Uttarakhand Bus Accident: पौड़ी गढ़वाल बस हादसे में अब तक 32 की मौत, SDRF ने खाई में गिरे 21 लोगों को बचाया, घटनास्थल पर पहुंचे सीएम धामी

Garhwal
ANI
रेनू तिवारी । Oct 05, 2022 10:57AM
उत्तराखंड में एक बस के खाई में गिरने से कम से कम 25 लोगों की मौत हो गई है। रिपोर्ट के अनुसार बस के अंदर 40-50 से अधिक लोग सवार थे। पौड़ी गढ़वाल जिले के रिखनीखाल-बिरोखाल मार्ग पर मंगलवार को बस 500 मीटर की खाई में गिर गई।

उत्तराखंड में एक बस के खाई में गिरने से कम से कम 32 लोगों की मौत हो गई है। रिपोर्ट के अनुसार बस के अंदर 40-50 से अधिक लोग सवार थे। पौड़ी गढ़वाल जिले के रिखनीखाल-बिरोखाल मार्ग पर मंगलवार को बस 500 मीटर की खाई में गिर गई। बस में बच्चों समेत 40-50 से अधिक लोगों के सवार होने की खबर है। राज्य पुलिस ने कहा कि अब तक 20 लोगों को बचा लिया गया है और बचाव अभियान अभी भी जारी है। माना जा रहा है कि यह बस शादी से बरातियों को लेकर आ रही थी।

इसे भी पढ़ें: निर्धारित उड़ान छूटने से हेटमायर वेस्टइंडीज की टी20 विश्व कप टीम से बाहर

उत्तराखंड पुलिस ने एक ट्वीट में कहा, अब तक मिली जानकारी के मुताबिक इस हादसे में 25 लोगों की मौत हो चुकी है। 20 लोगों को बचा लिया गया है और अस्पताल भेजा गया है, जिनमें से कुछ गंभीर रूप से घायल हैं।

मौत के यह आंकड़े रात के हैं लेकिन आज तक की रिपोर्ट के अनुसार अब तक 32 लोगों ने इस हादसे में अपनी जान गवां दी है।

डीजीपी अशोक कुमार ने भी समाचार एजेंसी एएनआई को इसकी पुष्टि की और कहा धुमाकोट के बिरोखल इलाके में कल रात हुई पौड़ी गढ़वाल बस दुर्घटना में 25 लोग मृत पाए गए। एसडीआरएफ (राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल) की चार टीमों के बारे में पता चला है। बचाव कार्यों के समन्वय के लिए दुर्घटना स्थल।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रीय खेल: राम बाबू ने पुरुषों की 35 किमी पैदल चाल में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया

एएनआई ने हरिद्वार के एसपी के हवाले से बताया कि एक बारात हरिद्वार के लाल ढांग इलाके से हादसे की चपेट में आई बस से निकली थी। स्वतंत्र कुमार सिंह ने कहा, परिवार के सदस्यों से जानकारी ली जा रही है। पौड़ी पुलिस और एसडीआरएफ द्वारा अभी भी बचाव अभियान जारी है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य आपदा प्रबंधन केंद्र को लगातार स्थिति पर नजर रखने को कहा था. “राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की टीमों को दुर्घटनास्थल के लिए जुटाया गया था। हम सभी सुविधाएं दुर्घटनास्थल तक पहुंचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। स्थानीय ग्रामीण बचाव अभियान में मदद कर रहे हैं।"

यह घटना उस दिन हुई जब प्रशिक्षु पर्वतारोहियों का एक समूह हिमस्खलन की चपेट में आ गया था। अब तक कम से कम चार लोगों की मौत हो चुकी है।

अन्य न्यूज़