यूक्रेन में मंडरा रहा युद्ध का खतरा ! 242 भारतीयों को लेकर IGI एयरपोर्ट पहुंचा एयर इंडिया का विमान

यूक्रेन में मंडरा रहा युद्ध का खतरा ! 242 भारतीयों को लेकर IGI एयरपोर्ट पहुंचा एयर इंडिया का विमान
प्रतिरूप फोटो

भारत सरकार ने एयर इंडिया के विमान से यूक्रेन में रहने वाले 242 भारतीयों की सुरक्षित वतन वापसी कराई। इसके बाद अब 24 और 26 फरवरी को एयर इंडिया का विमान यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के लिए उड़ान भरेगा।

नयी दिल्ली। यूक्रेन संकट के बीच भारत सरकार ने कीव में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए मिशन शुरू कर दिया है। इसी क्रम में मंगलवार को एयर इंडिया का विमान एआई1946 कीव से 242 भारतीयों को लेकर स्वदेश लौटा। आपको बता दें कि एयर इंडिया के विमान को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रात 10 बजकर 15 मिनट पर लैंड करना था लेकिन उड़ान में देरी के चलते विमान रात 11 बजकर 30 मिनट पर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयर पोर्ट में उतरा। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन संकट के बीच पुतिन को मिला रूसी सांसदों का साथ, एकसुर में सभी ने देश के बाहर सेना के इस्तेमाल की दी मंजूरी 

भारत सरकार ने एयर इंडिया के विमान से यूक्रेन में रहने वाले 242 भारतीयों की सुरक्षित वतन वापसी कराई। इसके बाद अब 24 और 26 फरवरी को एयर इंडिया का विमान यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के लिए उड़ान भरेगा। दरअसल, यूक्रेन पर युद्ध का संकट मंडरा रहा है। इसके साथ रूसी संसद ने सेना को देश के बाहर इस्तेमाल किए जाने की भी मंजूरी दे दी है। रूसी सेना के देश के बाहर इस्तेमाल के लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अनुमति मांगी थी।

इस हफ्ते संचालित होंगी 3 उड़ानें

एयर इंडिया ने शुक्रवार को ट्वीट किया था कि एयर इंडिया 22, 24 और 26 फरवरी को भारत-यूक्रेन के बीच 3 उड़ानें संचालित करेगी, बुकिंग एयर इंडिया के कार्यालयों, वेबसाइट, कॉल सेंटर और अधिकृत ट्रैवल एजेंटों के माध्यम से खुली है। 

इसे भी पढ़ें: रूस-यूक्रेन तनाव बढ़ने से सेंसेक्स 383 अंक लुढ़कार 57,300 पर हुआ बंद, जानिए निफ्टी का भी हाल 

छात्रों से वतन लौटने की अपील

भारत ने एक बार फिर से मंगलवार को भारतीय छात्रों से यूक्रेन छोड़ने की अपील की है। राजधानी कीव स्थित भारतीय दूतावास ने एक एडवाइजरी जारी कर छात्रों से तत्काल प्रभाव से यूक्रेन छोड़ने की अपील की। भारतीय दूतावास ने एडवाइजरी की एक कॉपी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर साझा की है। जिसमें कहा गया है कि भारतीय छात्रों को ऑनलाइन कक्षाओं को इंतजार छोड़कर वापस अपने देश में लौट जाना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।