कौन हैं प्रणय रॉय और राधिका रॉय? NDTV के डायरेक्‍टर पद से इस्तीफा के बाद अब आगे क्या

Prannoy Roy and Radhika Roy
Prabhasakshi
अभिनय आकाश । Nov 30, 2022 4:54PM
एनडीटीवी ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को प्रणय रॉय और राधिका रॉय के इस्तीफे की जानकारी दी है। इसमें बताया गया कि प्रणय और राधिका ने कंपनी के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया है और ये आज से ही प्रभावी होगा।

देश के लीडिंग मीडिया नेटवर्क में शुमार न्यू दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (एनडीटीवी) के संस्थापक प्रणय राय और राधिका राय ने आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड से इस्तीफा दे दिया है। एनडीटीवी ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को प्रणय रॉय और राधिका रॉय के इस्तीफे की जानकारी दी है। इसमें बताया गया कि प्रणय और राधिका ने कंपनी के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया है और ये आज से ही प्रभावी होगा। प्रणय और राधिका के इस्तीफे के बाद सुदीप्त भट्टाचार्य, संजय पुगलिया और सेंथिल सिन्नैया चेंगलवारायण को तत्काल प्रभाव से आरआर होल्डिंग पीआर प्राइवेट लिमिटेड में बोर्ड में डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। अडानी ग्रुप ने 29 नवंबर को एनडीटीवी ग्रुप में 29.18 प्रतिशत हिस्सा हासिल कर लिया था। एनडीटीवी की प्रमोटर कंपनी ने शेयरों को अडानी ग्रुप के स्वामित्व वाली वीसीपीएल को ट्रांसफर कर दिए हैं। इन शेयरों के ट्रांसफर से अडानी ग्रुप को एनडीटीवी में 29.18 फीसदी हिस्सेदारी मिल जाएगी। वहीं अडानी ग्रप ने एनडीटीवी में और 26 फीसदी हिस्सेदारी के लिए मार्केट में ओपन ऑफर लाने का ऐलान किया था। इसके साथ ही अडानी ग्रुप ने 25 फीसदी हिस्सेदारी के लिए भी खुली पेशकश की जो 5 दिसंबर तक समाप्त हो जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: सेबी ने एनडीटीवी में 26 प्रतिशत अतिरिक्त हिस्सेदारी की खरीद को मंजूरी दी

एनडीटीवी अधिग्रहण: यह सब कैसे शुरू हुआ?

2009 और 2010 में वीसीपीएल ने रॉय के स्वामित्व वाली आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड को 403.85 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त ऋण दिया। इस ऋण के विरुद्ध, आरआरपीआर ने वीसीपीएल को वारंट जारी किया, जिसने वीसीपीएल को आरआरपीआर में 99.9 प्रतिशत हिस्सेदारी में परिवर्तित करने का अधिकार दिया। अडानी उस समय पूरे परिदृश्य में नहीं थे। आरआरपीआर को ऋण देने के लिए, वीसीपीएल ने मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी रिलायंस स्ट्रैटेजिक वेंचर्स से धन जुटाया था। 23 अगस्त को अडानी समूह ने घोषणा की कि उसके प्रमुख अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की सहायक कंपनी एएमजी मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड ने वीसीपीएल को 113.75 करोड़ रुपये में खरीदा था। तब तक कर्ज नहीं चुकाया था। एनडीटीवी लिमिटेड ने तब स्टॉक एक्सचेंजों को दिए एक बयान में कहा था कि सीपीएल नोटिस उन्हें "एनडीटीवी या इसके संस्थापक-प्रवर्तकों के साथ किसी भी चर्चा के बिना" दिया गया था। बयान में कहा गया कि एनडीटीवी या इसके संस्थापक-प्रवर्तकों के साथ किसी भी चर्चा के बिना, वीसीपीएल द्वारा उन्हें एक नोटिस दिया गया है, जिसमें कहा गया है कि इसने (वीसीपीएल) ने आरआरपीआर के 99.50% नियंत्रण हासिल करने के अपने अधिकारों का प्रयोग किया है, जो प्रमोटर के स्वामित्व वाली कंपनी है जो 29.18% का मालिक है। 

इसे भी पढ़ें: आबकारी नीति मामला: सीएम केजरीवाल बोले- CBI की चार्जशीट में सिसोदिया का नाम नहीं, केस फर्जी

कौन हैं प्रणय और राधिका रॉय?

प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने मिलकर भारत का पहला घरेलू निजी अंग्रेजी टीवी समाचार चैनल कहा जा सकता है। राधिका रॉय को एक रणनीतिकार माना जाता है और वे ढाई दशक से अधिक समय से एनडीटीवी की विकास गाथा में शामिल रहीं। राधिका रॉय का जन्म 7 मई 1949 को हुआ था। उनकी बहन बृंदा करात राज्यसभा सदस्य और सीपीआई (एम) की राजनेता हैं। राधिका वेल्हम गर्ल्स स्कूल में पढ़ाई की और देहरादून में उनकी मुलाकात प्रणय रॉय से हुई, जो दून स्कूल में पढ़ रहे थे और अपनी मुक्केबाजी प्रतिभा के लिए बहुत प्रसिद्ध थे। रॉय ने प्रिंट पत्रकारिता में अपना करियर शुरू किया और इंडियन एक्सप्रेस और इंडिया टुडे जैसे प्रकाशनों के लिए लिखा। प्रिंट पत्रकारिता में लगभग एक दशक तक काम करने के बाद, उन्होंने प्रणय रॉय के साथ नई दिल्ली टेलीविजन (एनडीटीवी) लॉन्च किया। राधिका रॉय ने न्यूयॉर्क से पत्रकारिता की। उन्होंने नई दिल्ली के मिरांडा हाउस में पढ़ाई की। प्रणय रॉय ने अक्सर कहा है कि चैनल के निर्माण में राधिका रॉय 'मार्गदर्शक शक्ति' थीं। 

इसे भी पढ़ें: 'मेघालय बॉर्डर पर फायरिंग की CBI से कराएं जांच', असम सरकार ने केंद्र को भेजा पत्र, जानें दोनों राज्यों के CM ने क्या कहा

अब आगे क्या? 

फाइनेंशियल टाइम्स को दिए इंटरव्यू में अडानी ने बताया था कि एनडीटीवी को खरीदना एक व्यावसायिक अवसर नहीं बल्कि उनकी जिम्मेदारी थी। इस दौरान उन्होंने कहा था कि आजादी का मतलब सही को सही और गलत को गलत कहना है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने कुछ गलत किया है तो आप कहे कि ये गलत है। वहीं सरकार अगर कुछ अच्छा कर रही है तो आपके पास उसे अच्छा कहने का भी साहस होना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने एनडीटीवी के संस्थापक प्रणय राय को भी इसके प्रमुख बने रहने के लिए आमंत्रित किया था।  

अन्य न्यूज़