दूध की कीमतों में लगातार क्यों हो रही है वृद्धि? वो 3 कारण जिनकी वजह से पांच महीने में दूसरी बार बढ़े दाम

milk
prabhasakshi
अभिनय आकाश । Aug 18, 2022 4:33PM
अमूल ब्रॉन्ड नाम से दूध बेचने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी गुजरात कॉपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन ने दूध की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर की बढोतरी का ऐलान किया है।

आंकड़ों में महंगाई भले ही कम दिखने लगी हो लेकिन खाने-पीने की चीजों की महंगाई ने आम लोगों को रुला रखा है। बुधवार यानी 17 अगस्त को आप में से कई लोगों ने महंगाई की इस तपिश को महसूस किया होगा। दरअसल, अमूल ब्रॉन्ड नाम से दूध बेचने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी गुजरात कॉपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन ने दूध की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर की बढोतरी का ऐलान किया है। 16 अगस्त को प्रेस रिलीज जारी कर कंपनी ने दूध की कीमतों में बढ़ोतरी की घोषणा की है। पिछले 6 महीने में कंपनियों ने दूध की कीमतों में दूसरी बार बढ़ोतरी के पीछे क्या तर्क दिया है। साथ ही जानेंगे कि वो 3 कारण जिनकी वजह से जल्द महंगा हो रहा है दूध। 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रध्वज तिरंगे की प्रतिष्ठा बनाये रखने के लिए आरएसएस ने कई बार दिया है बलिदान

कंपनी की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि उन्होंने देशभर में ताजा दूध के खुदरा मूल्य में 2 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि करने का फैसला किया है। इस बढोतरी के बाद यूपी में 1 लीटर टोंड अमूल दूध का दाम 49 रुपये से बढ़कर 51 रुपये प्रति लीटर हो गया। इसी तरह से कंपनी का अमूल गोल्ड दूध 59 रुपये से बढ़कर 61 रुपये प्रति लीटर हो गया है।इसके अलावा दिल्ली और आसपास के इलाकों में दूध बेचने वाली कंपनी मदर डेयरी ने भी अपने दूध की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर की  बढ़ोतरी कर दी है।  अमूल ने कहा कि एमआरपी में इसकी कीमत में वृद्धि 4% है, जो मुद्रास्फीति की मौजूदा दर से कम है। कारणों की व्याख्या करते हुए, इसने कहा: “यह मूल्य वृद्धि दूध के संचालन और उत्पादन की समग्र लागत में वृद्धि के कारण की जा रही है। पिछले वर्ष की तुलना में अकेले पशु आहार लागत में लगभग 20% की वृद्धि हुई है। इनपुट लागत में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए, हमारे सदस्य संघों ने भी पिछले वर्ष की तुलना में 8-9% की सीमा में किसानों की कीमत में वृद्धि की है। 

उत्पादन में गिरावट

इंदापुर डेयरी एंड डेयरी प्रोडक्ट्स लिमिटेड के चेयरमैन दशरथ माने ने कहा कि देश भर की डेयरियां दूध संग्रह में 8-10% की कमी दर्ज कर रही हैं। पुणे स्थित इस डायरी ने हाल ही में किसानों को भुगतान की जाने वाली कीमत बढ़ा दी है। माने ने कहा कि हमारी डेयरी अब प्रति दिन 20 लाख लीटर दूध का संग्रह कर रही है, जबकि पिछले साल अगस्त में यह 23 लाख लीटर प्रतिदिन थी। यह कमी मुख्य कारण है कि हमने कीमतें क्यों बढ़ाई हैं। 

इसे भी पढ़ें: कौन हैं बिलकिस बानो, जिनका 2002 के गुजरात दंगों के दौरान सामूहिक बलात्कार हुआ था? ऐसे छूट गए गैंगरेप के 11 गुनहगार

पशु चारा लागत में वृद्धि

दुग्ध उत्पादन में कमी पशु चारे की बढ़ती लागत के कारण आई है। माने ने कहा कि देश के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण हरे चारे की पैदावार कम हुई है। उन्होंने कहा कि “प्रोटीन और खनिज मिश्रणों की कीमतों में भी वृद्धि देखी गई है, जिससे मवेशियों के चारे की लागत बढ़ गई है। फ्रांसीसी डेयरी दिग्गज लैक्टालिस प्रभात के सीईओ राजीव मित्रा ने कहा: “दूध की उत्पादन लागत बढ़ गई है। अकेले मवेशियों के चारे की कीमत 25 फीसदी से ज्यादा बढ़ गई है। 'कमोडिटी एक्सचेंज एनसीडीईएक्स पर 5 जनवरी को जनवरी वायदा के लिए कपास खल का भाव 3300 रुपए प्रति क्विंटल दर्ज किया गया जबकि पिछले साल 5 जनवरी को भाव 2100 रुपए के करीब था।

मवेशियों में रोग

कुछ प्रमुख दूध उत्पादक राज्यों में मवेशियों में बीमारी के मामलों में वृद्धि देखी गई है। ढेलेदार त्वचा रोग, जिसके कारण दूध उत्पादन में गिरावट आती है, गुजरात, पंजाब और हरियाणा में सूचित किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: 2,106 लोगों की हत्या, 5 लाख पलायन, 80 % बच्चे सोते हैं भूखे पेट, तालिबान का जश्न और आम लोगों की बेबसी, कहां हैं सालेह और गनी?

अन्य कारक

परिवहन, रसद, जनशक्ति और ऊर्जा लागत में भी वृद्धि हुई है। मित्रा ने कहा, "इनपुट लागत में वृद्धि के कारण दूध खरीद दरों में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 15-25% की वृद्धि हुई है।"

मांग-आपूर्ति 

महामारी प्रभावित डेयरी उद्योग ने पूरी तरह से ठीक होने की सूचना दी है। पिछले साल की तुलना में इस साल लिक्विड मिल्क की डिमांड भी ज्यादा है। लेकिन देश की अधिकांश डेयरियों में स्किम्ड मिल्क पाउडर (एसएमपी) और सफेद मक्खन की आपूर्ति कम है। डेयरियों ने अक्टूबर से पहले दूध की कीमतों में और वृद्धि का संकेत दिया है, जब उत्पादन में तेजी आने की उम्मीद है।- अभिनय आकाश

अन्य न्यूज़