नोटों की गड्डी से भरी अलमारी में रखे मिले142 करोड़ रुपये, इनकम टैक्स ने की छापेमारी; तस्वीर हो रही वायरल

नोटों की गड्डी से भरी अलमारी में रखे मिले142 करोड़ रुपये, इनकम टैक्स ने की छापेमारी; तस्वीर हो रही वायरल

तस्वीरों को देख कई लोग अपना-अपना रिएक्शन दे रहे है जिसमें से एक गब्बर सिंह नाम के ट्विटर यूजर ने अलमारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा है कि, हैदराबाद में एक दवा कंपनी पर आयकर विभाग की रेड से ये खुलासा हुआ। ये देखकर मुझे लगता है कि उन्होंने लॉकर में कपड़ों को रखा होगा।

आयकर विभाग ने एक छापेमारी की है जिसकी तस्वीर अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। इस फोटो में एक अलमारी दिखाई दे रही है जिसको देख शायद आप भी हैरान हो सकते है क्योंकि इस अलमारी में कपड़े नहीं बल्कि 142 करोड़ से भी अधिक नकदी भर कर रखी हुई है। इस नोटों की गड्डी से भरी अलमारी की तस्वीर को देख इंटरनेट यूजर खूब मजे ले रहे है और ट्वीट पर ट्वीट किए जा रहे है। तो आइये जान लेते है क्या है पूरा मामला और आखिर क्या है इस तस्वीर के पीछे की कहानी जो सोशल मीडिया पर लोगों के लिए दिलचस्पी पैदा कर रही है।

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें कि आयकर विभाग ने 550 करोड़ की संपत्ति के खुलासे का दावा किया है। हैदराबाद की प्रमुख दवा कंपनी पर आयकर विभाग ने 6 अक्टूबर को छापेमारी की थी क्योंकि कपंनी ने अपने आय के स्रोत की जानकारी नहीं दी थी जिसके बाद इनकम टैक्स विभाग ने कंपनी पर छापा मारा जिसमें 142.87 करोड़ रुपये जब्त किए गए। आधिकारिक बयान में इनकम टैक्स विभाग ने बताया कि,  फार्मास्युटिकल समूह मध्यवर्ती बनाने में शामिल है और अब नोटों से भरी अलमारी का मामला सामने आने के बाद यह एक चर्चा का विषय बन गया। तस्वीरों को देख कई लोग अपना-अपना रिएक्शन दे रहे है जिसमें से एक गब्बर सिंह नाम के ट्विटर यूजर ने अलमारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा है कि, हैदराबाद में एक दवा कंपनी पर आयकर विभाग की रेड से ये खुलासा हुआ। ये देखकर मुझे लगता है कि उन्होंने लॉकर में कपड़ों को रखा होगा।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में आयकर विभाग ने रियल स्टेट कारोबारियों के खिलाफ छापेमारी की

नोटों से भरी अलमारी पर मिल रहे है कई रिएक्शन

हैदराबाद के फार्मा कंपनी के यहां छापेमारी के बाद सोशल मीडिया में कई तस्वीरें सामने आई हैं जिसमें कैश से भरी अलमारी को लोग देख काफी हैरान हो रहे है। फोटो को पोस्ट करते हुए यूजर लिख रहे है कि, 'यही अलमारी चाहिए', तो किसी ने फोटो को पोस्ट कर अमल नाम के युजर ने लिखा कि, बेहद अफसोस की बात है, अगर उन्होंने 2000 रुपये के नोट का इस्तेमाल किया होता तो 75 फीसदी जगह में वे कपड़े भी रख सकते थे। कई युजर्स ने इस घटना को नोटबंदी से जोड़ा और लिखा कि, नोटों के रंग बदल गए लेकिन लोगों के रंग कब बदलेंगे।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।