किसी जीव के साथ बुरा बर्ताव न करें

ऐसी मान्यता है कि पितृपक्ष के दौरान दरवाजे पर आए किसी भी अतिथि को न खाली हाथ न लौटाएं। उन्हें जरूर कुछ दान दे दें। ऐसा माना जाता है कि पितृपक्ष में पितृ अतिथि के रूप में आते हैं। इसके अलावा दिन में भोजन का कुछ हिस्सा कुत्ता, बिल्ली, कौवा और गाय को देना चाहिए क्योंकि इन जीवों को भोजन कराने से खाना सीधे पितरों के पास जाता है।

रिश्तों में बनाएं रखें सम्मान 

ब्राह्मणों के भोजन के बाद कुछ खास तरह के सम्बन्धों जैसे दामाद, गुरू, नाती और मामा को सम्मान दें। उन्हें प्रेमपूर्वक भोजन कराएं, उनकी प्रसन्नता से आप जीवन भर खुश रहेंगे। 

इसे भी पढ़ें: विधिवत तरीके से किए गए श्राद्ध से होते हैं पितृ प्रसन्न

शाम को जलाएं दीपक 

पितृपक्ष के दौरान सभी बातों के साथ इस बात का भी ख्याल रखें कि शाम को घर बाहर दीपक जलाकर रख दें। इसे घर में खुशहाली आती है और पितृ प्रसन्न होते हैं। यही नहीं घर के पास में किसी पीपल के पेड़ के करीब दीपक जलाएं। ऐसा माना जाता है कि पीपल के पेड़ में देवताओं का वास होता है और दीपक जलाने से पितृ प्रसन्न होते हैं। 

भोजन की थाली के साथ रखें सावधानी

पितृपक्ष के दौरान ब्राह्मणों को भोजन कराते समय थाली को दोनों हाथों से पकड़ें। अगर आप थाली को ढ़ंग से पकड़ते तो भोजन का अंश राक्षस के पास चला जाता है। ऐसे में ब्राह्मणों द्वारा किए गए भोजन को पितृ ग्रहण नहीं करते हैं। 

इसे भी पढ़ें: पितृ ऋण से मुक्ति का अवसर देता है श्राद्ध पक्ष, जानिये कुछ बड़ी बातें

पंचवली करें

पितृपक्ष में पंचवली का विशेष महत्व है। धार्मिक कथाओं के अनुसार पितृपक्ष में श्राद्ध करने के बाद पिंड दान और तर्पण करके पंचवली करने के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए। पंचवली के बिना श्राद्ध को पूर्ण नहीं माना जाता है। गाय को हमेशा पश्चिम दिशा में मुख कराके पत्ते पर देना चाहिए। कुत्ते को भोजन जमीन पर दिया जाता है। कौवे को पृथ्वी पर देवता, मनुष्य, यक्ष आदि को पत्ते पर खाना दिया जाता है। चीटियों और कीड़े, मकोड़े को पत्ते पर भोजन देना चाहिए।

प्रज्ञा पाण्डेय

अन्य न्यूज़