मध्य प्रदेश में एक दिन में 173 कोरोना मरीज बढ़े, इंदौर, भोपाल के बाद खंडवा और खरगौन में बढ़े मरीज

मध्य प्रदेश में एक दिन में 173 कोरोना मरीज बढ़े,  इंदौर, भोपाल के बाद खंडवा और खरगौन में बढ़े मरीज

जिन शहरों बुधवार को कोरोना पॉजिटिव बढे़ है उनमें इंदौर, भोपाल, खरगौन, उज्जैन, धार, खंड़वा, जबलपुर, रायसेन, होशंगाबाद, देवास और आगर-मालवा शामिल है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2387 से बढ़कर 2560 हो गई है। राज्य में एक दिन में 173 कोरोना संक्रमित मरीज मिले है। जो एक दिन पहले के 222 के आंकड़े से 49 कम है। इंदौर, भोपाल, और उज्जैन के बाद अब खंड़वा और खरगौन भी कोरोना हॉटस्पॉट बनते जा रहे है। जहाँ खंड़वा में एक दिन में 10 कोरोना पॉजिटिव मिले है तो वही खरगोन में 09 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार शाम को जारी रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में कोरोना पॉजिटिवों की संख्या ढाई हजार के पार हो गई है। जबकि 51 कोरोना मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है। राज्य में अब तक कोरोना संक्रमण की वजह से 130 लोगों की मौत हो चुकी है जो एक दिन पहले के मुकाबले 10 अधिक है। बुधवार 29 अप्रैल 2020 को स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश के इंदौर में 1372 से बढ़कर 1476,  भोपाल 458 से बढ़कर 486, खंडवा 36 से बढ़कर 46, खरगौन 61 से बढ़कर 70 और उज्जैन में 123 से बढ़कर 127 कोरोना पॉजिटिव मरीज हो गए है। मंगलवार 28 अप्रैल 2020 को स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी है कि आज तक 33837 सेंपल रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिसमें 2560 पॉजिटिव और 29261 निगेटिव रिपोर्ट आई है। 

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में ई-पास के जरिए लोग अपने प्रदेश आ और जा सकेंगे, भोपाल, इंदौर और उज्जैन के लिए जारी नहीं होगें पास

राज्य के कोरोना हॉटस्पॉट बने इंदौर,  भोपाल,  और उज्जैन के बाद खरगौन और खंडवा  भी इसमें शामिल हो गए हैं। जहाँ बुधवार को भी इंदौर में सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीजों मिले यहाँ 104  कोरोना संक्रमित पाए गए, तो भोपाल में 25 , खंडवा में 10, खरगौन में 09 तो उज्जैन दूसरे दिन भी 04 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। मंगलवार को कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतों का आंकड़ा 120 था जो बुधवार को बढ़कर 130 हो गया। एक दिन में ही कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या एक दिन बाद फिर 10 हो गई है। इंदौर में एक दिन में कोरोना संक्रमण से 63 से बढ़कर 65 मौतें, भोपाल में 13 से बढ़कर 14,  उज्जैन में 20 से बढ़कर 23, खरगोन में 06 से बढ़कर 07, खंडवा में 01 से बढ़कर 03 और रायसेन में 01 से बढ़कर 02 मौतें हुई है। इस दौरान बुधवार को ही भोपाल में कोरोना संक्रमित हुए 14 लोगों को पूर्ण स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। 

इसे भी पढ़ें: उज्जैन में कोरोना टेस्ट करवाने गए मजदूरों पर चढ़ा ट्रक, तीन मजदूरों की मौके पर ही मौत

मध्य प्रदेश में बुधवार 29 अप्रैल 2020 को 173 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। जबकि प्रदेश के 31 जिले कोरोना संक्रमण की जद में आ चुके है। बुधवार को इंदौर में 1476, भोपाल में 483, खरगोन 70, उज्जैन 127, धार 48, खंडवा 46, जबलपुर 78, रायसेन 47, होशंगाबाद 35, बड़वानी 24, देवास 24, मुरैना 13, विदिशा 13, रतलाम 13, मंदसौर 09, आगर-मालवा 12, शाजापुर 06, सागर 05, ग्वालियर 04, श्योपुर 04, छिंदवाड़ा 05, अलीराजपुर 03, शिवपुरी 02, टीकमगढ़ 02, बैतूल 01, डिंडौरी 01, हरदा 01, बुरहानपुर 01, अशोकनगर 01, शहडोल 02, रीवा 02, तथा अन्य राज्य से आया एक मरीज मध्यप्रदेश में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जिन शहरों बुधवार को कोरोना पॉजिटिव बढे़ है उनमें इंदौर, भोपाल, खरगौन, उज्जैन, धार, खंड़वा, जबलपुर, रायसेन, होशंगाबाद, देवास और आगर-मालवा शामिल है।  

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में सार्वजनिक स्थान में थूकने पर लगा 1000 रूपए का जुर्माना, दो दिन पहले ही राज्य सरकार ने किए है आदेश जारी

इस दौरान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दावा किया है कि राज्य में हर दिन चार हजार कोरोना टेस्टिंग हो रही है, जो राष्ट्रीय औसत से अधिक है। पर्याप्त टेस्टिंग किट प्राप्त हो जाने से यह संभव हो सका है। मुख्यमंत्री ने राज्य मंत्रालय में अधिकारीयों के साथ हुई बैठक के बाद यह बात कही। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य में कोरोना के नियंत्रण के प्रयासों में निरंतर सफलता मिल रही है। जिसके चलते ही राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है कि पूरी सावधानी, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ 30 अप्रैल से राज्य मंत्रालय, सतपुड़ा, विंध्याचल और अन्य राज्यस्तरीय कार्यालय 30 प्रतिशत अधिकारियों-कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ प्रारंभ होंगे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।