पाकिस्तान की खुली पोल! मृत घोषित 26/11 मुंबई हमले का मास्टर माइंड साजिद मीर जिंदा, 15 साल के लिए भेजा गया जेल

 Sajid Mir
ANI
रेनू तिवारी । Jun 25, 2022 9:27AM
पाकिस्तानी अधिकारियों ने पश्चिमी वार्ताकारों को सूचित किया है कि 2008 के मुंबई हमलों को निर्देशित करने में शामिल लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के एक शीर्ष सदस्य साजिद मीर को गिरफ्तार किया गया था और इस साल आठ साल की जेल की सजा दी गई थी।

पाकिस्तान की एक आतंकवाद-रोधी अदालत ने 2008 के मुंबई हमले के एक साजिशकर्ता को आतंकवाद के वित्तपोषण के एक मामले में 15 साल से अधिक की जेल की सजा सुनाई है। पाकिस्तान की तरफ से इस खुंखार आतंकी को छुपाने के लंबे समय से कोशिश की जा रही थी। मीर को पाकिस्तान के अधिकारियों ने डेड घोषित किया था लेकि यह आतंकी वहीं छुपा बैठा था। अब आखिरकार जांच एजेंसी से इसे गिरफ्तार किया और 15 साल की जेल की सजा सुनाई गयी।

इसे भी पढ़ें: भाजपा, शिवसेना को समाप्त करना चाहती है क्योंकि वह हिंदू वोट बैंक को साझा नहीं करना चाहती: उद्धव ठाकरे

पाकिस्तानी अधिकारियों ने पश्चिमी वार्ताकारों को सूचित किया है कि 2008 के मुंबई हमलों को निर्देशित करने में शामिल लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के एक शीर्ष सदस्य साजिद मीर को गिरफ्तार किया गया था और इस साल आठ साल की जेल की सजा दी गई थी, इस मामले से परिचित लोग शुक्रवार को कहा पाकिस्तानी प्रतिष्ठान के पहले के दावे से एक बदलाव कि साजिद मीर उर्फ ​​साजिद माजिद कुछ समय पहले "मृत्यु" हो गया। पंजाब पुलिस का आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी), जो मीडिया को ऐसे मामलों में दोषसिद्धि की जानकारी साझा करता है, ने आतंकवाद के वित्तपोषण के मामले में मीर की दोषसिद्धि की सूचना नहीं दी थी।

इसे भी पढ़ें: शिवसेना ने अयोग्य करार देने के लिए चार और विधायकों के नाम विधानसभा उपाध्यक्ष को भेजे

पंजाब पुलिस का आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी), जो मीडिया को ऐसे मामलों में दोषसिद्धि की जानकारी साझा करता है, ने आतंकवाद के वित्तपोषण के मामले में मीर की दोषसिद्धि की सूचना नहीं दी थी। 

साजिद मीर 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों में कथित संलिप्तता का आरोपी है। उसे अपनी सर्वाधिक वांछित सूची में रखने के अलावा, फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI), जो कि संयुक्त राज्य की घरेलू खुफिया सेवा है, ने उसे पकड़ने के लिए 5 मिलियन अमरीकी डालर का इनाम देने की पेशकश की थी।

पाकिस्तानी अधिकारियों ने लंबे समय से दावा किया है कि मीर मर चुका है। जब भी पश्चिमी अधिकारियों ने उसके बारे में पूछताछ की तो यह उनकी मानक प्रतिक्रिया थी। घटनाक्रम से परिचित लोगों ने कहा कि पिछले साल पाकिस्तान पर मीर की मौत का सबूत देने का दबाव तेज हो गया था। एक फोरेंसिक ऑडिट के साथ-साथ मीर की मृत्यु के समय और उस स्थान के बारे में विवरण का अनुरोध किया गया जहां उसकी मृत्यु हुई थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़