ज़िम्मेदारी निभाने के संजीदा तरीके (व्यंग्य)

neta
संतोष उत्सुक । Oct 31, 2020 5:44PM
विकास के साथ, अब ज़िम्मेदारी दफनाने के तरीके भी संजीदा हो गए हैं। निन्यानवे समस्याएँ इककठी होकर कुर्सियों के पास पहुँच ही जाएं तो उनके जवाबों का गुलदस्ता कुछ ऐसा होता है, हमारा सिस्टम कई दिन से खराब है, इंजीनियर बीमार है, रिपोर्ट लिखवा दी है।

किसी भी काम को करने के अनगिनत तरीके सुझाए जा सकते हैं, काम निबटाने के तो सौ से ज़्यादा नुक्ते भी हो सकते हैं। काम करने के सही और गलत रास्ते भी माने जाते रहे हैं। काम अच्छा है या बुरा यह सोच से जुड़ा अलग दिलचस्प विषय है। ज़िम्मेदारी बड़ी चीज़ है, राजनीतिक कुर्ता पाजामा पहनने वालों के दिन रात, हमेशा ज़िम्मेदारी से लबरेज़ रहते हैं। अक्सर सफ़ेद पाजामा और ब्रेंडिड सफ़ेद जूते पहनने वाले समाजसेवी गर्व सहित बताते हैं कि उनका काम भी बहुत मेहनत मांगता है। उन्हें ऐसी ड्रैस के आधा दर्जन जोड़े रखने पड़ते हैं। राजनीतिक प्रचार का खाना बांटने के लिए अक्सर बहुत गंदे, बदबू मारते लोगों के बीच जाना पड़ता है, इतना कि वापिस आकर गाड़ी भी सुगंधित शावर से धुलवानी पड़ती है और खुद भी ज़्यादा खुशबूदार बॉडी वाश से नहाना पड़ता है। गमछा तो दशकों से नाक पर ही रहता है। सच्ची प्रार्थनाओं के बदले इतने झूठे आश्वासन देने पड़ते हैं कि जीभ भी इन्कार करने लगती है। पुराने जमाने में हमारे शहर के विधायक के पास जब जान पहचान का ख़ास वोटर काम के पहुंच ही जाता था तो झट से लैंडलाइन पर नंबर घुमाकर फोन का चोगा उठाकर कह देते थे, इनको भेज रहा हूँ देख लीजिएगा, अपने आदमी हैं। वास्तव में वे अपने परिवारवालों को सरकारी नौकरियां दिलाने में बहुत बहुत मेहनत करने में ज़रा भी नहीं हिचकिचाते थे।

इसे भी पढ़ें: आंकड़ों के स्वादिष्ट पकौड़े (व्यंग्य)

विकास के साथ, अब ज़िम्मेदारी दफनाने के तरीके भी संजीदा हो गए हैं। निन्यानवे समस्याएँ इककठी होकर कुर्सियों के पास पहुँच ही जाएं तो उनके जवाबों का गुलदस्ता कुछ ऐसा होता है, हमारा सिस्टम कई दिन से खराब है, इंजीनियर बीमार है, रिपोर्ट लिखवा दी है। इस शिकायत की जानकारी हमें नहीं है, समस्या का समाधान शीघ्र कर दिया जाएगा। मामला कभी हमारे संज्ञान में आया ही नहीं, किसी ने बताया क्यूँ नहीं। विशेषज्ञों की टीम अपनी विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेगी और लोकप्रिय सरकार के समक्ष रखी जाएगी। कोई बात नहीं, प्रस्ताव दोबारा भेजें, कुछ न कुछ अवश्य करेंगे। किसी ने बताया ही नहीं, हम तो चौबीस घंटे में समाधान कर देते और कोई विवाद भी न होने देते। हम इसको गंभीरता से ले रहे हैं जल्द फैसला करेंगे, पिछली सरकार के गलत फैसले पलटकर सही निर्णय लिए जाएंगे, जुर्माना वसूला जाएगा। जहां सीसीटीवी नहीं लगे, सख्त जांच करवाई जाएगी कि क्यूँ नहीं लगे। निर्देश न मानने वालों के खिलाफ एक्शन दिखेगा। एक दिन अखबार ने छापा कि फलां कमरे की चाभी नगरपालिका के पास है फिर भी कोई बंदा कई महीनों से वहां रह रहा है तो सरकारी अफसर ने ब्यान दिया, अभी किसी काम से बाहर आना पड़ा है इस बारे सही जानकारी नहीं दे सकता लेकिन उस व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कारवाई करते हुए सामान ज़ब्त किया जाएगा। एक और खबर ने बताया, नोटिस जारी किए गए थे, फिर जारी किए जा रहे हैं, भविष्य में भी जारी किए जाएंगे, किसी को भी कानून का उल्लंघन नहीं करने दिया जाएगा, पूरी छानबीन की जाएगी । यह कुछ ऐसा रहेगा कि प्रशासन सही सवाल करेगा और प्रशासन ही उचित जवाब देगा। कुछ दिन बाद, वही सधे हुए सवाल, फिर वही ठीक जवाब। काम करने वालों की परीक्षा खत्म, सब अव्वल नंबरों में पास हो जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: जब नए मंत्रीजी ने कोरोना पकड़ा (व्यंग्य)

सफल राजनीतिज्ञ ने ज़िम्मेदारी के साथ बताया कि पिछले दस साल से यह मुद्दा संसद में कई बार उठा चुका हूं, पीएम से व्यक्तिगत रूप से मिलकर भी मुद्दों को रखा है, पीएम के पास और भी मुद्दे हैं, शायद थोड़ा समय और लग जाए। करत करत अभ्यास के सब ठीक हो जाता है। ज़िम्मेदारी निभाना भी एक ज़रूरी काम है।

- संतोष उत्सुक

अन्य न्यूज़